Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

घर में सुख समृद्धि बढ़ाने के लिए जानें गेंदा का पौधा लगाने का सही तरीका

पूजा-पाठ के लिए हम अक्सर गेंदे के फूलों की माला का उपयोग करते हैं। साथ ही इसका इस्तेमाल त्योहारों में घर की साज-सज्जा में भी किया जाता है। आप चाहें तो गेंदे के इन फूलों से अपनी बगिया की खूबसूरती भी बढ़ा सकती हैं।

घर में सुख समृद्धि बढ़ाने के लिए ऐसे जानें गेंदा पौधा लगाने का सही तरीका
X
How to Grow And care Marrigold Plant In Hindi

पीले, संतरी और इन्हीं रंगों के अलग-अलग शेड वाले गेंदे के फूल आपकी बगिया को खूबसूरत बनाते हैं। यह एक ऐसा फूल है, जो पहले सिर्फ मैक्सिको में ही उगाया जाता था, आज यह दुनिया के ज्यादातर देशों में उगाया जाता है। इस फूल की सबसे बड़ी खूबी है कि इसे बहुत कम देखभाल में, कहीं भी, आसानी सेलगाया जा सकता है।




कई तरह की किस्में हैं मौजूद

अफ्रीकी, फ्रांसीसी मैरीगोल्ड को टैगिट्स कहा जाता है। अफ्रीकी मैरीगोल्ड का पौधा 2 से 5 फीट की लंबाई का होता है, इसके फूल पीले और नारंगी रंग के होते हैं।कहीं-कहीं इसका गहरा संतरी रंग गहरी लाली लिए होता है। फ्रेंच मैरीगोल्ड, जिसे टैगिट्स पैचूला कहा जाता है, इसकी भी कई किस्में होती हैं। इसका पौधा 5 से 18इंच तक लंबा होता है। इसमें पीले, संतरी और महोगनी रंग के फूल आते हैं, जिनका व्यास 2 इंच तक होता है। सिगनेट मैरीगोल्ड का इस्तेमाल व्यंजनों में केसरके स्थान पर किया जाता है। यह किस्म दूसरी मैरीगोल्ड से बिल्कुल अलग होती है। इसके फूल पीले और लाल रंग के होते हैं।

हाइब्रिड गेंदा है पॉपुलर

आजकल गेंदा को हाईब्रिड करके भी लगाया जाता है, जिसके फूल क्रीम, ब्रगंडी और अन्य रंगों के होते हैं। मैरीगोल्ड की अलग-अलग प्रजातियों की लंबाईअलग-अलग होती है। यह 4 से 6 इंच से लेकर 18 इंच तक लंबे होते हैं। यह सूरज की पूरी रोशनी में खिल उठते हैं और गर्मी के मौसम में खूब खिलते हैं।




ऐसे लगाएं गेंदा

यह एक ऐसा फूल है, जिसे ज्यादा देखभाल की जरूरत नहीं होती। मिट्टी का पीएच स्तर 6 होना चाहिए और इसे बहुत ज्यादा पानी की भी जरूरत नहीं होती। इसेबीज द्वारा उगाया जाता है। बीज बोने के 6 से 8 सप्ताह के भीतर इनके अंकुर फूट आते हैं। अगर खुले स्थान पर बीजों को डाल दिया जाता है तो सूरज की तेजधूप में ही यह उगने लगते हैं। इसके बीज नर्सरी से भी खरीदे जा सकते हैं।

उगने के बाद इन्हें नियमित पानी दें और ज्यादा दिन तक सूखा न रखें, ज्यादा गर्मी मेंइन्हें प्रतिदिन पानी दें। जमीन के भीतर अगर इनकी जड़ें मजबूत हो जाती हैं तो इन्हें गमलों में रोप सकते हैं। इन्हें ज्यादा खाद की जरूरत नहीं होती लेकिन बहुतकम खाद में भी इनके फूल पूरे नहीं खिलते। इनमें कीड़े लगने का खतरा नहीं होता, लेकिन इन्हें नमी से बचाना जरूरी होता है।




गार्डन बॉर्डर पर लगाएं

गेंदा यानी मैरीगोल्ड को बड़े गार्डन में बॉर्डर पर ज्यादा लगाया जाता है। इस तरह इसके रंग-बिरंगे फूल बगिया को खूबसूरती देते हैं। इन्हें दूसरे फूलों के बीच मेंलगाकर अपनी बगिया को रंग-बिरंगा बनाया जा सकता है। इन्हें कंटेनर में भी लगा सकते हैं।

लेखिका - अनु आर.

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story