Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

देवर भाभी के रिश्तों में आ गई है दूरी, तो करें ये छोटा सा काम

Relationship Tips : देवर भाभी का रिश्ता बेहद खास होता है। क्योंकि इस एक रिश्ते में मां जैसा प्यार और दुलार होता है, तो वहीं दोस्तों वाला अपनापन और समझदारी होता है। लेकिन कई बार गलतफहमी,अनजाने में हुई गलती या किसी तीसरे की वजह से रिश्ते में दरार आ जाती है। ऐसे में आज हम आपको देवर-भाभी के रिश्ते को बेहतर और मधुर बनाने के तरीके (Devar Bhabhi Improving Relationship Tips) बता रहे हैं।

देवर भाभी के रिश्तों में आ गई है दूरी, तो करें ये छोटा सा काम
X

Relationship Tips : देवर भाभी का रिश्ता बेहद खास होता है। क्योंकि इस एक रिश्ते में मां जैसा प्यार और दुलार होता है, तो वहीं दोस्तों वाला अपनापन और समझदारी होता है। लेकिन कई बार गलतफहमी,अनजाने में हुई गलती या किसी तीसरे की वजह से रिश्ते में दरार आ जाती है। ऐसे में आज हम आपको देवर-भाभी के रिश्ते को बेहतर और मधुर बनाने के तरीके बता रहे हैं।

देवर भाभी के रिश्ते को मधुर बनाने के तरीके :




1.अगर आपके देवर-भाभी के रिश्ते में किसी गलती की वजह से दरार आ गई है, तो उसे दूर करने के लिए अपनी तरफ से बात करने की पहल करें और बात करके अपना पक्ष समझाएं, अगर गलती है, तो गलती की माफी मांगकर रिश्ते को पहले जैसा बनाएं और एक-दूसरे की पसंद की कोई फेवरेट डिश खाएं और खिलाएं।

2. देवर भाभी का रिश्ते को आमतौर पर छेड़छाड़ का रिश्ता भी माना जाता है। इस रिश्ते में प्यार वाली नोंकझोंक होती है, तो कभी भाई-बहन जैसा रूठना मनाना भी। लेकिन अगर आपके रिश्ते में दूरियां आ गई हैं, तो उसे मिटाने की गलतफहमी पहल करें और साथ मिलकर परेशानी को सॉल्व करें और फिर मूड को हल्का करने और रिश्ते में मिठास घोलने के लिए साथ में शॉपिंग पर जाएं।

3.देवर-भाभी का रिश्ता घर में होते हुए भी दोस्ती वाला होता है। जिसमें दोनों ही लोग बिना किसी झिझक के अपनी निजी बातें, परेशानी को शेयर कर पाते हैं यहां तक की एक-दूसरे के सीक्रेट्स को भी संभाल कर रखते हैं। ऐसे में अगर आपके रिश्ते में दूरियां आ गई हैं और बोलचाल बंद हो गई है, तो हर परेशानी को दोस्तों की तरह खुलकर बात करके सुलझाएं और अपने पेचअप को सेलिब्रेट करें।

4.देवर-भाभी के रिश्ते में जहां दोस्तों सा छेड़छाड़ और मस्ती होती है, तो वहीं रिश्ते में मां जैसी सख्ती के साथ दुलार भी होता है। इसलिए हमेशा देवर को भाभी के रिश्ते की मर्यादा का भी पालन करना चाहिए यानि कि कभी भी मजाक में अनजाने में भी अपशब्द या कोई भद्दा कमेंट नहीं करना चाहिए। अगर आपका रिश्ते में कड़वाहट नहीं है, लेकिन बोलचाल बंद है, तो उसे शुरु करने के लिए पहल करते हुए कोई खास गिफ्ट दें। अगर दोनों में से कोई भी ऐसा न चाहे, तो उस फैसले को स्वीकारें और सामने वाले पर दबाव बनाने से बचें।

5.कई बार रिश्तों में खटास बच्चों की वजह से भी आ जाती है। अगर आप देवर-भाभी के रिश्ते में भी घर के बच्चों के व्यवहार को लेकर कड़वाहट या दरार आई है, तो ऐसे में आप एक-दूसरे की बात और पक्ष को ध्यान से सुनें और फिर बच्चों के व्यवहार को अलग करके रिश्ते की एक नई शुरुआत करें।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story