Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Devar Bhabhi ka Rishta : आखिर क्यों देवर-भाभी का रिश्ता अनोखा होता है, जानें यहां

Devar Bhabhi ka Rishta : वैसे तो सभी रिश्ते बेहद खास होते हैं, लेकिन शुरुआत में नई लड़की के लिए ससुराल (Sasural) में हर रिश्ता नया होता है। जिन्हें जानने और उनसे सामंजस्य बिठाने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। ऐसे में नई दुल्हन का साथी होता है पति का छोटा भाई यानि देवर (Devar)। आमतौर पर देवर-भाभी का रिश्ता (Devar Bhabhi Relationship) मां-बेटे जैसा होता है, मगर समय के साथ इस रिश्ते में दोस्ती (Friends) ने अपनी एक जगह बना ली है। अब देवर-भाभी का रिश्ता (Devar Bhabhi ka Rishta) कम और दोस्त या भाई-बहन का रिश्ता (Brother-Sister) बन गया है। ऐसे में आज हम आपको देवर-भाभी के रिश्ते को खास बनाने के तरीके (Devar Bhabhi Relationship Tips) और देवर-भाभी के रिश्ते के अनोखेपन के बारे में बता रहे हैं।

Devar Bhabhi ka Rishta  : आखिर क्यों देवर-भाभी का रिश्ता अनोखा होता है, जानें यहां
X
Devar Bhabhi ka Rishta Devar Bhabhi Relationship Tips in hindi

Devar Bhabhi ka Rishta : वैसे तो सभी रिश्ते बेहद खास होते हैं, लेकिन शुरुआत में नई लड़की के लिए ससुराल (sasural) में हर रिश्ता नया होता है। जिन्हें जानने और उनसे सामंजस्य बिठाने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। ऐसे में नई दुल्हन का साथी होता है पति का छोटा भाई यानि देवर (Devar)। आमतौर पर देवर-भाभी का रिश्ता (Devar Bhabhi Relationship) मां-बेटे जैसा होता है, मगर समय के साथ इस रिश्ते में दोस्ती (Friends) ने अपनी एक जगह बना ली है। अब देवर-भाभी का रिश्ता (Devar Bhabhi ka Rishta) कम और दोस्त या भाई-बहन का रिश्ता (Brother-Sister) बन गया है। ऐसे में आज हम आपको देवर-भाभी के रिश्ते को खास बनाने के तरीके (Devar Bhabhi Relationship Tips) और देवर-भाभी के रिश्ते के अनोखेपन के बारे में बता रहे हैं।

देवर-भाभी का अनोखा रिश्ता :




1. शुरुआत में देवर-भाभी को घुलने में थोड़ा समय जरूर लगता है, लेकिन कुछ समय अच्छे दोस्त बनने पर देवर-भाभी एक-दूसरे के सीक्रेट्स को छुपाने का काम भी करते हैं। इसके अलावा एक-दूसरे से हर छोटी-बड़ी बात को शेयर करना आसान हो जाता है। खासकर वो बातें जिन्हें वो पेरेंट्स या बड़े भाई से शेयर नहीं कर सकता।

2. देवर-भाभी के लिए ससुराल में एक भाई की भूमिका निभाता है यानि उसकी केयर करता है। अगर कभी भाई-भाभी के बीच झगड़ा होता है, तो ऐसे में कुछ मामलों को छोड़ कर अधिकतर देवर भाभी का साथ देते हैं और अपने भाई से लड़ाई तक कर लेते हैं।




3. देवर-भाभी का रिश्ता प्यार और हल्की छेड़छाड़ वाला भी होता है। ऐसे में अक्सर भाभियों को अपने देवर की शादी यानि देवरानी के बारे में जानने और उनको लाने का अलग क्रेज होता है। कई बार तो भाभी देवर को उनकी गर्लफ्रेंड के नाम से छेड़ना या मजाक भी करना भी पसंद करती हैं।

4. पति की गैर मौजदूगी में घर के कामों में हेल्प करने के लिए भाभी को हमेशा अपने देवर का साथ मिलता है। इसके बदले में भाभी देवर की शॉपिंग से लेकर हेयरस्टाइल सलेक्शन में मदद करती हैं। एक अच्छे दोस्त की तरह जिससे वो अपनी गर्लफ्रेंड के सामने परफेक्ट लग सके।

5. देवर भाभी का रिश्ते में प्यार और खट्टी-मिठ्ठी नोक-झोंक होना लाजमी है, लेकिन फिर भी दोनों को ही इस रिश्ते की मर्यादा को समझते हुए एक-दूसरे से व्यवहार और सम्मान करना चाहिए। कभी भी उनको क्रॉस नहीं करना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से न सिर्फ एक रिश्ता बल्कि परिवार में हमेशा के लिए दरार पड़ जाती है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story