Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मुंह के छालों को अब मुंह न लगाएं,अपनाएं ये घरेलू नुस्खे

हेरपेटीफार्म छाले अधिकतर 10 से 40 वर्ष तक की उम्र के लोगों में होते हैं इनका भी आकार अधिक बड़ा नहीं होता। इसे पिन प्वाइंट अल्सर के नाम से भी जाना जाता है।

मुंह के छालों को अब मुंह न लगाएं,अपनाएं ये घरेलू नुस्खे

मुंह में छालों का होना आम समस्या है, जो गालों के अंदर और जीभ पर होते हैं। ये छाले अधिक मसालेदार भोजन खाने, अचानक से गर्म खाद्य पदार्थ और पेयों का सेवन करने, दांतों की सफाई ठीक से न करने, एसिड युक्त भोजन खाने जैसे कारणों से होते हैं।

मुंह के छाले तीन प्रकार के होते हैं:

1.साधारण छाले अक्सर होते हैं। इनका आकार बड़ा नहीं होता और तकरीबन 8 से 10 दिन में ठीक भी हो जाते हैं।

2.गंभीर छाले 10 में से 9 व्यक्तियों को होते हैं। इनका आकार बड़ा होता है।

3.हेरपेटीफार्म छाले अधिकतर 10 से 40 वर्ष तक की उम्र के लोगों में होते हैं। इनका भी आकार अधिक बड़ा नहीं होता। इसे पिन प्वाइंट अल्सर के नाम से भी जाना जाता है।

छालों के कारण
1.आयुर्वेद के अनुसार मुँह में छाले पेट की खराबी तथा पेट की गरमी की वजह से होते हैं। बदहजमी इसका मूल कारण है।
2.कई बार कोई चीज खाते समय दांतों के बीच जीभ या गाल का हिस्सा आ जाता है, जिसकी वजह से छाले उत्पन्न हो जाते हैं। ऐसे छाले मुँह की लार से अपने-आप ठीक हो जाते हैं।
3. मुँह में छाले होने के कोई एक नहीं, अनेक कारण हैं। जरूरी नहीं कि जिस कारण से किसी एक को छाले हुए हों, दूसरे व्यक्ति को भी उसी कारण से हों। कई बार पेट की गर्मी से भी छाले हो जाते हैं।
4. एलोपैथिक दवाओं के दुष्प्रभाव (साइड इफेक्ट) की वजह से भी मुँह में छाले हो सकते हैं, विशेषकर लंबे समय तक एंटीबॉयोटिक दवाओं का इस्तेमाल करने से। अधिक मात्रा में एंटीबॉयोटिक का इस्तेमाल करने से हमारी आंतों में लाभदायक कीटाणुओं की संख्या घट जाती है। नतीजतन मुँह में छाले पैदा हो जाते हैं।

5.दाँतों की गलत संरचना की वजह से मुँह में छाले होना आम बात है। यदि दाँत आड़े-तिरछे, नुकीले या आधे टूटे हुए हैं और इसकी वजह से वे जीभ या मुँह में चुभते हैं या उनसे लगातार रगड़ लगती रहती है, तो वहाँ छाले उत्पन्न हो जाते हैं। यदि कोई तीखा दाँत लंबे समय तक जीभ या गाल से घर्षण करता रहे या चुभता रहे, इससे आगे चलकर कैन्सर होने की भी संभावना रहती है।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, घरेलु उपचारों से पायें निजात-
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top