Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इस वजह से 9 महीने से पहले ही हो जाता है शिशु का जन्म, करानी पड़ती है प्रीमैच्योर डिलीवरी

अक्सर ऐसा सुनने में आता है कि महिलाओं को प्रीमैच्योर डिलीवरी करानी पड़ी। कई कारणों की वजह से महिला की डिलीवरी 7 महीने या 8 महीने में ही हो जाती है। कई सारी स्वास्थ्य संबंधी दिक्कते होती हैं, जिसके कारण डॉक्टर्स समय से पहले ही प्रसव करना उचित समझते हैं।

इस वजह से 9 महीने से पहले ही हो जाता है शिशु का जन्म, करानी पड़ती है प्रीमैच्योर डिलीवरी
X

अक्सर ऐसा सुनने में आता है कि महिलाओं को प्रीमैच्योर डिलीवरी करानी पड़ी। कई कारणों की वजह से महिला की डिलीवरी 7 महीने या 8 महीने में ही हो जाती है। कई सारी स्वास्थ्य संबंधी दिक्कते होती हैं, जिसके कारण डॉक्टर्स समय से पहले ही प्रसव करना उचित समझते हैं।

लेकिन क्या आपको पता है कि आखिरकार प्रीमैच्योर बेबी होने का क्या कारण हो सकता है। इसके पीछे की असर वजह वैज्ञानिकों ने खोज निकारली है।

प्रीमैच्योर डिलीवरी का कारण

हाल ही में सामने आई एक स्टडी के मुताबिक वैज्ञानिकों ने महिलाओं के गर्भनाल में बहुच ज्यादा मात्रा में ऐसे जीवाणु पाए, जो कई तरह के रोग उत्पन्न करने के जिम्मेदार होते हैं।

यह भी पढ़ें: तांबे के बर्तन में रखा पानी पीने से होते हैं ये कमाल के फायदे

इन जीवाणुओं से महिला में संक्रमण फैलता है और इसी कारण समय से पहले डिलीवरी करानी पड़ाती है। इसी वजह से 37 हफ्तों में महिला को लेबर पेन शुरू हो जाता है।

250 महिलाओं ने लिया हिस्सा

महिलाओं की प्रीमैच्योर डिलीवरी पर आधारित यह स्टडी एप्लाइड व एनवायरमेंटल माइक्रोबायोलॉजी में प्रकाशित हुआ था। इस रिसर्च में लगभग 250 महिलाओं को शामिल करके हुए उनका पूर्ण रूप से परीक्षण करने के बाद यह निष्कर्ष निकाला गया।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story