logo
Breaking

..इसलिए दीवाली पर गर्भवती महिलाओं को रहना चाहिए पटाखों से दूर

पटाखों से निकलने वाला जहरीला धुंआ और पटाखों की तेज आवाज होने वाले बच्चे के लिए खतरनाक है।

..इसलिए दीवाली पर गर्भवती महिलाओं को रहना चाहिए पटाखों से दूर
नई दिल्ली. वैसे तो दिवाली के दौरान हर किसी को पटाखों से दूर रहना चाहिए, लेकिन खासतौर पर जो महिलाएं प्रेग्नेंट हैं उन्हे बहुत अधिक सतर्क रहने की आवश्यकता है क्योंकि पटाखों से निकलने वाला जहरीला धुंआ और पटाखों की तेज आवाज होने वाले मासूम बच्चे के लिए खतरे से कम नहीं है। इससे बच्चे की सेहत पर बुरा असर पड़ेगा।
गर्भवती महिलाओं को अपनी सेहत के साथ-साथ होने वाले बच्चे की सेहत को ध्यान में रखते हुए इस दिवाली दोगुना ख्याल रखने की जरुरत है। लेकिन हां दूर रहने का मतलब ये नहीं है कि आप दिवाली जैसे सबसे महत्तपूर्ण पर्व में सबसे अलग होकर रहें। डॉक्टरों का कहना है कि इस पर्व का हिस्सा बनकर भी आप आसानी से खुद का ख्याल रख सकती हैं।
डॉक्टरों ने प्रेग्नेंट वुमन को सतर्क रहने के लिए कुछ टिप्स भी दिए हैं उनका कहना है कि पटाखों से जो जहर निकलता है उसमें कार्बन डाइऑक्साइड और नाइट्रस आक्साइड मौजूद होता है। इन दोनों की मौजूदगी मां और बच्चा दोनों के लिए घातक परिणाम हो सकता है। इसके अलावा डॉक्टरों ने उन महिलाओं को पटाखों से दूर रहने की सलाह दी है जिन्हे सांस लेने में परेशानी होती है।
- गर्भवती महिलाओं को पटाखों के शोर-गुल से बचने के लिए सबसे अच्छा उपाय ये है कि वह अपने कानों में रूई डाल लें, ऐसे में वे इसके आवाज से खुद को और होने वाले बच्चे को बचा सकते हैं।
- अक्सर पर्व की वजह से गर्भवती महिलाएं अपना ख्याल रखने में कोताही बरतने लगती हैं। जिससे गर्भ में पल रहे बच्चे की सेहत को नुकसान होता है। तो सेहत का ध्यान रखते हुए भोजन के प्रति लापरवाही बिल्कुल भी न करें। हर 1 से 2 घंटे के अंतराल पर खाना खाते रहें और एक-एक घंटे में पानी पीना बिल्कुल न भूलें।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि
, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top