Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

क्या होता है प्रेग्नेंसी ब्लूज..? ना करें इग्नोर, जिंदगीभर उठाना पड़ेगा नुकसान

प्रेग्नेंसी के दौरान प्रेग्नेंसी ब्लूज की समस्या ज्यादातर महिलाओं को होती है। अगर लाइफस्टाइल, डाइट के अलावा कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखा जाए तो इस समस्या का समाधान मुमकिन है। जानिए, प्रेग्नेंसी ब्लूज को कैसे हैंडल करें।

क्या होता है प्रेग्नेंसी ब्लूज..? ना करें इग्नोर, जिंदगीभर उठाना पड़ेगा नुकसान

हर महिला के लिए मां बनना एक सुखद अहसास होता है, लेकिन प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को कई तरह की समस्याओं का सामना भी करना पड़ता है। इस स्थिति को हेल्थ एक्सपर्ट प्रेग्नेंसी ब्लूज कहते हैं। लेकिन ऐसे में अगर कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखा जाए, अपनी देखभाल अच्छे से की जाए तो प्रेग्नेंसी ब्लूज की प्रॉब्लम से उबरा जा सकता है।

क्या होता है प्रेग्नेंसी ब्लूज

प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को कई तरह की समस्याओं का सामना भी करना पड़ता है। इस स्थिति को हेल्थ एक्सपर्ट प्रेग्नेंसी ब्लूज कहते हैं। इसमें अक्सर महिलाएं अवसाद और उदासी का शिकार होती हैं।

यह भी पढ़ें : बढ़ते प्रदूषण को देनी है मात और अपनों का रखना है ख्याल, तो अपनाएं ये घरेलू उपाय

इन बातों का रखें ख्याल :

1.डाइट लें सही

प्रेग्नेंसी में थोड़ी-थोड़ी मात्रा में, दिन में कई बार पौष्टिक भोजन करना चाहिए। इससे महिला को न सिर्फ संपूर्ण पोषण मिलता है बल्कि भोजन आसानी से पचता भी है। प्रेग्नेंसी में थोड़ी-सी मात्रा डार्क चॉकलेट की खाने पर मानसिक सुकून मिलता है। चॉकलेट में मौजूद थियोब्रोमाइन, ब्लड वेसल्स को लचीला बनाती है, जिससे मसल्स को रिलैक्सेशन महसूस होता है।

1.स्पा थेरेपी

पैदा होने वाले शिशु के बेहतर स्वास्थ्य के लिए मां का खुश रहना और फील गुड करना जरूरी होता है। आप इसके लिए स्पा मसाज का सहारा ले सकती हैं। खुद को कभी-कभी हेयर स्पा, मसाज, मेनिक्योर, फुट मसाज की ट्रीट दें तो आपको अच्छा लगेगा। हां, इस दौरान पेट के बल लेटने की गलती न करें। साथ ही ऐसे स्पा में ही जाएं, जहां का थेरेपिस्ट अनुभवी हो, प्रशिक्षित हो और प्रीनेटल मसाज टेक्निक की सर्टिफिकेट होल्डर हो।

3.फीलिंग्स शेयर करें

गर्भावस्था में महिलाओं में बहुत से हार्मोनल चेंज होते हैं। इनकी वजह से वे इस दौर में बहुत इमोशनल हो जाती हैं। इस वक्त आपको अपनी फ्रेंड, पति या किसी अच्छी सहेली से खूब बातचीत करनी चाहिए, जिससे आपका मूड अच्छा रहे। अगर कोई आपके पास नहीं है तो आप डायरी में अपनी फीलिंग्स लिख सकती हैं।

यह भी पढ़ें : इस लाइलाज बीमारी से रहना है दूर, तो अपनाएं ये टिप्स

4.एक्टिव रहें

प्रेग्नेंसी में आराम करना जरूरी है। लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि आप सारी एक्टिविटी करना ही छोड़ दें। किसी सर्टिफाइड, एक्सपीरियंस्ड फिटनेस ट्रेनर के गाइडेंस में वर्कआउट प्लान तैयार करें। हर रोज कुछ हल्की-फुल्की एक्सरसाइज करें। इससे आपको अच्छा महसूस होगा।

5.मेडिटेशन करें

गर्भावस्था में हार्मोंस के बदलाव के कारण महिलाओं में स्ट्रेस की समस्या देखी जाती है। स्ट्रेस से राहत पाने के लिए रोजाना 30 मिनट के लिए रिलैक्सेशन टेक्नीक और मेडिटेशन का अभ्यास करना जरूरी है। इससे मूड स्विंग, चिड़चिड़ापन, गुस्से और अवसाद से राहत मिलेगी।

Next Story
Share it
Top