Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Relationship Tips: अपने पार्टनर के ज्यादा प्यार करने से हैं परेशान तो अपनाएं ये टिप्स

पार्टनर का पजेसिव बिहेवियर (Possessive behavior) मैरीड लाइफ (Married Life) को काफी डिस्टर्ब कर देता है। इसलिए इस नेचर के पार्टनर के साथ बहुत समझदारी से पेश आना चाहिए। उसके पजेसिव होने की वजह समझनी चाहिए। साथ ही धीरे-धीरे उसकी इस आदत में सुधार की कोशिश करनी चाहिए। यकीन मानिए, उसमें सुधार जरूर आएगा और आपकी मैरीड लाइफ पीसफुल हो जाएगी।

Relationship Tips: अपने पार्टनर के ज्यादा प्यार करने से हैं परेशान तो अपनाएं ये टिप्स
X

प्रतीकात्मक तस्वीर 

Relationship Tips: हर चीज की अति बुरी होती है, फिर चाहे वो प्यार हो या लड़ाई। मैरीड लाइफ (Married Life) में अगर एक पार्टनर दूसरे के प्रति कुछ ज्यादा प्यार या अपनत्व दिखाने लगे तो दूसरे पार्टनर (Partner) के लिए मुश्किलें खड़ी हो जाती हैं। इस तरह के बिहेवियर को पजेसिव बिहेवियर (Possessive Behavior) कहा जाता है। रिश्तों में थोड़ा-बहुत पजेसिव होना (Possessive) सामान्य है, लेकिन जब यह ज्यादा बढ़ जाए तो रिश्ते के लिए खतरनाक हो जाता है।

पजेसिव बिहेवियर के कारण (Causes of Possessive Behavior)

पजेसिव बिहेवियर व्यक्ति के अंदर क्यों जन्म लेता है, इसके पीछे कई कारण होते हैं, जैसे-

1-खोने का डर : हमारी जिंदगी में बहुत से लोग आते हैं और जाते हैं। इनमें से कुछ लोगों को हम दुर्भाग्यवश हमेशा के लिए खो देते हैं। इस तरह एकाएक जिंदगी से किसी के चले जाने से व्यक्ति को बहुत गहरा झटका लगता है। उसके मन में यह डर बैठ जाता है कि कहीं वह अपने किसी और नजदीकी को खो ना दे। ऐसे लोग अपने पार्टनर के प्रति काफी पजेसिव हो जाते हैं, उसके इर्द-गिर्द अपनी लाइफ को समेट लेते हैं।

2-बचपन की कड़वी यादें : अगर किसी व्यक्ति ने बचपन में बहुत बुरा सहा या देखा है, जैसे पैरेंट्स के झगड़े, तलाक आदि। इस तरह की घटनाएं बच्चों को बहुत आहत करती हैं। इसका असर उनकी पर्सनालिटी पर भी पड़ता है। इस वजह से बच्चा बड़ा होकर अपने पार्टनर को लेकर पजेसिव हो जाता है।

3-शारीरिक कमी : अगर आपका पार्टनर देखने में ज्यादा खूबसूरत, स्मार्ट है तो भी साथी का बिहेवियर पजेसिव हो जाता है। उसे लगने लगता है कि कहीं वह उसे उसकी कमी के चलते छोड़ ना दे।

4-ब्रेकअप या तलाक : ब्रेकअप या किसी कारण से पहली शादी के टूट जाने की वजह से व्यक्ति अपने नए साथी को खोने से डरता है। उसे खुश रखने की कोशिश करता है। इस कारण व्यक्ति अपने नए पार्टनर के प्रति बहुत पजेसिव हो जाता है।

पजेसिव बिहेवियर का इफेक्ट (Side Effect of Possessive Behavior)

-ऐसे बिहेवियर से रिलेशनशिप में बिल्कुल स्पेस नहीं मिलता है।

-पार्टनर को फील होता है कि कोई उसको कंट्रोल कर रहा है।

-पार्टनर को ऐसा लगने लगता है कि उसकी खुद की पहचान खो गई है।

- पार्टनर को स्ट्रेस-डिप्रेशन की फीलिंग होने लगती है।

प्रॉब्लम को ऐसे करें दूर

पार्टनर के पजेसिव बिहेवियर से डील किया जा सकता है। इसके लिए कुछ बातों को अमल में लाएं -

एक-दूसरे से बात करें : किसी भी रिश्ते को जीवंत बनाने के लिए सबसे जरूरी है एक-दूसरे से बात करें। अगर आपका साथी पजेसिव है तो उससे बात करें और समझें कि उसका बिहेवियर ऐसा क्यों है? उसके बताए गए कारणों को जानकर साथी के मन से उसके डर को निकालने की कोशिश करें।

शेयर करें अपनी प्रॉब्लम : अपने साथी को बातों-बातों में यह भी बताएं कि उसके पजेसिव बिहेवियर की वजह से आपको कितनी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। यकीनन वह आपकी प्रॉब्लम को समझने की कोशिश करेंगे।

इंपॉर्टेंस जताएं : दोस्तों-रिश्तेदारों के साथ मिलने-जुलने के दौरान पार्टनर को स्पेशल फील करवाएं। उसे अपने साथ पार्टीज वगैरह में लेकर जाएं, वहां उसका विशेष ध्यान रखें। इससे उसे अहसास होगा कि जितने जरूरी आप उसके लिए हैं, उतने ही वह आपके लिए भी हैं।

साथ समय बिताएं : आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में कपल्स के पास एक-दूसरे के साथ बिताने के लिए वक्त बहुत कम है। ऐसे में पजेसिव पार्टनर से डील करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। आप अपने पार्टनर के साथ कुछ वक्त निकालकर घूमने जाएं। इस दौरान उसके मन में जो भी शिकायतें हों, उन्हें दूर करें। इस वक्त को भरपूर एंज्वॉय करें।

Next Story