Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पीरियड्स आने में हो रही है देरी तो हो सकती है ये बीमारी, जानें क्या खाना चाहिए और क्या नहीं?

बदलती लाइफस्टाइल की वजह से महिलाओं में पॉलिसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (Polycystic ovary syndrome) की समस्या बढ़ रही है,अगर आप पीसीओएस (Polycystic ovary syndrome) की पेशेंट हैं तो प्रॉपर डाइट (Proper Diet) से इसके इफेक्ट्स को काफी कम कर सकती हैं। हम यहां आपको बता रहे हैं, पीसीओएस (PCOS) होने की स्थिति में आप क्या खाएं और क्या ना खाएं।

जिन लड़कियों को है पॉलिसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम की समस्या, जानें क्या खाना चाहिए और क्या नहीं?
X

जिन लड़कियों को है पॉलिसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम की समस्या, जानें क्या खाना चाहिए और क्या नहीं?

Women Health Tips : बदलती लाइफस्टाइल की वजह से महिलाओं में पॉलिसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (Polycystic ovary syndrome) की समस्या बढ़ रही है, इस बीमारी की वजह से महिलाओं के शरीर में मेल हार्मोन एंड्रोजन बढ़ जाता है। जिसकी वजह से चेहरे पर अनचाहे बाल, पीरियड्स समय पर न आना और कभी-कभी महिलाएं बांझपन का शिकार भी हो जाती है। न्यूट्रिशनिस्ट डॉ. अनुजा गौर बताती हैं कि अगर आप अपनी लाइफस्टाइल (Lifestyle) सुधारने के साथ सही डाइट लेंगी तो इससे आपकी समस्या में सुधार हो सकता है। यहां आपको पीसीओएस (PCOS) होने की स्थिति में आपको क्या खाएं चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए, इस बारे में बताया जा रहा है।

ऐसा हो डाइट प्लान : खाने से पहले शरीर को हाइड्रेट जरूर करें। आप लंच करें या डिनर, हैवी मील से पहले नींबू पानी, बटर मिल्क या सूप जरूर लें, इसके बाद ही मील लें। यहां बताए जा रहे फूड आइटम्स को अपनी डाइट में शामिल करें।

1- सब्जियां (Vegetables) : आपको अपनी डाइट में कई तरह की सब्जियां शामिल करनी चाहिए। पालक समेत अन्य हरी पत्तेदार सब्जियां : सेम, ब्रोकली और फूलगोभी खाना फायदेमंद है।

2-फल (Fruits) : गहरे रंग के फल, काले अंगूर, ब्लूबेरी, ब्लैकबेरी, चेरी, एवोकाडो और नारियल जरूर खाएं।

3- मेवा (Dry Fruits) : पाइन नट्स, अखरोट, बादाम, पिस्ता जैसे सूखे मेवे खाना भी आपकी सेहत के लिए अच्छा होगा।

4- दालें (Legume) : आपकी डेली डाइट में प्रोटीन भी जरूर शामिल होना चाहिए। इसके लिए आप दिन में जितनी भी बार खाना खाएं, अपनी डाइट में दाल को जरूर शामिल करें। दाल को आप किसी भी रूप में खा सकती हैं।

अन्य चीजें : मसालों में हल्दी और दालचीनी, डार्क चॉकलेट, नेचुरल नॉन प्रोसेस्ड फूड, फाइबर से भरपूर खाद्य पदार्थ, फैट वाली मछली जैसे-सॉल्मन, टूना, सार्डिन और मैकेरल खाना भी फायदेमंद है।

कैसे खाना चाहिए

आमतौर पर महिलाएं पूरे दिन में तीन बार हैवी मील लेती हैं। खाने का यह तरीका सही नहीं है। पीसीओएस के प्रभाव को कम करने के लिए एक साथ ज्यादा मात्रा में खाना खाने से बचें। इससे शरीर को नुकसान पहुंच सकता है। इसीलिए हर बार अपनी प्लेट में खाने की मात्रा कम रखें। दिन में थोड़ी-थोड़ी मात्रा में 5-6 बार खाएं। हर बार डाइट में लाइट फूड आइटम्स को शामिल करें।

क्या नहीं खाना चाहिए

पीसीओएस से ग्रस्त महिलाओं को कार्बोहाइड्रेट का अधिक सेवन करने से बचना चाहिए। खासकर कैंडी, शहद, कोल्ड ड्रिंक, स्वीटकॉर्न, चीनी, सोडा युक्त फूड आइटम्स के सेवन से बचना चाहिए। कार्बोहाइड्रेट की जरूरत को पूरा करने के लिए आप चावल, गेहूं, दूध और फलों का सेवन कर सकती हैं। हर तरह के बेकरी प्रोडक्ट्स, अनहेल्दी फैट्स को भी अपनी डाइट से दूर रखें, इनसे मोटापा बढ़ता है।

रखें इस बात का विशेष ध्यान

पीसीओएस पेशेंट्स (PCOS Patients) को अपनी डाइट और लाइफस्टाइल को मेंटेन रखने के लिए डॉक्टर और न्यूट्रिशनिस्ट (Nutritionist) की गाइडेंस को जरूर फॉलो करना चाहिए। खाना खाने और नाश्ता करने का एक समय तय करें और उसे मेंटेन रखें। खासतौर पर अगर आप मेडिसिन ले रही हैं तो अपनी लाइफस्टाइल और डाइट रूटीन को लेकर कोई लापरवाही ना बरतें।

Next Story