Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

देखिए, एशिया के सबसे खूबसूरत द्वीप बाली की झलक - खो जाएंगे सपनों की दुनिया में

यह विश्व विख्यात पर्यटन स्थान है जिसकी कला, संगीत, नृत्य और मन्दिर मनमोहक हैं।

देखिए, एशिया के सबसे खूबसूरत द्वीप बाली की झलक - खो जाएंगे सपनों की दुनिया में

जावा. बाली एशिया के सबसे खूबसूरत द्वीपों में से एक है हर साल यहां दुनिया भर से लाखों सेलानी अपनी छुट्टियां बिताने आते हैं। भारत में भी बच्चों के स्कूलों की छुट्टी पड़ी हुई हैं। ऐसे ज्यादातर परिवार देश के बारह छुट्टियां बनाने का प्लान बना रहे हैं पर दिक्कत ये होती हैं कि जाएं तो जांए कहां? ऐसे में हम आपकी मदद करने को हमेशा की तरह इस बार भी तैयार है। आज हम आपको इंडोनेशिया के ही नहीं पूरे एशिया के सबसे खूबसूरत द्वीप बाली की सैर कराने वाले हैं, पर सबसे पहले बाली के इतिहास के बारे में एक नजर डालते हैं।
बाली इंडोनेशिया का एक द्वीप प्रांत है। यह जावा के पूर्व में स्थित है। लोम्बोक बाली के पूर्व में स्थित एक द्वीप है। यहां के ब्राह्मी लेख दो सौ ई.पू. के पुराने के हैं। बालीद्वीप का नाम भी बहुत पुराना है। 1400 ई. से पहले इंडोनेशिया में मजापहित हिन्दू साम्राज्य स्थापित था। जब यह साम्राज्य गिरा और मुसलमान सुलतानों ने सत्ता ले ली तो जावा और अन्य द्वीपों के अभिजात-वर्गीय बाली भाग आए। यहां फिर भी हिन्दु धर्म का पतन नहीं हुआ। बाली 100 वर्ष पहले तक स्वतंत्र रहा पर अंत में डच लोगों ने इसे परास्त कर लिया। यहां की जनता का बहुमत (90 प्रतिशत) हिन्दू धर्म में आस्था रखता है। यह विश्व विख्यात पर्यटन स्थान है जिसकी कला, संगीत, नृत्य और मन्दिर मनमोहक हैं। यहां की राजधानी देनपसार नगर है। उबुद मध्य बाली में नगर है। यह द्वीप में कला और संस्कृति का प्रधान स्थान है। कूटा दक्षिण बाली में नगर है। यहा 2002 में इस्लामी आतंकवादियों ने बम विस्फोट किया जिसमें 202 व्यक्ति मारे गए। जिम्बरन बाली में मछुओं का ग्राम और अब पर्यटन स्थल है। द्वीप के उत्तरी तट पर सिंहराज नगर स्थापित है। अगुंग पर्वत और ज्वालामुखी बतुर पर्वत दो ऊंची चोटियां हैं।

हालांकि इंडोनेशिया एक मुस्लिम बहुल देश है पर इस देश के एक भाग बाली, जो 38 लाख जन संख्या वाला एक द्वीप है। यहां इन दिनों लोगों का लिबास स्थानीय ही है पर इनके नाम संस्कृत शब्दों पर आधारित होते हैं जैसे कर्ण, इरावती आदि। बहुत सी हिन्दू स्त्रियाँ माथे पर तिलक भी लगाती हैं जिससे इनको पहचाना जा सकता है। यहाँ अनेक हिन्दू मंदिर हैं। इसके अतिरिक्त प्रत्येक घर या होटल में किसी स्थान पर छोटा सा मंदिर स्थापित किया हुआ होता है जहां ये लोग अपनी विधि से रोज पूजा अर्चना करते हैं।


नीचे की स्लाइड्स में जानें, कहां-कहां घूम सकते हैं बाली-


खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-

Share it
Top