Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

लांचिंग के साथ ही विवादों में घिरा पतंजलि का आटा नूडल्स, FSSAI से नहीं ली मंजूरी

इस उत्पाद पर FSSAI की मंजूरी के बगैर ही रजिस्ट्रेशन नंबर अंकित कर दिया गया है।

लांचिंग के साथ ही विवादों में घिरा पतंजलि का आटा नूडल्स, FSSAI से नहीं ली मंजूरी
नई दिल्‍ली. योग गुरु बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि द्वारा हाल ही में लॉन्च किए ‘आटा नूडल्स’ को लेकर सवाल उठने शुरू हो गए हैं। एक अंग्रेजी अखबार की खबर के मुताबिक, पतंजलि नूडल्स ने भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (FSSAI) से मंजूरी नहीं ली है। रिपोर्ट के मुताबिक, पतंजलि नूडल्स के पैकेट पर एफएसएसआई (FSSAI) का लाइसेंस नंबर लिखा हुआ है जबकि कंपनी की ओर से अब तक मंज़ूरी के लिए आवेदन भी नहीं दिया गया है। इस बारे में जब पतंजलि के स्पोक्सपर्सन एस.के. तिजारावाला से पूछा गया तो उन्होंने कहा, “मुझे टेक्निकल डिटेल्स के बारे में जानकारी नहीं है। मैं इस बारे में बाद में कुछ बता पाउंगा।”
भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण के अध्यक्ष आशीष बहुगुणा का कहना है कि पतंजलि की आटा नूडल्स ने एफएसएसआई से मंजूरी नहीं ली है। यह मामला हमारे संज्ञान में आया है और इसकी जांच की जा रही है। गौरतलब है कि रामदेव ने सोमवार को पतंजलि की 'पौष्टिक' इंस्टैंट नूडल पेश की थी। इस दौरान रामदेव ने सालभर के अंदर पतंजलि के पांच नई मैन्युफैक्चरिंग यूनिटों की स्थापना करने की बात कही थी। ये यूनिटें दिल्ली-एनसीआर, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक और उत्तर प्रदेश में स्थापित की जाएंगी।
एफएसएसएआई के चेयरपर्सन आशीष बहुगुणा ने अखबार से बातचीत में कहा है कि बिना अप्रूवल के लाइसेंस नंबर प्रिंट किए जाने का मामला उनके सामने लाया गया है और वह इसकी जांच कर रहे हैं। पतंजलि के आटा नूडल्स पर एफएसएसएआई का लाइसेंस नंबर 10014012000266 प्रिंट किया गया है। इस बारे में बहुगुणा का कहना है, “ये कैसे हो सकता है कि एक प्रोडक्ट जिसे अप्रूवल ही नहीं दिया गया हो और उस पर लाइसेंस नंबर प्रिंट किया जाए।” लाइसेंस नंबर कुछ प्रोडक्ट्स के लिए राज्य सरकारें जारी करती हैं। लेकिन कुछ प्रोडक्ट्स के लिए लाइसेंस जारी करने का हक केवल एफएसएसएआई को है। मैं नहीं जानता कि इस मामले में लाइसेंस कैसे जारी कर दिया गया।”
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top