Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

प्यार में पार्टनर इस वजह से बनाते हैं दूरियां

दांपत्य जीवन तभी मधुर-खुशहाल बना रहता है, जब कपल्स एक दूसरे को क्वालिटी टाइम देते हैं, एक दूसरे की परवाह करते हैं।

प्यार में पार्टनर इस वजह से बनाते हैं दूरियां
X

दांपत्य जीवन तभी मधुर-खुशहाल बना रहता है, जब कपल्स एक दूसरे को क्वालिटी टाइम देते हैं, एक दूसरे की परवाह करते हैं। लेकिन जब एक पार्टनर ओवर सोशलाइज हो जाता है तो रिश्ते में दूरी बढ़ने लगती है। यह स्थिति दांपत्य जीवन के लिए ठीक नहीं।

आरती और हितेन की शादी को अभी दो साल ही हुए हैं। लेकिन दोनों के बीच लगभग रोज ही मनमुटाव और बहस होती रहती है। दरअसल, ऑफिस से आकर हितेन अकसर अपने दोस्तों या आस-पड़ोस के लोगों से मिलने चला जाता है। फिर रात खाना खाने के समय तक घर पहुंचता है।
छुट्टी वाले दिन भी हितेन का कहीं न कहीं सोशल गैदरिंग में जाने का प्रोग्राम रहता है। इससे आरती को खीझ होती है, वह चाहती है कि हितेन घर पर उसके साथ भी वक्त बिताए, लेकिन ऐसा नहीं हो पाता है।
आरती को लगता है कि हितेन उसे इग्नोर कर रहा है। इस विषय पर आरती ने हितेन से खुलकर बात भी की लेकिन इसके बाद भी स्थिति नहीं बदली। हितेन का मानना है कि अपने रिलेशंस को स्ट्रॉन्ग बनाने के लिए सोशलाइज होना जरूरी है। यह बात काफी हद तक सही है लेकिन ओवर सोशलाइज होना ठीक नहीं। एक पार्टनर के ओवर सोशइलाइज बिहेवियर का असर दांपत्य जीवन पर पड़ता है, जिससे रिश्ते में दूरी बढ़ती है।

खत्म होती है कनेक्टिविटी

जब एक पार्टनर ओवर सोशलाइज होता है तो वह अपना क्वालिटी टाइम दोस्तों, परिचितों के साथ ज्यादा गुजारता है। ऐसा करने की वजह से अपने पार्टनर को समय नहीं दे पाता। नतीजतन पति-पत्नी के बीच कनेक्टिविटी खत्म होती है। बातचीत करने का, आपसी भावनाएं साझा करने का दायरा सिमट जाता है। यह स्थिति न आए, इसके लिए पार्टनर से कनेक्टिविटी बनी रहनी चाहिए।
ऐसा तभी होगा जब परिचितों, दोस्तों के साथ ही पार्टनर के लिए भी जरूरी समय निकाला जाएगा। अगर सोशल गैदरिंग में जाना बहुत जरूरी है तो आप अपने पार्टनर के साथ जा सकते हैं, वहां भी उसके साथ क्वालिटी टाइम बिताएं।

बढ़ते हैं मतभेद

कनेक्टिवटी खत्म होती है तो कपल्स के बीच कई तरह के मतभेद यानी डिफरेंसेस होने लगते हैं। उनके आपसी विचार मेल नहीं खाते। असल में ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि जब एक पार्टनर ओवर सोशलाइज होता है तो उस पर रिलेटिव्स और फ्रेंड्स का प्रभाव बहुत ज्यादा होने लगता है। इस वजह से पर्सनल लाइफ से जुड़े हर छोटे-बड़े फैसले में भी उनका असर दिखने लगता है। इससे पति-पत्नी में मतभेद बढ़ते हैं।
पार्टनर को करते हैं इग्नोर
अकसर देखने में आता है कि ओवर सोशइलाइज वही होते हैं, जिन्हें लोगों की तारीफ और अटेंशन की चाहत होती है। ऐसे लोग हर तरह की सामाजिक गतिविधि में हिस्सा लेना पसंद करते हैं। इसके लिए फिर चाहे उन्हें अपने पार्टनर को इग्नोर ही क्यों न करना पड़े, वे करते हैं। जब एक पार्टनर बार-बार इग्नोर होता है तो पति-पत्नी में छोटी-छोटी बातों पर बहस होने लगती है।
ऐसी सिचुएशन से बचने के लिए पार्टनर को समय देना, अटेंशन देना जरूरी है। उसकी समय-समय पर तारीफ करना जरूरी है। ऐसा करने से ओवर सोशलाइज होने की आदत में भी कमी आती है।

सोशल साइट्स से भी दूरी

जो लोग रियल लाइफ में ओवर सोशल होते हैं, वे सोशल साइट्स पर भी फ्रेंड्स, रिलेटिव्स से खूब कनेक्ट रहते हैं। इस वजह से घर में होने के बावजूद पार्टनर को टाइम नहीं देते, बस सोशल साइट्स पर बिजी रहते हैं। इससे भी दांपत्य के रिश्ते पर असर पड़ता है। ऐसे में जरूरी है कि सोशल साइट्स पर धीरे-धीरे टाइम को कम करके, अपने जीवनसाथी के साथ वक्त बिताया जाए, तभी रिश्ता खुशहाल बनेगा।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story