Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एक ही गोली से इन दो बीमारियों को किया जा सकेगा कंट्रोल

इस पर शोधकर्ता रिसर्च कर रहे हैं।

एक ही गोली से इन दो बीमारियों को किया जा सकेगा कंट्रोल
X

जल्द ही हृदय रोग और मधुमेह, दोनों को रोकने के लिए अलग-अलग गोली खाने की जरूरत नहीं होगी।

एक ही गोली से दोनों बीमारियों को कंट्रोल किया जा सकेगा। अगर वैज्ञानिकों की टीम की भविष्यवाणी सही साबित हुई, तो जल्द ही इस तरह की गोली बाजार में आ सकती है।

इसे भी पढ़ें- तनाव दूर करने के लिए अपनाये ये अचूक नुस्खा, चुटकियों में हो जाएगा मूड फ्रेश

आनुवंशिक आंकड़ों के एक बड़े विश्लेषण में पाया गया कि बीमारी की दोनों स्थितियां एक ही जीन से संबंधित हैं।

यह दोनों ही बीमारियां पूरी दुनिया में बड़ी संख्या में लोगों को रोगी बनाती हैं और कई मामलों में उनकी जान भी ले लेती हैं।

पेन्सिलवेनिया यूनिवर्सिटी में पेरेलमैन स्कूल ऑफ मेडिसिन के शोधकर्ताओं की अगुवाई वाली टीम ने पहले तो टाइप-2 डायबिटीज (टी2डी) का कारण बताया।

इसके साथ ही उन्होंने स्पष्ट किया कि टी2डी और कोरोनरी हार्ट रोग (सीएचडी) आपस में कैसे जुड़े हुए हैं।

दो लाख 50 हजार से अधिक लोगों के जीनोम सीक्वेंस की जांच करते हुए शोधकर्ताओं ने पहले 16 नए डायबिटीज जेनेटिक रिस्क फैक्टर और एक नए सीएचडी जेनेटिक रिस्क फैक्टर की पहचान की।

इस तरह से उन्होंने दोनों बीमारियों के मेकेनिज्म पर नया दृष्टिकोण दिया। इसके बाद उन्होंने पाया कि जीनोम की अधिकतर साइट्स जो उच्च डायबिटीज रिस्क के साथ जुड़ी थी, वह हायर सीएचडी रिस्क के साथ भी जुड़ा है।

शोधकर्ता इन साइट्स में से आठ में एक स्पेसिफिक जीन वेरिएंट की पहचान करने में सक्षम थे, जिससे इन दोनों बीमारियों का खतरे को प्रभावित करता था।

इसे भी पढ़ें- पुरुषों को फिट एंड हेल्दी रहने के लिए जरूर पीने चाहिए ये शेक

यह शेयर्ड रिस्क फैक्टर इम्यूनिटी, सेल प्रोलिफिकेशन और हार्ट डेवलपमेंट सहित बायोलॉजिकल पाथवेज को प्रभावित करते हैं।

यह निष्कर्ष इन दोनों प्रमुख बीमारियों की बुनियादी वैज्ञानिक समझ में को बढ़ाने वाले हैं और भविष्य में दवाओं के लिए संभावित टार्गेट की ओर इशारा करते हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story