Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

प्रॉपर बॉडी फंक्शनिंग के लिए जरूरी है, अपनी डाइट में विटामिंस शामिल करना

विटामिन की कमी से होने वाली बीमारियां

विटामिन ए (रेटिनॉल) : इसकी कमी से रतौंधी (रिकेट्स), जेरोसिस कंजंक्टिवा, जेरोसिस कॉर्निया, बायोटॉट्स स्पॉट्स, कीरेटोमलेशिया और फॉलिक्यूलर हाइपरकीरेटोसिस आदि बीमारियां होती हैं।

विटामिन डी (7 डिहाइड्रो कोलेस्ट्रॉल) : इसकी कमी से बच्चों में रिकेट्स और कीरेटोमलेशिया, बड़ों में ऑस्टोपेनिया, ऑस्टियोपोरोसिस आदि समस्याएं हो जाती हैं।


विटामिन ई (टोकोफेरॉल) : इसकी कमी से रिप्रोडक्शन फेलियर, लीवर सिरोसिस आदि डिसऑर्डर होते हैं।

विटामिन के : इसकी कमी से हेमोरैजिक कंडिशन उत्पन्न होती है।

विटामिन सी (एस्कॉर्बिक एसिड) : इसकी कमी से स्कर्वी नामक बीमारी होती है। इस बीमारी के शुरुआत में सिर्फ कमजोरी महसूस होती है। फिर उसके बाद हाथ-पैर की हड्डियों, जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द होने लगता है। जोड़ों में सूजन, टिश्यूज में हेमोरैज, मसूढ़ों से खून आना, दांतों का कमजोर होना आदि परेशानियां भी विटामिन सी की कमी के लक्षण होते हैं।

Next Story