Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

HEALTH: देश में तेजी से बढ़ रहा है मोटापे का प्रकोप, ऑपरेशन का डर पहले से हुआ कम

नई तकनीक से सफलता दर में सुधार

HEALTH: देश में तेजी से बढ़ रहा है मोटापे का प्रकोप, ऑपरेशन का डर पहले से हुआ कम
नई दिल्ली. मौजूदा समय में मोटापा एवं गलत जीवन शैली के कारण तेजी से घुटने में ऑर्थराइटिस की समस्या बढ़ रही है। इस कारण अस्पतालों में घुटना बदलने के ऑपरेशन में भी तेजी आ रही है। देश में तेजी से बढ़ रहे मोटापे के प्रकोप के कारण न केवल अधिक उम्र के लोगों में बल्कि युवकों में भी घुटने एवं जोड़ों की ऑर्थराइटिस की समस्या बढ़ रही है। इस कारण से 65 साल से कम उम्र के लोगों में भी घुटने एवं अन्य जोड़ को बदलवाने के ऑपरेशनों की संख्या में कई गुना वृद्धि हुई है। डॉ. सुभाष जांगिड बताते हैं कि पहले की तुलना में आज अधिक संख्या में युवा घुटने एवं अन्य जोड़ बदलवाने के ऑपरेशन करा रहे हैं।
मौजूदा समय में शल्य चिकित्सा तकनीकों में सुधार और बेहतर इम्पलांटों के विकास होने के कारण आज घुटना बदलने का ऑपरेशन अत्यंत आसान, कारगर एवं सुरक्षित हो गया है। डॉक्टर के अनुसार यह भी देखा जा रहा है कि लोगों खास कर युवकों के मन में ऐसे ऑपरेशनों को लेकर डर पहले की तुलना में बहुत कम हुई है और आज अधिक संख्या में युवा ऐसे आपरेशन कराने के लिए सामने आ रहे हैं।
नई तकनीक से सफलता दर में सुधार
बॉयलॉजिक डिजिज मोडिफाइंग औषधियों, आर्थोस्कोपी एवं जोड़ प्रत्यारोपण जैसी प्रक्रियाओं, नई थेरेपियों एवं इलाज की विधियों की मदद से विभिन्न तरह की ऑर्थराइटिस का इलाज किया जा रहा है। इन थेरेपियों की मदद से अब मरीज पूरी तरह से स्वस्थ एवं सक्रिय जीवन जी सकता है, चाहे उसकी उम्र कितनी ही क्यों न हो। डॉक्टर कंचन ने बताया कि आज ज्वॉइंट रिप्लेसमेंट के मामलों में विशेष घुटनों के विकास तथा कंप्यूटर-असिस्टेड नेविगेशन के कारण ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी में क्रांति आ गयी है। कंप्यूटर आधारित नेविगेशन प्रणाली की नई तकनीक ने खराब अलाइनमेंट को पूरी तरह से समाप्त कर दिया है। इससे ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी लगभग शत प्रतिशत सही हो गई है। यह सर्जन को पारंपरिक तरीकों से की जाने वाली सर्जरी की तुलना में कहीं अधिक सटीक परिणाम देने में सक्षम बनाता है।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, कुछ और बातें -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top