logo
Breaking

भारत पर इबोला वायरस का खतरा बढ़ा, स्वास्थ्य मंत्री ने डब्ल्यूएचओ के साथ की बैठक

अभी 44,700 भारतीय इबोला प्रभावित देशों में रह रहे हैं।

भारत पर इबोला वायरस का खतरा बढ़ा, स्वास्थ्य मंत्री ने डब्ल्यूएचओ के साथ की बैठक
नई दिल्ली. भारत में यह वायरस इबोला प्रभावित देशों में रह रहे भारतीयों के माध्यम से पहुंच सकता है। अभी 44,700 भारतीय इबोला प्रभावित देशों में रह रहे हैं। दुनिया के कई देशों के साथ ही भारत पर भी जानलेवा वायरस इबोला का खतरा मंडरा रहा है। इसके तहत दिल्ली में हेल्पलाइन नंबर - 011-23061469, 3205, 1302.जारी कर दिया गया है। इबोला के इलाज के लिए राम मनोहर लोहिया हॉस्पिटल को निर्धारित किया गया है। WHO ने नई दिल्ली में 20 जुलाई को उतरे एक यात्री के इबोला से संक्रमित होने की पुष्टि की थी मगर उसका टेस्ट निगेटिव आया है। भारत में यह वायरस इबोला प्रभावित देशों में रह रहे भारतीयों के माध्यम से पहुंच सकता है। 44,700 भारतीय इबोला प्रभावित देशों में अभी रह रहे हैं। इनमें से 300 सीआरपीएफ जवान यूएन की शांतिसेना के रूप में लाइबेरिया में तैनात हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने बुधवार को यह जानकारी संसद को लिखित में दी।
नाइजीरिया में भी इबोला से दो लोगों की मौत हो गई है। इबोला से सबसे ज्यादा पीड़ित इलाकों में वैसे भी विदेशी चिकित्सा कर्मचारियों के प्रति गहरा अविश्वास है। हालांकि नाइजीरिया के स्वास्थ्य मंत्री ओनिनबुची चुकुलो ने रिपोर्टरों को बताया कि उन्होंने अमेरिका से अनुरोध किया है कि वह प्रायोगिक इबोला थेरेपी का इस्तेमाल करने की अनुमति दें। उधर अमेरिकी दवा कंपनियों से सरकार भी सवाल कर रही है कि सप्लाई पर फैसला होने की स्थिति में क्या वह दवा भेज सकते हैं। प्रोफेक्ट्स दवा कंपनी के मुख्य विज्ञान अधिकारी जॉन एल्ड्रिज ने कहा, सालों से हम सरकार को कह रहे हैं कि वो इसमें थोड़ा सा निवेश करें। और अब वह पूछ रहे हैं कि हम कितनी जल्दी इसको बना सकते हैं।
स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने बुधवार को संसद में बताया कि 500 भारतीय गिनी गणराज्य, 3000 लाइबेरिया में, 1200 सिएरालियोन में हैं। ये देश सबसे ज्यादा इस वायरस के प्रभाव में हैं। इनके अलावा सबसे ज्यादा नाईजीरिया में 40 हजार भारतीय रहते हैं। मंत्री ने कहा कि अगर स्थिति ज्यादा भयानक होती हैं तो उन लोगों के वापस अपने देश लौटने की संभावना है। मंगलवार को भी स्वास्थ्य मंत्री ने इमिग्रेशन, विदेश मंत्रालय, सिविल एविएशन, सुरक्षा बलों और डब्ल्यूएचओ के अधिकारियों के साथ बैठक करके स्थितियों का ब्यौरा लिया। इस वायरस से अभी तक 932 जिंदगियां खत्म हो चुकी हैं। नाइजीरिया में भी इबोला से दो लोगों की मौत हो गई है।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, इबोला की वजह से किन देशों का वीजा नहीं मिलेगा -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Share it
Top