Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Navratri 2019 : अगर भाईयों के बीच रहता है तनाव, तो नवरात्रि में करें ये अचूक उपाय

चैत्र नवरात्रि ((Chaitra Navratri) यानि आदिशक्ति के पर्व की शुरूआत हो चुकी है। ऐसे में हर कोई मां दुर्गा को प्रसन्न करने और घर में हमेशा सुख, शांति, सौहार्द, अपनापन बढ़ाने की कामना से पूजा-अर्चना के साथ व्रत उपवास भी रखते हैं। वैसे तो आज के दौर में हर रिश्ते में आ रही दूरियां ही समाज की बड़ी समस्या है। लेकिन परिवारों में कुछ बातों की वजह से बचपन से साथ रहने वाले भाईयों के रिश्ते में तनाव आ जाता है। जिससे घर का माहौल भी खराब होता है और उसका असर हर रिश्ते में दरार के रूप में सामने आता है। ऐसे में अगर आप घर में भाईयों के रिश्ते के बीच के तनाव को दूर करके उन्हें बेहतर बनाना चाहते हैं। तो आज हम आपको चैत्र नवरात्रि (Chaitra Navratri) के अवसर पर कुछ अचूक उपाय बता रहे हैं।

Navratri 2019 : अगर भाईयों के बीच रहता है तनाव, तो नवरात्रि में करें ये अचूक उपाय
X

Navratri 2019 : चैत्र नवरात्रि ((Chaitra Navratri) यानि आदिशक्ति के पर्व की शुरूआत हो चुकी है। ऐसे में हर कोई मां दुर्गा को प्रसन्न करने और घर में हमेशा सुख, शांति, सौहार्द, अपनापन बढ़ाने की कामना से पूजा-अर्चना के साथ व्रत उपवास भी रखते हैं। वैसे तो आज के दौर में हर रिश्ते में आ रही दूरियां ही समाज की बड़ी समस्या है। लेकिन परिवारों में कुछ बातों की वजह से बचपन से साथ रहने वाले भाईयों के रिश्ते में तनाव आ जाता है। जिससे घर का माहौल भी खराब होता है और उसका असर हर रिश्ते में दरार के रूप में सामने आता है। ऐसे में अगर आप घर में भाईयों के रिश्ते के बीच के तनाव को दूर करके उन्हें बेहतर बनाना चाहते हैं। तो आज हम आपको चैत्र नवरात्रि (Chaitra Navratri) के अवसर पर कुछ अचूक उपाय बता रहे हैं।

नवरात्रि में भाईयों के रिश्ते से तनाव दूर करने के उपाय :

1.आमतौर पर दो भाईयों के रिश्ते में तनाव पेरेंट्स के जाने-अनजाने में किए जाने वाले भेदभाव की वजह से आता है। वो भेदभाव प्यार देने के मामले में हों, किसी एक की बातों को ज्यादा अहमियत देना हो या किसी एक बच्चे की ज्यादा तारीफ करना। भाई चाहें किसी भी उम्र के हो उनमें कभी न कभी पेरेंट्स के इस भेदभाव की फीलिंग जरूर आती है। ऐसे में पेरेंट्स को चाहिए कि वो दोनों बच्चों में किसी भी तरह का भेदभाव करने से बचें और दोनों को ही हर चीज के समान अवसर उपलब्ध करवाएं। मां दुर्गा के 108 नामों का पाठ नियमित रूप से 9 दिनों तक करें।
2.भेदभाव के अलावा पेरेंट्स हमेशा अपने दोनों बच्चों की तुलना करते हैं। जो एक गलत आदत है। इससे न चाहते हुए भी भाईयों के रिश्ते में तनाव उत्पन्न होता है। इससे बचने के लिए पेरेंट्स को अपने दोनों बच्चों के बिहेवियर, काबिलियत और जरूरतों को समझतें हुए व्यवहार करना चाहिए। जिससे भाईयों के बीच तनाव की स्थिति उत्पन्न ही न हो। घर में शांति लाने के लिए नवरात्रि में रोजाना दुर्गा सप्तशती का पाठ करें।
3. भाईयों के रिश्ते में अक्सर तनाव की मुख्य वजह आर्थिक असमानता होती है। कभी पेरेंट्स हमेशा अपने खास बच्चे को ज्यादा प्रॉपर्टी या संपत्ति दे देते हैं या किसी एक भाई को आपसी मनमुटाव की वजह से भी संपत्ति को लेकर विवाद उत्पन्न हो जाता है। इसे दूर करने के लिए पेरेंट्स को हमेशा भाईयों संपत्ति का एक समान बंटवारा करना चाहिए। इसके साथ ही अगर नवरात्रि में लगातार 9 दिनों तक (ऊं श्रीं नम:) का जाप करें।
4. भाईयों के रिश्ते में तनाव की एक वजह जलन की भावना भी होती है। आमतौर पर हर किसी का टैलेंट अलग-अलग होता है। ऐसे में अगर एक भाई लाइफ में किसी ऊंची पोजिशन पर पहुंच जाता है, तो दूसरे भाई को इससे जलन होने लगती है। ऐसे में जलन की भावना को कम करना है और रिश्ते को बेहतर बनाना है। तो सबसे पहले भाई के टैलेंट को स्वीकारने की कोशिश करें। इसके साथ ही नवरात्रि में मां दुर्गा के नामों का जाप करते हुए छोटा सा हवन करें।
5. कुछ लोग शारीरिक रूप से कमजोर होते हैं, तो कुछ लोग शरीरिक रूप से बेहद मोटे होते हैं। जिसकी वजह से उनका दोस्तों और रिश्तेदारों के बीच बार-बार मजाक बनता है। जिससे रिश्ते में धीरे-धीरे तनाव पैदा होने लगता है। अगर आप भाईयों के बीच होने वाले इस तनाव को खत्म करना चाहते हैं, तो पहले दूसरों के सामने एक-दूसरे का मजाक बनाने की आदत को बंद करें। नवरात्रि में मां दुर्गा के चौथे रूप देवी कुष्मांडा के बीज मंत्र (ऊं कुष्मांडाय नम:) का जप करके आरोग्य का वरदान प्राप्त करें। इसके साथ ही संतुलित आहार लेने की आदत बनाएं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story