Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मदर टेरेसा की तरह इन ''माताओं'' ने भी दी सैकड़ों बच्चों को नई जिंदगी, जानें इनके बारे में

दुनिया में शायद ही कोई हो, जो त्याग, समर्पण और सेवा की साक्षात मूर्ति मदर टेरेसा के नाम से परिचित नहीं होगा।

मदर टेरेसा जिंदगी भर दूसरों की सेवा करती रहीं और जीते जी ऐसा मार्ग प्रशस्त कर गईं कि उनके जाने के बाद भी उनका अनुसरण करके लोग अनाथ बच्चों और बेसहारा लोगों की मदद कर रहे हैं।

18 वर्ष की कम उम्र में ही वे नन बन गईं थीं। आयरिश मूल की टेरेसा भारत के लोगों के लिए आजीवन काम करती रहीं।

इन्हें 1979 में नोबेल शांति पुरस्कार और 1980 में भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न दिया गया। वर्ष 2016 में वेटिकन सिटी के पोप ने उन्हें संत की उपाधि प्रदान की।

उनके द्वारा स्थापित मिशनरीज ऑफ चैरिटी का कार्य लगातार विस्तृत होता रहा और उनकी मृत्यु के समय तक वह 123 देशों में 610 मिशन संचालित कर रहा है।

Next Story