Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इन वजहों से होता है माइग्रेन, जानें सिर दर्द को कम करने के उपाय

माइग्रेन सिर से जुड़ी बीमारी है। माइग्रेन के दौरान तेज सिर दर्द होता है। माइग्रेन होने पर आमतौर पर सिर के आधे भाग में दर्द होता है और आधे में नहीं। साथ ही माइग्रेन में होने वाला दर्द आता-जाता रहता है। माइग्रेन में कई बार पूरे सिर में भी दर्द होता है। माइग्रेन का दर्द 2 घंटे से लेकर 72 घंटे तक बना रह सकता है।

इन वजहों से होता है माइग्रेन, जानें सिर दर्द को कम करने के उपाय
X

Migraine Causes

माइग्रेन सिर से जुड़ी बीमारी है। माइग्रेन के दौरान तेज सिर दर्द होता है। माइग्रेन होने पर आमतौर पर सिर के आधे भाग में दर्द होता है और आधे में नहीं। साथ ही माइग्रेन में होने वाला दर्द आता-जाता रहता है। माइग्रेन में कई बार पूरे सिर में भी दर्द होता है। माइग्रेन का दर्द 2 घंटे से लेकर 72 घंटे तक बना रह सकता है।

कई बार ऐसा होता है कि माइग्रेन का दर्द शुरू होने से पहले व्यक्ति का शरीर कई तरह के संकेत देता है। उससे आसानी से पता चल जाता है कि माइग्रेन का सिर दर्द होने वाला है। शरीर के इन संकेतों को ‘ऑरा’ कहते हैं। इसके अलावा माइग्रेन को 'थ्रॉबिंग पेन इन हेडक' भी कहा जाता है।

यह भी पढें: जिम जाने का नहीं है टाइम तो मोबाइल पर इंस्टॉल करें ये ऐप, फिटनेस रहेगी बरकरार

माइग्रेन के दर्द में ऐसा फील होता है कि जैसे सिर पर कोई हथौड़े मार रहा हैं। माइग्रेन का दर्द इतना तेज होता है कि उसके कारण मरीज सही तरह से कामकाज नहीं कर पाता है। माइग्रेन की बीमारी ज्यादातर लोगों में जेनेटिक होती है। माइग्रेन पुरुषों की तुलना में महिलाओं को ज्यादा होता है।

माइग्रेन होने का कारण

  • ज्यादा कैफीन वाली चीजें जैसे चाय-कॉफी का सेवन नियमित से ज्यादा लेना।
  • किसी चिंता या नींद पूरी ना होना (अनिद्रा)।
  • हॉर्मोन्स लेवल में परिवर्तन होने के कारण माइग्रेन हो सकता है।
  • किसी ट्रिप पर जाने या मौसम बदलने के कारण भी माइग्रेन का दर्द हो सकता है।
  • पेन किलर का सेवन ज्यादा करने के कारण

माइग्रेन ट्रीटमेंट

  • माइग्रेन का दर्द होने पर सिर की हल्की-हल्की मालिश करें।
  • गर्म पानी में एक तौलिए भिगाकर दर्द वाले हिस्से पर सिंकाई करें।
  • ठंडी सिंकाई करने के लिए बर्फ के टुकड़ों का इस्तेमाल करें।
  • संतुलित आहार के साथ दिनचर्या भी संतुलित रखें।
  • दिनभर में 12-14 गिलास पानी का सेवन करें।
  • मेडिटेशन, योगासन, एक्यूपंक्चर या अरोमा थेरपी के लिए किसी डॉक्टर से सलाह लें।
  • हेडबैंड लगाकर भी माइग्रेन के दर्द को कम किया जा सकता है।

इन बातों का रखें ध्यान

  • ज्यादा देर तक भूखे न रहें, थोड़े-थोड़े समय पर कुछ खाते रहें।
  • काम करने वाली जगह पर तेज रोशनी, तेज धूप या तेज गंध से बचें। इससे दर्द बढ़ता है।
  • माइग्रेन होने पर जंक फूड और डिब्बा बंद खाना न खाएं।
  • पनीर, चॉकलेट, चीज, नूडल्स और केला खाने से भी माइग्रेन का दर्द बढ़ जाता है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story