Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

तो इस वजह से शादीशुदा होने के बाद भी ऐसी महिलाओं को माना जाता है कुंवारी

पद्मपुराण के अनुसार ऋषि गौतम की पत्नी अहिल्या बहुत सुंदर स्त्री थी। एक समय की बात है देवराज इंद्र भ्रमण कर रहे थे तो उनकी नजर देवी अहिल्या पर पड़ी और वे मोहित हो गए।

एक दिन जब गौतम ऋषि सुबह अपने स्नान और पूजन के लिए घर से बाहर गए तो इंद्र उनका रूप बनकर वहां पहुंच गए। गौतम ऋषि को देखकर अहिल्या ने पूछा कि वह इतनी जल्दी कैसे लौट आए। इंद्र ने अहिल्या के साथ संबंध बनाए और उसी दौरान ऋषि गौतम भी लौट आए।

अहिल्या को इस रूप में देखकर वह क्रोधित हुए और उन्होंने अहिल्या को पत्थर बनने का शाप दे दिया। बाद में जब ऋषि गौतम का गुस्सा शांत हुआ और उन्हें सच्चाई का पता चला तो उन्होंने अहिल्या को राम के स्पर्श पर इस शाप से मुक्ति का आशीर्वाद दे दिया।

अहिल्या की अपने पति के प्रति पूरी तरह से निष्ठावान थी और यही कारण था कि उन्हें कौमार्य (पवित्र) माना गया है।

Next Story