Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल की बीमारी में मददगार साबित होती है शादी

आज की युवा पीढ़ी प्यार-मोहब्बत तो करती है लेकिन शादी के बंधन में बंधना नहीं चाहती।

दिल की बीमारी में मददगार साबित होती है शादी
X

अक्सर आपने देखा होगा कि आज की युवा पीढ़ी प्यार-मोहब्बत तो करती है लेकिन शादी के बंधन में बंधना नहीं चाहती। फिर चाहे लड़का हो या लड़की, हमेशा अपने माता पिता को शादी नहीं करने के ढेरों कारण बताते रहते हैं।

लेकिन क्या आप जानते हैं शादी आपकी सेहत के लिए अच्छी है। ये हम नहीं बल्कि एक रिसर्च कह रही है। इस रिसर्च के मुताबिक अगर आपको हाई कोलेस्ट्रॉल जैसे कारणों से दिल का दौरा पड़ने का खतरे है तो शादी की वजह से आपके जीवित रहने की संभावना बढ़ जाती है।

बढ़ जाती है जान बचने की उम्मीद

ब्रिटेन में करीब 10 लाख एडल्ट्स पर किए गए एक शोध के आधार पर शोधकर्ताओं ने बताया कि एक प्यार करने वाला पार्टनर आपको अपनी देखभाल बेहतर तरीके से करने को प्रेरित करता है।

इसे भी पढ़ें- रिलेशनशिप में आने के बाद कपल क्यों करते हैं ये पागलपंती

शोध करने वाले एस्टन मेडिकल स्कूल के शोधार्थियों ने बताया कि शादी से दिल का दौरा पड़ने पर जान बचने की उम्मीद बढ़ जाती है। ब्रिटिश कार्डियोवैस्क्यूलर सोसायटी के इस हालिया शोध में इसकी वजह भी बताई गई है।

सकारात्मक प्रभाव को समझना होगा

शोधकर्ता कहते हैं, 'हमें दिल की बीमारी के कारणों पर थोड़ा और अध्ययन करना होगा। लेकिन शोध में यह बात सामने आई है कि शादीशुदा जिंदगी न केवल दिल की बीमारी की हालत में बल्कि जिन लोगों में इसके जोखिम ज्यादा हैं उनमें भी मददगार साबित होती है।

लेकिन हम यह नहीं कह रहे कि हर इंसान को शादी कर ही लेनी चाहिए। हमें शादी के सकारात्मक प्रभाव को समझने की जरूरत है।'

बचने की संभावना 16% अधिक

शोधकर्ताओं का अनुमान है कि दिल की बीमारी के लिए जिम्मेदार हाई कोलेस्ट्राल और हाई ब्लड प्रेशर जैसे जोखिम की स्थिति में अगर मरीज शादीशुदा है तो उसका रिस्क कम हो जाता है। अध्ययन में दिल की बीमारी से मौत के साथ-साथ हर तरह की बीमारी से होने वाली मृत्यु को शामिल किया गया था।

इसे भी पढ़ें- पार्टनर से धोखा मिलने पर सबकी फीलिंग होती है अलग

शोध के नतीजों में बताया गया है कि हाई कोलेस्ट्रॉल वाले 50, 60 और 70 की उम्र की महिलाओं और पुरुषों में शादीशुदा लोगों के बचने की संभावना 16 प्रतिशत तक ज्यादा होती है।

किसी खास शख्स की मौजूदगी जरूरी है

ऐसी ही हालत डाइबीटीज और हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों के मामले में भी पाया गया है। हालांकि सेक्सुअली एक्टिव, एक-दूसरे से अलग रह रहे पति-पत्नी, तलाकशुदा लोगों के मामले में यह तस्वीर उतनी साफ नहीं है।

इसके अलावा शोधकर्ताओं ने इस बात की भी जांच नहीं की है कि शादीशुदा लोग वाकई खुशहाल हैं या नहीं। उनका कहना है कि सिर्फ शादीशुदा होने की बजाए आपकी जिंदगी में किसी खास शख्स की मौजूदगी से भी फर्क पड़ता है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story