Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अगर आप भी ''मकर संक्राति'' पर बनाते हैं खिचड़ी, तो जानिए इसके पीछे की वजह

नए साल पर त्यौहारों की शुरूआत जनवरी के महीने में आने वाले मकर संक्रांति 2019 (Makar Sankranti 2019) के त्यौहार से होती है। आपने अक्सर शास्त्रों में मकर संक्रांति 2019 (Makar Sankranti 2019) के दिन दाल और चावल को मिलाकर बनने वाली खिचड़ी और तिल से बनी चीजों को दान करने के महत्व के बारे में जरूर सुना होगा, लेकिन क्या आप मकर संक्रांति 2019 (Makar Sankranti 2019) पर खिचड़ी के बनाने और दान करने की वजह जानते हैं।

अगर आप भी

Makar Sankranti 2019 Khichdi

नए साल पर त्यौहारों की शुरूआत जनवरी के महीने में आने वाले 'मकर संक्रांति 2019' (Makar Sankranti 2019) के त्यौहार से होती है। आपने अक्सर शास्त्रों में 'मकर संक्रांति 2019' (Makar Sankranti 2019) के दिन दाल और चावल को मिलाकर बनने वाली खिचड़ी और तिल से बनी चीजों को दान करने के महत्व के बारे में जरूर सुना होगा, लेकिन क्या आप 'मकर संक्रांति 2019' (Makar Sankranti 2019)
पर खिचड़ी के बनाने और दान करने की वजह जानते हैं। अगर नहीं, तो आज हम आपको 'मकर संक्रांति 2019' (Makar Sankranti 2019) पर बनने वाली खास खिचड़ी बनाने के महत्व, दान और उसके सेवन करने की पीछे की असल वजह के बारे में बता रहे हैं।

तिल के लड्डू : मकर संक्रांति पर ऐसे बनाएं तिल के लड्डू, जानें तिल के फायदे

मकर संक्रांति 2019 (Makar Sankranti 2019) पर खिचड़ी बनने से जुड़ी वजह और मान्यताएं

वैसे तो 'मकर संक्रांति 2019' (Makar Sankranti 2019) पर खिचड़ी बनने के पीछे कई सारी मान्यताएं प्रचलित हैं। जिनमें से एक मान्यता के मुताबिक,'मकर संक्रांति 2019' (Makar Sankranti 2019) पर खिचड़ी बनने की शुरूआत सबसे पहले शिव भक्त गुरू गोरखनाथ से जुड़ी हुई है।
माना जाता है कि बाबा गोरखनाथ के समय खिलजी का शासन था। जिसके आक्रमण से बचने के लिए अक्सर योगी संन्यासी गुफाओं में छुपे रहते थे। लंबे समय तक भूखे रहने की वजह से सभी साधु संत धीरे-धीरे कमजोर होने लगे थे।
साधु सन्यासियों की दुर्बल हालत को देखते हुए दाल, चावल और सब्जी को मिलाकर खिचड़ी बनाने की शुरूआत की गई थी। जब पहली बार खिचड़ी बनाई गई तब मकर संक्रांति 2019 (Makar Sankranti 2019) का त्यौहार था। खिचड़ी खाने में सादी होने के साथ ही बेहद स्वादिष्ट और पौष्टिक थी।
इसलिए तभी से लोग मकर संक्रांति 2019 (Makar Sankranti 2019) के दिन दाल-चावल को मिलाकर बनाई जाने वाली खिचड़ी बनाने लगे। इसके साथ ही सूखी खिचड़ी और पकी हुई खिचड़ी को दान या गरीब लोगों में बांटनें को भी बेहद शुभ माना जाता है।
क्योंकि शास्त्रों के मुताबिक, किसी भी खुशी या उत्सव को दूसरों के साथ मिलकर मनाना सबसे अच्छा तरीका होता है। इसलिए मकर संक्रांति 2019 (Makar Sankranti 2019) पर खिचड़ी और तिल से बनी चीजों का दान किया जाता है।
जबकि मकर संक्रांति 2019 (Makar Sankranti 2019) पर खिचड़ी बनने के पीछे दूसरी मान्यता के मुताबिक, साल की शुरूआत में आने वाला नया अनाज भी होता है।
जिसकी वजह से
पंजाब और हरियाणा
में भी नई फसल की खुशी में 'लोहड़ी' का त्यौहार मनाया जाता है। इसी वजह से मकर संक्रांति 2019 (Makar Sankranti 2019) पर भी दाल और चावल को मिलाकर खिचड़ी बनाई जाती है। जो खाने में बेहद ही स्वादिष्ट होती है।
Share it
Top