Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अपने फ्री टाइम में ऐसे बेस्ट और क्रिएटिव बन सकती हैं घरेलू महिलाएं, इन बातों पर देना होगा ध्यान

भले ही आप कितनी बिजी रहती हों, लेकिन दिन में या वीकेंड पर कुछ समय तो फ्री टाइम मिलता ही होगा। क्या आपने इस बात पर गौर किया है कि इस दौरान आप क्या करती हैं? फ्री टाइम कैसे बिताती हैं? अगर नहीं तो इस पर गौर करें क्योंकि फ्री टाइम का यूज आप खुद को और भी क्रिएटिव, स्किल्ड बनाने के लिए कर सकती हैं। कैसे, ये हम बताते हैं।

अपने फ्री टाइम में ऐसे बेस्ट और क्रिएटिव बन सकती हैं घरेलू महिलाएं, इन बातों पर देना होगा ध्यान
X

अधिकतर महिलाएं अपने खाली समय को यूं ही गवां देती हैं। फोन को स्क्रॉल करने, यूट्यूब वीडियोज या वेब सीरीज देखने या फिर सोशल नेटवर्किंग साइट्स (Networking Sites) पर अपना समय बिताती हैं। इस तरह उनका फ्री टाइम बिल्कुल वेस्ट हो जाता है। जबकि फ्री टाइम (Free Time Use) को सही तरह से यूज करके आप इसे प्रोडक्टिव बना सकती हैं। अगर आप चाहती हैं कि आपका समय प्रोडक्टिव हो तो यहां दिए गए सुझावों को अमल में लाएं।

1- कुछ नया सीखें

कुछ नया सीखकर, फ्री टाइम का बहुत अच्छा यूज किया जा सकता है। आप कुछ ऐसी स्किल सीख सकती हैं, जो आपकी प्रोफेशनल ग्रोथ में काम आ सके। इसके लिए आप तरह-तरह की वीडियोज देख सकती हैं, अपने फील्ड के एक्सपर्ट के वीडियोज देख सकती हैं। वीडियो में आप हर चीज बहुत बारीकी से सुनें, उनकी कामकाज की शैली समझें, कोई नई भाषा सीखें, फील्ड से जुड़ी ताजा खबरें पढ़ें या देखें। सेल्स फील्ड से हैं तो सेल्स के नए-नए गुर सीखें, फोटोग्राफर हैं तो डिजिटल इमेजिंग या थ्रीडी प्रिंटिंग की जानकारी लें, लेखक या पत्रकार हैं तो ऑनलाइन मैगजींस, न्यूज पेपर्स या वेबसाइट का कंटेंट देखें।

2- लोगों से कनेक्टेड रहें

जब भी वक्त मिले अपने परिजनों, रिश्तेदारों और मित्रों से फोन पर बात करें। वैसे भी आजकल के बिजी शेड्यूल की वजह से हम अपने नाते-रिश्तेदारों से कनेक्टेड नहीं रह पाते हैं। ऐसे में फ्री टाइम मिलने पर उनसे मुलाकात करें। आप चाहें तो अपने पुराने कुलीग्स, फ्रेंड्स से भी मिल सकती हैं। इस तरह आपका नेटवर्क बढ़ेगा और फ्री टाइम (Free Time) का बहुत अच्छा यूज हो जाएगा। इतना ही नहीं, इससे आपकी पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ में फ्रेशनेस-एनर्जी बनी रहेगी। इस तरह आपके कम्युनिकेशन स्किल्स में डेवेलपमेंट भी होता रहेगा।

3-क्रिएटिव बनें

अगर आप फ्री टाइम में कहीं जाना नहीं चाहती हैं या फिर किसी से मिलना नहीं चाहती हैं, तो आप लोगों के साथ अपने व्यूज शेयर कर सकती हैं। अपने फ्री टाइम का बेस्ट यूज क्रिएटिव बनने के लिए किया जा सकता है। इन दिनों आपके लिए बहुत सारे ऑप्शंस मौजूद हैं। इसके लिए आप ब्लॉग या ऐसे सोशल साइट प्लेटफॉर्म से जुड़ सकती हैं, जहां व्यूज शेयर किए जा सकते हैं। अगर आप बहुत अच्छा लिखती हैं तो कई नामी गिरामी अखबार, पत्रिकाओं, जर्नल या वेब पोर्टल्स पर अपने लेख भेज सकती हैं। इससे आपकी अलग पहचान बनेगी। अगर आपको पेंटिंग या म्यूजिक का शौक है तो इस स्किल को और निखार सकती हैं।

दूसरों की हेल्प करें

इस दुनिया में करोड़ों ऐसे लोग हैं, जिन्हें सामान्य जीवन जीने के लिए भी दूसरों की मदद की जरूरत होती है। अगर आप इतनी सक्षम हैं कि दूसरों की मदद कर सकती हैं तो अपने फ्री टाइम में ऐसा कोई काम कर सकती हैं। इसके लिए सामाजिक, धार्मिक संस्थाओं से जुड़ें, जो समय-समय पर लोगों की मदद करने के लिए आयोजन करती रहती हैं। अपने वर्किंग टाइम के बाद या छुट्टी के दिन आप इनके लिए काम कर सकती हैं। जरूरी नहीं है कि आप सिर्फ जरूरतमंद लोगों की ही मदद करें। आप चाहें तो अपने पड़ोसियों, नाते-रिश्तेदार, जो किसी मुसीबत में हों, उनकी भी मदद कर सकती हैं। ऐसा करने से ना सिर्फ आपका फ्री टाइम यूजफुल हो जाएगा बल्कि आपकी मदद से दूसरों की लाइफ में बड़े बदलाव आ सकेंगे। लोगों की नजर में आपकी प्रतिष्ठा बढ़ेगी। इससे आपको मानसिक सुकून भी मिलेगा।

मी-टाइम बनाएं

कई बार ऐसा होता है कि फ्री टाइम में हमें कुछ भी करने का मन नहीं करता। जब आपके साथ ऐसा हो, तो फ्री टाइम को मी-टाइम में बदल दें। इस दौरान कुछ ना करें। फोन से भी दूर रहें। बस चुपचाप एकांत किसी कमरे में कुछ देर के लिए बैठ जाएं। मन में विचारों की धारा को प्रवाहित होने दीजिए। अपने वर्तमान और आने वाले वक्त के बारे में पॉजिटिव सोचिए। आपका ड्रीम क्या है, आप क्या बनना चाहती हैं, इस पर विचार कीजिए। अपने ड्रीम टारगेट को अचीव करने के लिए आप क्या कर सकती हैं, इस पर मंथन कीजिए। हां! ऐसे वक्त में जो-जो विचार या प्लान दिमाग में आएं उन्हें वेस्ट ना होने दें, एक कागज में इन्हें नोट कर लें। इस तरह एकांत में चिंतन करना, मेडिटेशन जैसे फायदे दे सकता है।

सही नहीं ओवर फ्री टाइम

वैसे तो आज की व्यस्त जिंदगी में ज्यादातर लोग यही कहते सुने जाते हैं कि उनके पास समय नहीं है। फिर भी ऐसे लोगों की भी कमी नहीं है, जिनके पास बहुत ज्यादा फ्री टाइम होता है। लेकिन जिस तरह अति हर चीज की बुरी होती है, ऐसा ही इस मामले में भी होता है। अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों की एक टीम ने अपने ताजा अध्ययन में कहा है कि ज्यादा फ्री टाइम होना मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। यह रिसर्च 'जर्नल आफ पर्सनालिटी एंड सोशल साइकोलॉजी' में प्रकाशित हुई है। इस बारे में व्हार्टन स्कूल में मार्केटिंग की प्रोफेसर और शोधकर्ता मैरिसा शेरीफ कहती हैं, जैसे बहुत कम फ्री टाइम मिलना गलत बात है, वैसे ही बहुत ज्यादा फ्री टाइम भी नुकसानदायक होता है। दो विभिन्न प्रयोगों में शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि ज्यादा फ्री टाइम मिलने पर लोगों की प्रोडक्टिविटी घटती है और वे बोरियत या नकारात्मक महसूस करने लगते हैं।

Next Story