Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

क्या आपको पता है अश्वगंधा के साइट इफेक्ट के बारे में

अश्वगंधा का प्रयोग आयुर्वेद में जड़ीबूटियां बनाने के लिए किया जाता है।

क्या आपको पता है अश्वगंधा के साइट इफेक्ट के बारे में

राजधानी की बढ़ती गर्मी से सभी परेशान हैं। वे इस परेशानी से निजात पाने आयुर्वेदिक उपचार कराते हैं। जैसे कहीं चोट लगने पर हल्दी एवं सरसों का लेप राहत देता है। ऐसा ही आयुर्वेदिक पौधा है अश्वगंधा। यह एक ऐसा झाड़ीदार पौधा है, जिससे कई बीमारियों को ठीक किया जा सकता है। यह तो आप जानते ही हैं कि अश्वगंधा का प्रयोग आयुर्वेद में जड़ीबूटियां बनाने के लिए किया जाता है।

अश्वगंधा से थायरॉयड, त्वचा संबंधी रोग, शरीर की दुर्बलता इत्यादि को दूर किया जा सकता है, लेकिन क्या आप जानते हैं अश्वगंधा के अधिक प्रयोग के नुकसान भी हो सकते हैं। जैसे हर सिक्के के दो पहलू होते हैं एक अच्छा और एक बुरा। ठीक वैसे ही अश्वगंधा के फायदे अनेक है लेकिन अश्वगंधा के अतिरिक्त प्रभाव भी कम नहीं है। आइए जानें अश्वगंधा के प्रयोग से क्या-क्या नुकसान हो सकते हैं।

हर समय नींद आना

ऐसा कई लोगों का अनुभव है कि अश्वगंधा का सेवन करने के बाद उन्हें हर समय नींद आती रहती है, हालांकि विशेषज्ञों का इस बाबत कहना है कि जो लोग लगातार अश्वगंधा का लंबे समय तक सेवन करते हैं। उनको फिर इसका सेवन करने के बाद नींद नहीं आती। शुरूआत में अश्वगंधा का सेवन थोड़ा सा कष्ट देने वाला होता है। ऐसे में आपको चाहिए कि आप इसकी खुराक शुरूआत के कुछ दिनों में रात को सोने से पहले लें। या फिर ऐसे समय में लें जब आप दिन में कुछ देर सो सके।

पेट संबंधी समस्याएं

अश्वगंधा की पत्तियों का सेवन करने वाले लोगों को पेट संबंधी समस्याएं होने की आशंका भी बनी रहती है। दरअसल अश्वगंधा की पत्तियों का सेवन करने से गैस बनने लगती है। अधिक मात्रा में अश्वगंधा के सेवन से दस्त और उल्टियां भी हो जाती हैं। इतना ही नहीं जिन लोगों को अल्सर की समस्या होती है, उन्हें खाली पेट या फिर केवल अश्वगंधा का सेवन नुकसान पहुंचा सकता है।

दवाएं बेअसर

यदि आप किसी गंभीर बीमारी से निजात पाने के लिए अश्वगंधा का सेवन कर रहे हैं, तो क्या आप जानते हैं कि आप पर अन्य दवाएं बेअसर हो सकती हैं। ऐसे में आपको अपने डॉक्टर से अन्य दवाओं के बारे में अच्छी तरह से बातचीत करके ही दवाओं का सेवन करना चाहिए।

शरीर के विपरीत रिएक्शन

यदि आप सूजन कम करने, गठिया के रोग को दूर करने, आर्थराइटिस इत्यादि रोगों से लड़ने के लिए अश्वगंधा का प्रयोग कर रहे हैं, तो आपको ऐसी स्थिति में अश्वगंधा का सेवन बंद कर देना चाहिए। दरअसल अश्वगंधा के नियमित सेवन से आपकी प्रतिरोधक क्षमता बहुत अधिक बढ़ जाती है। जिससे शरीर के विपरीत काम करना शुरू कर देती है। इसके अलावा मधुमेह रोगियों, पाचन संबंधी बीमारियों से परेशान व्यक्ति, अल्सर पीड़ित व्यक्ति, गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को अश्वगंधा के सेवन से बचना चाहिए। गर्भवती महिलाओं को इसीलिए भी मना किया जाता है, ताकि उनके होने वाले बच्चे को कोई नुकसान ना हो। अश्वगंधा के सेवन और इस्तेमाल से पहले अपने चिकित्सक से सलाह जरूर लें।

शारीरिक तापमान का बढ़ना

अश्वगंधा का सेवन करने से कुछ लोगों का शारीरिक तापमान बढ़ जाता है। नतीजा बुखार तक पहुंच सकता है। यदि आपको अश्वगंधा के रोजाना सेवन से प्रतिदिन शरीर के तापमान में बढ़ोत्तरी दिखाई देती है, तो आपको तुरंत इसका सेवन करना बंद कर दें, अन्यथा आपको इसके दुष्परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं और बुखार की स्थिति में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

Next Story
Top