Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

व्रत से पहले करें ये खास डाइट फॉलो, भूख और थकान नहीं होगी महसूस

करवा चौथ का व्रत महिलाएं खुशहाल दांपत्य जीवन और पति की लंबी आयु के लिए रखती हैं, लेकिन पति और खुद की लंबी उम्र के लिए व्रत के साथ ही हमेशा अपने खान-पान पर भी ध्यान देने की जरूरत होती है। जानिए, अच्छी हेल्थ के लिए किस तरह की डाइट जरूरी है।

व्रत से पहले करें ये खास डाइट फॉलो, भूख और थकान नहीं होगी महसूस

करवा चौथ का व्रत महिलाएं खुशहाल दांपत्य जीवन और पति की लंबी आयु के लिए रखती हैं, लेकिन पति और खुद की लंबी उम्र के लिए व्रत के साथ ही हमेशा अपने खान-पान पर भी ध्यान देने की जरूरत होती है। जानिए, अच्छी हेल्थ के लिए किस तरह की डाइट जरूरी है।

एक जोड़ा जब शादी के बंधन में बंधता है तो ताउम्र खुशहाली से एक-दूसरे का साथ निभाने का वादा करते हैं, लेकिन कई बार अपने खान-पान का ध्यान ना रखने पर किसी एक या दोनों की सेहत बिगड़ सकती है।

अगर अब तक आप अपनी और अपने पति की डाइट को लेकर कॉन्शस नहीं हैं तो इस करवा चौथ पर खुद से वादा करें कि अब आप दोनों की डाइट में कुछ जरूरी बातों का ख्याल रखेंगी।

यह भी पढ़ें : जानें क्या है 'म्यूजिक थैरेपी' और ये हैं इसके 5 अनसुने फायदे

डाइट हो बैलेंस्ड

हेल्थ एक्सपर्ट्स का मानना है कि हमेशा भूख से कुछ कम और लो कैलोरी वाला फूड खाना चाहिए। इससे वजन नियंत्रण में रहता है और पाचन तंत्र पर अतिरिक्त दबाव नहीं पड़ता है। साथ ही कई बीमारियों से बचाव भी होता है।

अमेरिकी शोधकर्ता एरिक रेवुसिन का कहना है कि जब लोग अपने कैलोरी इनटेक को 25 फीसदी तक कम कर लेते हैं तो उनमें डीएनए डैमेज दूसरों से काफी कम होता है। इनमें फास्टिंग इंसुलिन लेवल और बॉडी टेंपरेचर भी कम होता है और ये दोनों ही स्थितियां आयु बढ़ाने वाली होती हैं। कैलोरी इनटेक करने का सबसे सही तरीका यह है कि आप आमतौर पर दिन भर में जितना खाते हैं उससे 25-40 फीसदी कम खाएं।

आपकी डाइट लो शुगर, लो फैट हो और फूड न्यूट्रीशन का पावर हाउस हो। जैसे शाकाहारियों के लिए डिनर में 2 रोटी या डेढ़ कप ब्राउन राइस, एक कटोरी दाल या लेग्यूम्स, एक कटोरी मिक्स वेजीटेबल, हरी पत्तेदार सब्जियां, सलाद, दही, (स्किम्ड मिल्क का) और फल पर्याप्त है। नॉनवेजीटेरियंस स्टीम्ड या बेक्ड मछली या चिकन 30 ग्राम तक ले सकते हैं, लेकिन इन्हें आधी कटोरी दाल और आधी कटोरी दही के साथ लेना चाहिए।

यह भी पढ़ें : बदलते मौसम में रहें सावधान, गले में हो सकती है सूजन और इंफेक्शन- अपनाएं ये घरेलू नुस्खे

इनसे परहेज करें

संतुलित, पौष्टिक आहार के सेवन के साथ-साथ कुछ खास तरह के खान-पान से परहेज भी करना चाहिए। जैसे रिफाइंड और प्रोसेस्ड फूड्स का सेवन कई तरह से शरीर को नुकसान पहुंचाता है। इनका नियमित सेवन बीमारियों की वजह बन सकता है। ऐसे में चीनी, नमक, मैदा, रिफाइंड तेल का कम इस्तेमाल करना चाहिए। चीनी दांतों, मस्तिष्क, पाचन तंत्र, लिवर सबको नुकसान पहुंचाती है।

रिफाइंड और नमक ज्यादा सेवन करने से थायरॉइड, सिरदर्द, ब्लडप्रेशर, जोड़ों में दर्द, डिप्रेशन जैसी समस्याएं हो सकती हैं। इसके बदले सेंधा या देसी नमक इस्तेमाल करें। इसी तरह रिफाइंड ऑयल और वनस्पति घी शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ाता है।

मोटापा, किडनी की समस्या, अल्सर, हार्ट डिजीज, कैंसर के जोखिम को भी बढ़ाता है। मैदा भी आंतों में आसानी से पचता नहीं है और अपच की समस्या पैदा करता है। इन सब नुकसानों को देखते हुए कपल्स को अपनी डाइट में इन सभी खाद्य- पदार्थों को कम कर देना चाहिए।

हैप्पी मूड के लिए फूड

दुनिया भर के हेल्थ एक्सपर्ट कहते हैं कि दीर्घायु होने के लिए खुशमिजाज और जिंदादिल होना जरूरी है। लेकिन आज तनाव, डिप्रेशन और एंग्जाइटी जैसी बीमारियां बड़ी संख्या में लोगों को अपनी चपेट में ले रही हैं। इससे रिश्तों पर भी बुरा असर पड़ रहा है। ऐसे में जरूरी है कि मूड को ठीक रखने वाली डाइट को इंपॉर्टेंस दी जाए।

1. विटामिन बी में मूड को इंप्रूव करने की क्षमता होती है। पालक, एवोकाडो, अखरोट और सालमन में विटामिन बी पाया जाता है। स्पेशली विटामिन बी-12 जरूर लें। यह डिप्रेशन से लड़ने में मददगार होता है और मूड लिफ्ट करता है। यह योगर्ट, अंडों और सालमन में पाया जाता है।

2. प्रोटीन, मूड बूस्ट करने में मददगार होते हैं। प्रोटीन के लिए स्किम्ड मिल्क, मिल्क प्रोडक्ट्स, अंडे, लीन चिकन और मछली का सेवन करें।

3. हाई फाइबर फूड्स, मिठाई खाने की ललक और मूड स्विंग से बचाते हैं, इसलिए अधिक से अधिक रेशेदार भोजन का सेवन करें।

4. अखरोट और बादाम जैसे नट्स में जरूरी फैटी एसिड्स होते हैं, इनका सेवन तन के साथ मन के लिए भी फायदेमंद होता है।

5. सेरोटोनिन नामक पदार्थ पॉजिटिव और खुशी वाले विचारों का संचार हमारे भीतर करता है। यह टमाटर, कीवी, केला, बेर, अखरोट में पाया जाता है।

Next Story
Top