logo
Breaking

इन लोगों को हो सकता है ''कार्डियक अरेस्ट'', ये हैं लक्षण

तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता का निधन कार्डियक अरेस्ट की वजह से हुआ था।

इन लोगों को हो सकता है
नई दिल्ली. तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता की 5 दिसंबर की रात को निधन हो गया, वजह थी कार्डियक अरेस्ट। कार्डियक अरेस्ट हार्ट अटैक से अलग है। गौरतलब है कि जयललिता का इलाज चेन्नई के अपोलो अस्पताल में चल रहा था लेकिन अफसोस न दवा काम आई और न ही दुआ काम आई और अम्मा की मौत हो गई। कार्डियक अरेस्ट जब आता है तो पूरा बॉडी काम करना बंद कर देता है। ऐसे में मरीज की सांसें भी रुक जाती है। इसलिए आपको इस बीमारी को लेकर सारी जानकारियां होनी चाहिए जिससे वक्त रहते इलाज किया जा सके। ये हैं वे लक्षण जो बताते हैं कि आपको कार्डियक अरेस्ट की प्रॉब्लम हो सकती है।
- लेफ्ट साइड की पसलियों के आसपास या सीने के बीचों-बीच दर्द महसूस होता है और कुछ मिनट बाद खुद ही ठीक हो जाता है।
- अचानक सांस लेने में परेशानी महसूस होती है दिल की धड़कनें तेज हो जाती है।
- सीने में दबाव महसूस होता है या ऐसा लगता है कि सीने में कुछ भार रखा हुआ है।
- लगातार चेस्ट में या पीठ के ऊपरी हिस्से में दबाव महसूस महसूस होता है।
- हमेशा कमजोरी महसूस होती है। मामूली काम करने पर भी थकान महसूस होती है।
- अचानक बहुत गर्मी लगती है और ठंडा पसीना आता है।
- अक्सर सिर, पेट के ऊपरी हिस्से, पीठ बायें हाथ, गर्दन या दांतों में बिना किसी कारण दर्द महसूस होता है।
- इनडाइजेशन और बार-बार वोमिटिंग जैसा फील होता है या बार-बार वोमिटिंग आता है।
- अक्सर बेचैनी होती है, सिर घूमने का अहसास होता है।
- जोर-जोर से खर्राटे लेना। रात में कई बार नींद डिस्टर्ब होने की भी शिकायत होती है।
- हार्ट की समस्या होने पर हार्ट पूरे शरीर में सही तरह से ब्लड पंप नहीं कर पाता, ऐसे में पैरों में सूजन हो सकती है।
इन लोगों को हो सकता है कार्डियक अरेस्ट
- रोज 2 पैग से ज्यादा शराब पीने वाले लोगों को कार्डियक अरेस्ट की प्रॉब्लम हो सकती है।
- हार्ट डिसीज जेनेटिक हो सकती है। यानी घर पर किसी को हार्ट डिसीज रही है, तो आपको भी यह समस्या घेर सकती है।
- स्मोकिंग करने वालों को कार्डियक अरेस्ट आ सकता है। चूंकि सिगरेट पीने से हार्ट डिसीज का खतरा बढ़ता है।
- हाई बीपी की समस्या होने पर कार्डियक अरेस्ट और हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है
- बॉडी में कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने पर कार्डियक अरेस्ट की समस्या पैदा होती है।
- डायबिटीज पेशेंट को कार्डियक अरेस्ट आ सकता है। ब्लड शुगर लेवल बढ़ने पर हार्ट डिसीज की आशंका बढ़ती है।
- जो लोग लगातार बैठे रहते हैं उन्हे भी कार्डियक अरेस्ट आ सकता है। फिडिकली इनएक्टिव होने पर हार्ट डिसीज का खतरा बढ़ता है।
- मोटे लोगों को कार्डियक अरेस्ट आ सकता है। वजन बढ़ने पर हार्ट डिसीज का खतरा बढ़ता है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top