Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

महिलाओं को सर्वाइकल पेन से लेकर एसिडिटी की समस्या से निजात दिलाएंगे ये योग

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2018 (21 जून) को पूरा देश एक साथ योग करेगा। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के लिए तैयारियां तेजी से हो रही हैं। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर हम आपको महिलाओं के लिए योग के फायदे के बारे में बताने जा रहे हैं।

महिलाओं को सर्वाइकल पेन से लेकर एसिडिटी की समस्या से निजात दिलाएंगे ये योग

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2018 (21 जून) को पूरा देश एक साथ योग करेगा। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के लिए तैयारियां तेजी से हो रही हैं। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर हम आपको महिलाओं के लिए योग के फायदे के बारे में बताने जा रहे हैं। खासतौर पर वर्किंग वूमेन जिंदगी की भागदौड़ में अपनी सेहत पर ध्यान नहीं दे पाती हैं।

यही वजह है कि उन्हें कई तरह की बीमारियों का सामना करना पड़ता है। लेकिन क्या आपको पता है कि रोज के आधे घंटे के योग से आप तमाम तरह की समस्याओं से निजात पा सकती हैं।

नियमित योगाभ्यास से आप न केवल फिट रहती हैं, साथ ही कई तरह की शारीरिक समस्याओं से भी मुक्ति मिलती है। इसलिए जरूरी है, योगाभ्यास के लिए सुबह आधा घंटा जरूर निकालें। जानें रोजाना योग करने से कौन-कौन सी बीमारियां नहीं होती हैं।

तनाव

महिलाओं को स्ट्रेस की सबसे ज्यादा समस्या होती है। ऐसे में उन्हें भ्रामरी, अनुलोम-विलोम प्रणायाम का अभ्यास नियमित रूप से करना चाहिए। कम से कम पांच-पांच मिनट इन दोनों का रोज अभ्यास करें। इससे कुछ ही दिनों में तनाव पूरी तरह गायब हो जाएगा।

बैक पेन

लगातार लंबे समय तक सिटिंग जॉब करने की वजह से बैक पेन की समस्या महिलाओं में काफी बढ़ गई है। इससे निजात पाने के लिए भुजंगासन, शवासन, धनुरासन का अभ्यास करना चाहिए। इससे बैक पेन की समस्या धीरे-धीरे खत्म हो जाती है।

पेट बाहर निकलना

महिलाओं में यह समस्या बहुत आम हो गई है। वर्किंग हों या हाउसवाइफ, एक एज के बाद इस समस्या से अधिकतर महिलाएं ग्रस्त हो जाती हैं। पेट बाहर निकलने से शरीर बेडौल हो जाता है। इस समस्या से निजात पाने के लिए कपालभाती का अभ्यास करें। प्रतिदिन पांच मिनट से लेकर 15 मिनट तक कपालभाती करें। इसका अभ्यास खाना खाने से आधा घंटा पहले या फिर खाना खाने के चार घंटे बाद कभी भी किया जा सकता है।

गैस एसिडिटी

इस समस्या के लिए सबसे अच्छा योगाभ्यास पवनमुक्तासन और मंडुकासन होता है।

सावधानियां हैं जरूरी

  • दिए गए दिशा-निर्देशों को पूरी तरह से ध्यान में रखकर ही योगाभ्यास करें।
  • योगाभ्यास, किसी योगाचार्य की देखरेख में ही प्रारंभ करें, सीखने के बाद फिर अपने आप से शुरू करें।
  • योगा वीडियो का भी सहारा ले सकती हैं।
  • जब भी मेडिटेशन करें, पांच मिनट से शुरू करें और 45 मिनट तक बढ़ाएं। सांसों पर ध्यान केंद्रित करें।
  • खुले मैदान और जहां शोर-गुल ना हो, वहां इसका अभ्यास करना चाहिए।

रखें ध्यान

  • योगाभ्यास का पूरा लाभ पाने और यहां बताई गई समस्याओं से निजात पाने के लिए अपनी डाइट पर ध्यान देना भी जरूरी है।
  • खाना खाने के तुरंत बाद पानी ना पिएं, कम से कम एक घंटे बाद ही पानी पिएं।
  • खाना खाने के पांच मिनट पहले आधा गिलास पानी अवश्य पिएं।
  • हल्का भोजन करें।
  • तला-भुना और मसालेदार भोजन से बचें।
  • रात्रि को अरबी, आलू, गोभी, राजमा, उड़द, अरहर की दाल, रायता, चावल ना खाएं।

प्रस्तुति- अर्चना तिवारी

Next Story
Top