Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अगर आपको थकान और आलस होता है महसूस, तो आप हो सकते हैं इस गंभीर बीमारी के शिकार

अक्सर लोगों को सुबह उठने पर थकान और आलस महसूस होता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि रात में ठीक से नींद नहीं आती। इस बीमारी से बचने के लिए हम आपको बता रहे हैं अनिद्रा के लक्षण और अनिद्रा के उपचार के बारे में

अगर आपको थकान और आलस होता है महसूस, तो आप हो सकते हैं इस गंभीर बीमारी के शिकार

क्या आपको सुबह सोकर उठने पर थकान और आलस महसूस होता है। क्या आपको रात में ठीक से नींद नहीं आती। क्या आप अपने ऑफिस और घर के रोजमर्रा के कामों में गलतियां करते हैं। क्या आपको दिनभर सर में दर्द रहता है।

अगर इन सब सवालों के जवाब आपके लिए हां हैं, तो जरा संभल जाइए। क्योंकि ये सभी लक्षण इन्सोमेनिया यानि अनिद्रा नामक मानसिक बीमारी के हैं। ये बीमारी किसी भी व्यक्ति को किसी भी आयु में हो सकती है।

इन्सोमेनिया(अनिद्रा) कोई मामूली बीमारी नहीं है। इसमें लोग कुछ दिन,महीने या फिर कई सालों तक रात में ठीक से पूरी नींद नहीं ले पाते हैं। जिससे पीड़ित व्यक्ति मानसिक रूप के साथ-साथ शारीरिक रूप से भी बीमार होने लगता है।

चलिए आज हम आपको इस बीमारी के कारण और इससे बचने के कुछ आसान और असरदार उपाय बताते हैं। जिससे आप एक बार फिर से अपनी लाइफ को फ्रेश एनर्जी वाली गुड मॉर्निग बोल पाएंगें। जानिए अनिद्रा के लक्षण, अनिद्रा के कारण और अनिद्रा के उपचार के बारे में...

अनिद्रा के लक्षण

अनिद्रा के लक्षण की बात करें तो आमतौर पर दिन के समय नींद आना, शरीर सुस्त होना और मानसिक व शारीरिक रूप से बीमार होने की सामान्य अनुभूति को बढाती है।

मनोस्थिति में होने वाले बदलाव (मूड स्विंग्स), चिड़चिड़ापन और चिंता इसके सामान्य लक्षणों से जुड़े हुए हैं।

अनिद्रा के कारण

1. अत्याधिक तनाव लेना - आमतौर पर ज्यादा तनाव लेने पर लोगों की रात की नींद गायब होने वाली बात तो आपने भी सुनी होगी। लेकिन अगर ये तनाव आपका रूटीन बन जाए और लंबे समय तक रात को नींद नही आए, तो ये खतरनाक हो सकता है।

2. दवाओं का अत्याधिक सेवन करना - आज की स्ट्रेस वाली लाइफ में हाई बी.पी, हार्ट प्रॉब्लम्स आदि कई सारी बीमारियां होना आम बात हो गई है। ऐसे में इससे बचने के लिए लोग कई बार दवाओं का अत्याधिक सेवन करने लगते हैं और फिर रात को नींद ठीक से नींद नहीं आने की शिकायत करते हैं।

3. मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक गैजेट का कम करें प्रयोग - अक्सर लोग सोने से पहले भी मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स का यूज करते हैं। ताकि वो किसी अपडेट से चूक न जाएं। इसकी वजह से भी लोगों की नींद प्रभावित होती है।

4. नींद विकार होना - स्लीप एप्निया नामक बीमारी से पीड़ित लोग भी रात में लेटने पर सांस रूकने की वजह से ठीक से नींद नहीं ले

पाते हैं ।

5. कैफीन और एल्कोहल पेय पदार्थों का अत्याधिक सेवन - रात में ठीक से नींद नहीं आने के कारणों में कैफीन और एल्कोहल पेय पदार्थों का अत्याधिक सेवन भी अहम भूमिका निभाता है।

अनिद्रा के उपचार

1. तनाव को दूर करने के लिए अपना मंनपसंद काम करें या संगीत सुनें।

2. बेड पर जाने से पहले मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक गैजेट से बनाएं दूरी।

3. दवाओं का सीमित मात्रा में सेवन करना।

4. कैफीन और एल्कोहल का सीमित मात्रा में सेवन करना।

5. शारीरिक कार्यों को अधिक करना।

Next Story
Top