Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अगर जीना चाहती हैं एक स्ट्रेस फ्री और खुशहाल जिंदगीं, तो खुद में लाएं ये 4 बदलाव

आप अपनी लाइफ में पॉजिटिव चेंज लाना चाहती हैं तो यह एक पल में मुमकिन नहीं होगा। आपको हर दिन कुछ छोटे-छोटे कदम बढ़ाने होंगे, उन पर अमल करना होगा। जानिए, किन बातों से, कदमों से आपकी जिंदगी में बदलाव संभव है।

अगर जीना चाहती हैं एक स्ट्रेस फ्री और खुशहाल जिंदगीं, तो खुद में लाएं ये 4 बदलाव
X
आज के दौर में घर हो या ऑफिस, हर फ्रंट पर महिलाएं खुद को साबित कर रही हैं। ऐसा करने के लिए कई बार अपनी क्षमता से अधिक दबाव भी उन्हें झेलना पड़ता है। इससे उनका जीवन कहीं न कहीं तनाव से घिर जाता है, लेकिन अपने व्यस्त समय और तमाम जिम्मेदारियों के बीच थोड़ा समय महिलाएं खुद को दें तो अपने सपनों को पूरा भी कर सकती हैं और सुकून से जी भी सकती हैं। इसके अलावा कुछ सामान्य लेकिन जरूरी बातों को पर अमल करें तो जीवन में सकारात्मक बदलाव महसूस करेंगी।

खुद को प्रॉयोरिटी दें

ज्यादातर महिलाएं घर-परिवार की देखभाल, अपनी जिम्मेदारियों का निर्वाह करने में पूरा समय देती हैं। लेकिन जब बात खुद की देखभाल की आती है तो वे इस बात को महत्व ही नहीं देती हैं। चौबीस घंटों में से चंद पल भी अपने लिए नहीं निकाल पाती हैं। जबकि खुद को समय देना, स्ट्रेस फ्री लाइफ के लिए बहुत जरूरी है।
जब लाइफ स्ट्रेस फ्री रहेगी तभी तो लाइफ के गोल्स अचीव किए जा सकते हैं, इस बात को समझना जरूरी है। भले ही आप खुद को दिन भर में पंद्रह मिनट दें, लेकिन नियम से खुद के लिए समय निकालें। इस दौरान आपको जो काम पसंद हो, वो करें। जब आप अपने लिए समय निकालना शुरू करेंगी तो पहले दिन से ही अपने अंदर पॉजिटिव चेंज महसूस करने लगेंगी।

यह भी पढ़ें : अगर महिलाएं चाहती हैं पुरूषों से बराबरी का हक, तो गांठ बांध लें ये चार बातें

अपना मन न दुखाएं

महिलाएं आमतौर पर छोटी-छोटी बात को दिल से लगा लेती हैं। जिसके कारण उनके मन, जीवन पर नकारात्मकता हावी होने लगती है। अगर आप अपने जीवन में सकारात्मक बदलाव लाना चाहती हैं तो बात-बात पर अपना मन न दुखाएं। दूसरों को माफ करना सीखें।
साथ ही अगर कोई आपकी आलोचना करता है या फिर आप पर कटाक्ष करता है तो उसे गंभीरता से न लें। खुद को इन बातों से तनाव में न आने दें। हो सके तो मेडिटेशन का सहारा लें, इससे आपको इनर पावर, स्ट्रेंथ मिलेगी।

न कहना सीखें

जो महिलाएं हमेशा ज्यादा काम के बोझ और तनाव से घिरी रहती हैं, उन्हें अमूमन ‘न’ बोलना नहीं आता है। इसके बाद जब उनके जिम्मे जरूरत से ज्यादा काम आता है तो वे चिड़चिड़ेपन का शिकार हो जाती हैं। इस स्थिति से उबरने का एक आसान तरीका है कि बेहद प्यार से सामने वाले व्यक्ति को न कह दें।
वहीं अगर आपके द्वारा किया गया काम किसी को पसंद नहीं आता है या फिर कोई आपको न कहता है तो उसे भी उतनी ही सहजता से स्वीकारें। यकीन मानिए, अगर आपने यह गुण अपना लिया तो बहुत-सी मुश्किलें आसानी से सुलझ जाएंगी।

फिजिकल एक्टिविटी पर दें ध्यान

कहते हैं पहला सुख, निरोगी काया। अगर आप खुद हेल्दी नहीं रहेंगी तो परिवार का ख्याल कैसे रख पाएंगी। ऐसे में जरूरी है कि अपने शारीरिक-मानसिक स्वास्थ्य का ख्याल रखें। एक्सरसाइज, फिजिकल एक्टिविटी से खुद को फिट रखें। वॉक, जॉगिंग, डांसिंग, रोप स्किपिंग, जुंबा, योगा, स्विमिंग भी करें।
अच्छा खानपान रखें, इससे आप एनर्जेटिक रहेंगी। इन बातों का असर आपकी वर्किंग एबिलिटी पर होगा, वह बढ़ेगी। जब वर्किंग एबिलिटी बढ़ेगी तो रिजल्ट अच्छा आएगा और आपको पॉजिटिव फील होगा।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story