logo
Breaking

दिमाग को चुस्त-दुरुस्त रखने के लिए अपनाएं ये तरीके, ऐसे पाएं मेंटल एनर्जी

जिस तरह शरीर को अच्छी तरह अपने काम करने के लिए ऊर्जा की जरूरत होती है, उसी तरह ब्रेन को भी मेंटल एनर्जी की जरूरत होती है। कुछ छोटी-छोटी बातों को ध्यान में रखकर आप अपनी मेंटल एनर्जी बढ़ा सकती हैं।

दिमाग को चुस्त-दुरुस्त रखने के लिए अपनाएं ये तरीके, ऐसे पाएं मेंटल एनर्जी

जिस तरह शरीर को अच्छी तरह अपने काम करने के लिए ऊर्जा की जरूरत होती है, उसी तरह ब्रेन को भी मेंटल एनर्जी की जरूरत होती है। कुछ छोटी-छोटी बातों को ध्यान में रखकर आप अपनी मेंटल एनर्जी बढ़ा सकती हैं।

ऐसा बहुत बार होता है कि हमारे सामने काम का ढेर पड़ा रहता है, मन में दर्जनों विचार उमड़ते रहते हैं, लेकिन मानसिक थकान के कारण काम करने का मन नहीं करता। अगर आपके साथ भी ऐसा होता है, तो अपनी मेंटल एनर्जी को बूस्ट करने के लिए अपनाएं कुछ आसान उपाय-

ब्रेन स्टिमुलेट करें

अपने दिमाग को एक्टिव रखने के लिए उसे ओवरवर्क से बचाते हुए स्टिमुलेट करें। इसके लिए आपको अपनी रूटीन में कुछ चैंलेंजिंग काम शामिल करने चाहिए, नई स्किल्स सीखनी चाहिए, नई भाषा सीखनी चाहिए या कोई प्रेरक पुस्तक पढ़नी चाहिए। दैनिक रूटीन में एक ही जैसे स्टीरियोटाइप काम न करके कुछ अलग तरह के काम भी ट्राई करें।

स्मार्टली करें काम

हमारा दिमाग एक बार में एक ही काम करने का अभ्यस्त होता है। इसकी संरचना कुछ ऐसी है कि अगर आप एक बार में ज्यादा काम करते हैं, तो इसकी ऊर्जा भी अधिक नष्ट होती है और नतीजे भी उम्मीद के मुताबिक नहीं मिलते। मल्टीटास्किंग से दिमाग बहुत जल्दी थक जाता है और किसी काम को ढंग से नहीं कर पाता। शोध के नतीजों से पता चला है कि अगर आप एक बार में एक काम करें तो 25 फीसदी कम समय में काम कर सकते हैं।

पानी पीते रहें

हमारे शरीर में पानी की अत्यधिक मात्रा होती है। दिमाग की कंपोजीशन में भी इसका काफी हिस्सा होता है। जब भी आपके शरीर में पानी की कमी होती है, शरीर के साथ-साथ आपका दिमाग भी सुस्त होने लगता है। इसलिए जब भी प्यास लगे, पानी जरूर पिएं। दिन की शुरुआत दो गिलास पानी से करें तो पाचन प्रणाली भी दुरुस्त होगी और दिमाग भी एक्टिव रहेगा।

पर्याप्त नींद लें

सोने से पहले अपने डिजिटल डिवाइस दूर कर दें। कई रिसर्च के नतीजों में पता चला है कि स्क्रीन से निकलने वाली नीली रोशनी दिमाग से एक खास हार्मोन का उत्सर्जन बंद कर देती है। यह हार्मोन शरीर और दिमाग को सोने के लिए तैयार करता है। नींद के दौरान हमारी ब्रेन सैल्स रिजुवनेट होती हैं और इनकी सुस्ती दूर होकर ये तरो-ताजा हो जाती हैं। इसलिए सुकून भरी पर्याप्त नींद जरूर लें।

एक्सरसाइज करें

एक्सरसाइज से जितना फायदा हमारे शरीर को होता है, उतना ही फायदा दिमाग को भी होता है। कई वैज्ञानिक इस बात पर एकमत हैं कि रेगुलर एक्सरसाइज से मेमोरी और सोचने की क्षमता में इजाफा होता है। जब आप व्यायाम करते हैं तो ग्लूकोज और ऑक्सीजन की सप्लाई दिमाग तक होती है, जो दिमाग को ऊर्जा देकर सक्रिय करते हैं। इसलिए हर रोज वॉकिंग, योग, स्विमिंग आदि जरूर करें।

पहचानें ब्रेन का एक्टिव टाइम

हम सबके दिमाग में काम करने की एक खास क्षमता होती है, जो 24 घंटे एक जैसी नहीं रह सकती। 24 घंटे के चक्र में कुछ लोगों का दिमाग सुबह ज्यादा फ्रेश रहता है और उस वक्त उसकी कार्यक्षमता अधिक रहती है, तो कुछ लोग दोपहर में और कुछ शाम के वक्त अधिक सक्रियता से काम कर सकते हैं। आपको अपने दिमाग के एक्टिव टाइम की पहचान करके उस वक्त अधिक काम करने चाहिए। अपने सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण काम आप उसी समय करें, इससे काम सुगमतापूर्वक होगा।

Share it
Top