Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

होम केयर : अपने स्वीट होम को बनाएं वायरस-बैक्टीरिया फ्री

सिर्फ कोरोना वायरस ही हमारे लिए खतरनाक नहीं है, अन्य वायरस भी घातक हो सकते हैं। इसलिए आपके स्वस्थ रहने के लिए जरूरी है, आपका घर हमेशा साफ-सुथरा रहे, विशेष रूप से किचेन। घर में हाइजीन का पूरा ध्यान रखें। कहां-कहां कैसी सावधानी बरतें, जानिए।

होम केयर : अपने स्वीट होम को बनाएं वायरस-बैक्टीरिया फ्री
X
घर को साफ कैसे रखें (फाइल फोटो)

घर स्वच्छ तो समझिए आप स्वस्थ। साफ घर हमें तमाम तरह की बीमारियों से मुक्त रखता है। ऐसा इसलिए क्योंकि साफ घर वायरस और बैक्टीरिया से मुक्त होता है। इस समय पूरी दुनिया में हर तरफ कोरोना का प्रकोप है। लेकिन एक बात बहुत ध्यान से जान लीजिए, दुनिया में सिर्फ एक कोरोना वायरस ही खतरनाक नहीं है और भी दर्जनों ऐसे वायरस हैं, जो काफी खतरनाक हैं। इनसे बचने का हमें पूरा प्रयास करना चाहिए, कैसे जानिए-

रसोई रखें संक्रमण मुक्त

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने पिछले दिनों देश के अलग-अलग हिस्सों में 1400 घरों का सर्वे किया। ये घर बाहर से दिखने में खूबसूरत और काफी साफ-सुथरे थे, लेकिन इनमें से ज्यादातर घरों की रसोई वायरस से संक्रमित पाई गई। ग्लोबल हाइजीन काउंसिल के द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक रसोई में इस्तेमाल किए जाने वाले कपड़े, चाकू, चोपिंग बोर्ड, फ्रिज के भीतर और उसके तमाम हिस्सों में 60 से 90 फीसदी हिस्से संक्रमित पाए गए।

बर्तन धोने वाले स्पंज और कपड़े को रखें साफ

हमेशा खाने-पीने की चीजों से भरे रहने वाले किचेन में भी कीटाणुओं और जीवाणुओं के अनुकूल बहुत-सी परिस्थितियां होती हैं और उर्वरा जमीन भी। किचेन में आप जिस स्पंज से अकसर बर्तन धोती हैं या स्पंज की जगह कोई कपड़ा इस्तेमाल करती हैं तो ये स्पंज और ये कपड़े मान लीजिए कीटाणुओं और जीवाणुओं की जननी हैं। इन्हें इनकी जननी होने से तभी रोका जा सकता है, जब इन्हें हर बार इस्तेमाल करने के बाद अच्छी तरह से धोया जाए और धोए जाने के बाद इन्हें धूप में सुखाया जाए। कोई किचेन क्लॉथ या बर्तन धोने वाला स्पंज जितना गीला रहेगा, वह आपके और आपके परिवार के स्वास्थ्य के लिए उतना ही खतरनाक है।

किचन काउंटर्स रखें एकदम साफ

किचन काउंटर्स पर हमेशा खाने के छोटे-छोटे टुकड़े गिरते रहते हैं या कहें बिखरते रहते हैं। ऐसा मत समझिए कि जो खाने के टुकड़े इतने बड़े नहीं हैं कि नंगी आंखों से दिख न सकें, वे हमें परेशानी में नहीं डालेंगे। वास्तव में किचेन काउंटर पर गिरने वाले खाने-पीने के छोटे-छोटे टुकड़े बैक्टीरिया का भंडार होते हैं, इनसे कीड़े-मकोड़े पनपते हैं और इन सबका अंत गृहिणी से लेकर उस घर के लोगों की सेहत पर इसका असर होता है।

बेडशीट्स और तकिया रखें स्वच्छ-साफ

कई लोगों को लगता है कि साफ-सफाई का रिश्ता आपके अच्छे लगने से है। ऐसा नहीं है। साफ-सफाई का रिश्ता हमारे स्वास्थ्य से भी है। हमारे जीवन की तमाम छोटी-छोटी बातें सीधे तौर पर हमारे स्वास्थ्य से जुड़ती हैं। यहां तक हमारे बेडशीट्स और तकिए तक हमारी सेहत तय करते हैं। वास्तव में इनके अंदर जो धूल और धूल-कण मौजूद होते हैं, उनसे कई किस्म के घातक बैक्टीरिया पैदा होते हैं। ऐसे खतरनाक बैक्टीरिया और एलर्जेंस से बचने के लिए जरूरी है कि तकिए के कवर को हर 15 दिन बाद गर्म पानी में धोएं और अच्छे से अच्छे तकिए को भी दो साल से ज्यादा इस्तेमाल न करें।

रखें हाइजीन का पूरा ध्यान

घर में हाइजीन की कमी हमें कई तरह की समस्याओं के दुष्चक्र में फंसा देती है। हाइजीन की कमी के चलते फूड प्वॉयजनिंग, डायरिया या जल्दी-जल्दी बीमार पड़ने के अलावा अस्थमा, जोड़ों के दर्द जैसी दर्जनों समस्याएं हो सकती हैं। अगर हम घर की साफ-सफाई पर ध्यान रखें तो आश्चर्यजनक ढंग से इन या ऐसी कई दूसरी स्वास्थ्य समस्याओं से छुट्टी मिल जाएगी।

Next Story