logo
Breaking

होली पर रहें हेल्दी और फिट, अपनाएं ये प्रिकोशन, जो आपको बचाएगा हानिकारक रंगो से

होली के दौरान मौसम का मिजाज भी बदलता रहता है, दिन में गर्मी तो सुबह-शाम सर्दी रहती है

होली पर रहें हेल्दी और फिट, अपनाएं ये प्रिकोशन, जो आपको बचाएगा हानिकारक रंगो से

होली के अवसर पर लोग जमकर रंग-गुलाल खेलने के साथ खूब सारी मस्ती करते हैं। इस मौके पर कई तरह के बाजारू व्यंजन भी खाते हैं। चूंकि इस दौरान मौसम का मिजाज भी बदलता रहता है, दिन में गर्मी तो सुबह-शाम सर्दी रहती है। इस तमाम वजहों से कई परेशानियां हमें अपनी चपेट में ले सकती हैं। जानते हैं, होली के मौके पर हमें कौन सी बीमारियां अपनी चपेट में ले सकती हैं, उनसे कैसे बचा जा सकता है?

गले में खराशः- होली के दिन चाय-कॉफी और कोल्ड ड्रिंक के ज्यादा सेवन से जुकाम होने और गला खराब होने की बहुत ज्यादा संभावना रहती है। इन परेशानियों से बचने के लिए एक साथ गर्म और ठंडा लेने से बचें। साथ ही सीमित मात्रा में इनका सेवन करें। होली के दिन हल्का और सुपाच्य भोजन करें। मौसम के अनुकूल कपड़े पहनें। खांसते-छींकते समय मुंह पर रूमाल अवश्य रखें।
ब्रीदिंग प्रॉब्लमः- आजकल मार्केट में मिलावटी कलर्स की भरमार है। ऐसे कलर्स से ब्रीदिंग प्रॉब्लम यानी, सांस संबंधी परेशानी होने का खतरा रहता है। इन कलर्स से अस्थमा पेशेंट्स को काफी परेशानी हाती है। रंगों में मौजूद केमिकल सांस के जरिए हमारे रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट में चले जाते हैं, जिससे एलर्जी पैदा होती है। इससे सांस लेने में काफी दिक्कत होने लगती है। इससे बचाव का उपाय है हर्बल और सूखे कलर से होली खेलना। अस्थमा पेशेंट के लिए मास्क पहनकर होली खेलना सेफ तरीका है।
फूड प्वॉयजनिंगः- होली के दिन अलग-अलग तरह के पकवान घर-घर बनते हैं। ऐसे में बहुत ज्यादा तली-भुनी और मीठे व्यंजन खाने से न सिर्फ हम बदहजमी के शिकार हो सकते हैं, बल्कि खट्टी डकार, छाती में जलन, दस्त आदि परेशानियां भी हो सकती हैं। इतना ही नहीं, रंग लगे हाथ से खाने के कारण रंग भी हमारे पेट में पहुंचते हैं। इस कारण फूड प्वॉयजनिंग भी हो सकती है। इनसे बचने के लिए बहुत ज्यादा तली-भुनी और मसालेदार व्यंजनों को खाने से बचें। इन्हें खाने की बजाय ड्राय फ्रूट्स या फल खाएं।
फीवरः- इस अवसर पर आप फीवर से भी ग्रस्त हो सकते हैं। चूंकि यह बदलता मौसम है, इसलिए ऐसा होना आम बात है। लेकिन जब हम गीले-सूखे रंगों से होली खेलते हैं, तो हमारे शरीर के तापमान में बदलाव होता है।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, होली खेलने से पहले लें प्रिकोशन -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top