Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Holi 2019 : होली की तैयारी कैसे करें, जानें

होली में सिर्फ दो दिन बाकी थे। रेनुका सोच रही थी इस बार होली की तैयारी पहले से ही कर लेगी। मेहमानों के लिए गुजिया और नमकीन बनाने का काम वह दो तीन दिन पहले ही निपटा लेगी। दिन भर बच्चों के साथ व्यस्त रहने के कारण होली वाले दिन तक वह गुजिया और अन्य चीजें बना नहीं पायी।होली के दिन सुबह ही उसने जल्दी उठकर सब काम समय पर करने के लिए सोचा लेकिन उसके घर पर लोगों का सुबह से ही आना शुरू हो गया था।रसोई घर में व्यस्त रहने के कारण घर आने वाले लोगों के साथ बैठकर बातचीत करने का उसके पास समय ही नहीं था। जल्दी उठकर उसने जो सुबह गुजिया बनायी वह प्लेट में रखकर मेहमानों के सामने लेकर गई। सब कुछ इतनी हड़बड़ी में हो रहा था कि उसने सोच लिया कि वह किसी भी कीमत पर अपने काम पहले ही निपटा कर रखेंगी। जिससे होली के समय उसे रसोई में न रहना पड़े।

Holi 2019 : होली की तैयारी कैसे करें, जानें

Holi 2019 : होली में सिर्फ दो दिन बाकी थे। रेनुका सोच रही थी इस बार होली की तैयारी पहले से ही कर लेगी। मेहमानों के लिए गुजिया और नमकीन बनाने का काम वह दो तीन दिन पहले ही निपटा लेगी। दिन भर बच्चों के साथ व्यस्त रहने के कारण होली वाले दिन तक वह गुजिया और अन्य चीजें बना नहीं पायी।होली के दिन सुबह ही उसने जल्दी उठकर सब काम समय पर करने के लिए सोचा लेकिन उसके घर पर लोगों का सुबह से ही आना शुरू हो गया था।रसोई घर में व्यस्त रहने के कारण घर आने वाले लोगों के साथ बैठकर बातचीत करने का उसके पास समय ही नहीं था। जल्दी उठकर उसने जो सुबह गुजिया बनायी वह प्लेट में रखकर मेहमानों के सामने लेकर गई। सब कुछ इतनी हड़बड़ी में हो रहा था कि उसने सोच लिया कि वह किसी भी कीमत पर अपने काम पहले ही निपटा कर रखेंगी। जिससे होली के समय उसे रसोई में न रहना पड़े।

Holi 2019 : होली के रंग छुड़ाने के घरेलू तरीके

अक्सर होता यह है कि होली वाले दिन परिवार के बाकी सदस्य तो इस त्यौहार को मनाने, धमाचौकड़ी में लग जाते हैं लेकिन गृहिणियां अक्सर इस दौरान उनकी पेट पूजा का इंतजाम करने में ही जुटी रहती है। जिसके कारण वह त्यौहार का मजा नहीं ले पाती। रसोई में व्यस्त रहने के कारण उन्हें घर आए मेहमानों के साथ बातचीत करने का समय नहीं मिल पाता। ऐसे में होली के लिए अगर कुछ दिन पहले से ही तैयारी कर ली जाए तो वह भी घर के बाकी सदस्यों के साथ इस त्यौहार को एंज्वाय कर सकती है।

होली के त्यौहार की तैयारी के लिए जो भी खरीदारी करनी होती उसे कुछ दिन पहले ही कर लेना चाहिए। होली का हुड़दंग 8-10 दिन पहले ही शुरू हो जाता है जिसके कारण उन दिनों बाजार जाना मुश्किल हो जाता है। ऐसे में अगर खरीदारी कुछ दिन पहले ही कर ली जाए तो इसमें सहुलियत होती है। जो पकवान आपने तैयार करने हैं उसके लिए खाद्य सामग्री पहले ही खरीद लें। होली के लिए यदि परिवार में शाम को नए कपड़े पहने जाने का रिवाज है तो परिवार के सदस्यों के लिए पहले से ही नए कपड़ों की खरीदारी कर लें। जिससे होली के दौरान बाजार जाने की जरूरत न हो और काम भी समय पर निपट जाए।

Holi Essay In Hindi : होली पर निबंध बच्चों के लिए

अगर होली के अवसर पर अपने रिश्तेदारो या दोस्तों को कोई उपहार देने के लिए सोचा है तो उनके लिए उपहारों की खरीदारी पहले से ही करके गिफ्ट पैक कराकर रख लें ताकि होली से दो तीन दिन पहले जब आप घर के दूसरे कामों में व्यस्त हों तो इनकी कोई चिंता न रहे। होली पर यदि रंग बनाने का काम घर पर ही करना है तो इसके लिए पहले से ही तैयारी कर लें। कौन सी विधि से किस रंग को तैयार करना है इसके बारे में सुनिश्चित कर लें। यदि रंग बाजार से खरीदकर लाने हैं तो उन्हें कुछ दिन पहले ही खरीद लें। हां, इतना जरूर याद रखें कि बाजार के रंग सही क्वॉलिटी के होने चाहिए जिससे किसी की त्वचा को नुकसान न पहुंचे। होली एक ऐसा त्यौहार है जिसमें इस खास मौके के लिए खास तरह के पकवान बनाए जाते हैं। होली के लिए गुजिया और नमकीन बनाने का काम एक सप्ताह पहले भी किया जा सकता है। क्योंकि यह कई दिन तक खराब नहीं होती। मालपुए, रबड़ी और ऐसी मिठाईयां जो जल्दी खराब नहीं होती उन्हें कुछ दिन पहले बनाकर रखा जा सकता है। अक्सर होता यह है कि गृहिणियां ज्यादा कामकाज या व्यस्तता के कारण होली वाले दिन भी इन चीजों को बनाती हैं। त्यौहार के दिन रसोई में लगातार लगे रहने से त्यौहार के समय उनके चेहरे पर थकान दिखायी देने लगती है और वे त्यौहार का मजा नहीं ले पातीं। इस स्थिति से बचने के लिए कुछ दिन पहले ही अपने पकवान बनाकर उन्हें सही ढंग से संग्रहित करें। हां, गाजर, सूजी, मूंगदाल हलवा, खीर यह सब होली के एक दिन पहले बनाएं।

घर में यदि ज्यादा मेहमान आने की संभावना है उनके खाने पीने की तैयारी पहले से ही कर लें। खाने का मैन्यू पहले से ही तैयार कर लें। होली वाले दिन मेहमानों के लिए जो चीजें बनानी हैं उसकी भी तैयारी एक दिन पहले कर लें। ऐसी चीजें बनाए जो आसानी से और जल्दी बन सकें। परिवार के सभी सदस्यों से इस बाबत बात कर लें कि सदस्य से मिलने, होली खेलने कितने लोग आ सकते हैं। उनके आने के आधार पर ही खाने की तैयारी करें ताकि अनावश्यक खर्च न हो। यदि आप घर में बहुत कुछ बना सकने में समर्थ न हों तो बाजार से भी नमकीन और अन्य स्नैक्स पहले से ही खरीदकर रख सकती हैं। कुछ ऐसी तुरंत-फुरत रेसिपी को याद रखें जिनसे आप जल्दी नमकीन या स्नैक्स तैयार कर सकती हैं। मूंगफली को तलकर उनमें सादा नमक लगाकर सर्व कर सकती हैं इसके अलावा मूंगफली को बेसन में डुबोकर तलें, मैदे से नमकपारे, मट्ठी तैयार की जा सकती है। इसके अलावा चना, मूंग और मसूर दाल को भिगोकर और सुखाकर इनकी नमकीन भी तैयार की जा सकती है। मैदे में मोयन डालकर उसमें अजवाइन और कलोंजी तथा कालीमिर्च डालकर चकले पर इसकी बड़ी रोटी बेल लें और इसे चाकू से काटकर इसे तले। चिड़वे को भूनकर उसमें भुनी मूंगफली मिलाये और उसमें चाट मसाल छिड़के यह नमकीन के तौरपर सर्व की जा सकती हैं। यदि घर में मिठाई बनाना संभव न हो तो बाजार से खरीदें।

Share it
Top