Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आपके कद में छिपा है आपकी सेहत का राज, जानिए कैसे

छोटे कद के इंसानों के खून में चीनी की मात्रा कम रहती है और उन्हें कैंसर होने का भी खतरा कम होता है।

आपके कद में छिपा है आपकी सेहत का राज, जानिए कैसे
X
नई दिल्ली. आमतौर पर आपने कई लोगों को कहते हुए सुना होगा कि हेल्दी खाने से ही अच्छी सेहत मिलती है यानि कि खाने में छुपा है अच्छी सेहत का राज। लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसा सच जिसके बारे में जानकर आपको हैरानी जरूर होगी। दरअसल हम बात कर रहे हैं लंबाई की। शायद आपको जानकर हैरानी होगी कि आपकी सेहत का राज़ छुपा रहता है आपके कद में।
कद और आपकी सेहत का आनुपातिक रिश्ता है। अगर आपका क़द लंबा है तो आप अपेक्षाकृत छोटे क़द के लोगों के मुक़ाबले मानसिक और शारीरिक रुप से कहीं बेहतर रहेंगे जबकि चोटे क़द के लोगों को अधिक स्वास्थ्य जटिलताओं का सामना करना पड़ता है।

छोटे और लंबे के लोगों की सेहत
हाल में हुए एक शोध में पाया गया है कि लंबे क़द के लोगों को दिल के रोग, खासतौर पर कोरोनरी हार्ट डिजीज (सीएचडी) का ख़तरा सामान्य की अपेक्षा 30 प्रतिशत कम होता है। अमेरिका के मेनोपॉलि(स हार्ट इंस्टि ट्यूट फाइंडेशन के शोधकर्ताओं का मानना है कि लंबे क़द के लोगों में कोरोनरी आर्टीज कैल्शियम (सीएसी) मौजूद है जो उन्हें दिल के रोगों से बचाने में मदद करता है।

कोरोनरी आर्टी कैल्शियम कोरोनरी हार्ट डिजीज के रोगियों में दिल के दौरे का संकेत देने में काफी सहायक माना जाता है।
लंबे क़द के लोगों में दिल की बीमारी का रिस्क कम होता है। औसत से अधिक लंबे या कम लंबे पुरुषों में डिप्रेशन (अवसाद) की समस्या का ख़तरा ज़्यादा होता है। एडिनबर्ग यूनिवर्सिटी में ऐसे जीन की पहचान की गई जो कद और बुद्धिमता दोनों को प्रभावित करता है।

'द स्कॉट्समैन' की रिपोर्ट के मुताबिक औसत से छोटे क़द वाले लोगों में लंबे कद के लोगों की तुलना में आइक्यू लेवल काफी कम होता है। छोटे इंसानों के जीन ज्यादा रक्षात्मक होते हैं। इस कारण उनके शरीर का आकार तो छोटा होता है, लेकिन जिदंगी लंबी हो जाती है। ऐसा माना जाता है कि, छोटा कद कैंसर जैसी घातक बीमारी को दूर रखने में काफी हद तक सहायक है।

छोटे कद की वजह
यूनिवर्सिटी ऑफ हेलसिंकी के शोधकर्ताओं के अनुसार छोटे क़द के पीछे एक्स क्रोमोजोम जिम्मेदार है। शोधकर्ताओं ने आईटीएम2ए नामक जीन को लंबाई बढ़ने से संबंधित माना है। शोधकर्ताओं ने इसे छोटे क़द के लिए भी जिम्मेदार माना है। इतना ही नहीं, शोध में यह भी पाया गया है कि महिलाओं में दो एक्स क्रोमोजोम होते हैं यानी उनमें मौजूद आईटीएम2ए जीन भी दोगुना होता है, इसलिए महिलाएं औसतन पुरुषों से क़द में छोटी होती हैं।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story