Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जानें क्या है हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्ट में अंतर, कई लोगों को नहीं होती है ये जानकारी

का‌र्डियक अरेस्ट में हृदय खून का संचार करना बंद कर देता है। ज्यादातार लोग इसे हार्ट अटैक ही मानते हैं। लेकिन वहीं हार्ट अटैक और कार्डिएक अरेस्ट में काफी अंतर होता है। जिसके बारे में लोगों को जानकारी नहीं होती है।

हार्ट अटैक और कार्डिएक अरेस्ट में बहुत अंतर है, जानें अंतर
X
हार्ट अटैक और कार्डिएक अरेस्ट में अंतर(फाइल फोटो)

मनुष्य का शरीर मशीन की तरह काम करता है। जैसे मशीन के पुर्जे खराब हो जाएं तो वो काम करना बंद कर देती है। ऐसे ही इंसान के शरीर का कोई अंग खराब हो जाए तो शरीर सही ढंग से काम नहीं करता है। आजकल की भागदौड़ की जिंदगी में ज्यादातर लोग स्ट्रेस से झूझते हैं। जिस वजह से लोगों में ज्यादातर दिल की बीमीरी देखने को मिल रही है। पहले ज्यादातर बुजर्ग दिल की बीमारी का शिकार होते थे। लेकिन आजकल ये बीमारी बच्चों में भी आम हो गई है।

दिल की बीमारी में हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्ट से लोगों की ज्यादा मौते होते हैं। बहुत ही कम लोग हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्ट में अन्तर जानते हैं। अक्सर लोग इन दोनों को एक ही बीमारी समझते हैं। चलिए आज हम आपको हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्ट में अन्तर के बारे बताएंगे।

क्या होता है हार्ट अटैक?

दिल के अंदर खून नहीं पहुंने से दिल का दौरा (हार्ट अटैक) पड़ता है। कई बार फिल्मों में भी देखा होगा जब किसी एक्टर के छाती पर हाथ रखकर दबाया जाता है। इससे हृदय में ब्लड सर्कुलेशन शुरू हो जाता है। यानी कि आसान शब्दों में कहें तो हार्ट अटैक में दिल के अंदर खून का प्रवाह रुक जाता है। जिससे दिल काम करना बंद कर देता है। दिल के दौरे में हृदय धड़कता रहता है। भले ही हृदय की मांसपेशी को खून न मिल रहा हो।

कार्डियक अरेस्ट क्या होता है?

अगर कार्डियक अरेस्ट की बात करें तो इसमें दिल के अंदर खून तो पहुंचता है लेकिन वो शरीर के बाकी हिस्सों में नहीं पहुंच पाता है।

दिल का काम शरीर के सभी अंगो तक खून पहुंचाना होता है। खून के ज़रिए शरीर के सभी हिस्सों में ऑक्सीजन पहुंचता है। वहीं अगर शरीर के किसी भी हिस्से में खून न पंहुचे तो वो हिस्सा काम करना बंद कर देता है। इसमें दिल धड़कना बंद कर देता है। इस वजह से इंसान बेहोश हो जाता है। सांस नहीं ले पाता है। कार्डिएक अरेस्ट होने पर अगर तुरंत इलाज न हो तो कुछ ही मिनटों में मौत सकती है।

Shagufta Khanam

Shagufta Khanam

Jr. Sub Editor


Next Story
Top