Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इन आदतों में सुधार कर हमेशा रह सकते हैं जवान

अगर 40 की उम्र पार करते ही आपके चेहरे पर एजिंग के लक्षण दिख रहे हैं तो सावधान हो जाएं। अपनी हैबिट्स में बदलाव करके आप लंबे समय तक यंग बने रह सकते हैं।

इन आदतों में सुधार कर हमेशा रह सकते हैं जवानजीवन शैली (प्रतीकात्मक फोटो)

हमारी कुछ आदतें हमें जाने-अनजाने ही समय से पहले बड़ी उम्र का या बुजुर्ग दिखाने लगती हैं। इसलिए यंग बने रहने के लिए 40 की उम्र के बाद इनसे बचना बहुत जरूरी है।

उठना-बैठना-चलना

चालीस पार के बाद भी अगर आपके चलने और बैठने की मुद्रा सही नहीं है तो सचेत हो जाएं। यह आदत लंबे समय तक रही तो आपकी रीढ़ की हड्डी अपना प्राकृतिक संतुलन, आकार खो देगी नतीजा यह होगा कि शरीर की बहुत-सी मांस-पेशियों और हड्डियों पर अतिरिक्त दबाव पड़ेगा, तनाव बढ़ेगा, कुछ हड्डियों के स्थाई तौर पर आकार खो देने पर झुककर चलने लगेंगे, इसी उम्र में बीमार बुजुर्गों की तरह हमेशा जोड़ों और हड्डियों, मांस-पेशियों में दर्द शुरू हो जाएगा, सक्रियता बाधित होगी। रोज सुबह-शाम कुछ देर वॉकिंग और एक्सरसाइज जरूर शुरू कर दें।

सोने का तरीका

रोजाना कम से कम सात घंटे सोना चाहिए। कम सोने से आप थके रहेंगे, दिमाग सुस्त होगा, ऊर्जा नहीं मिलेगी, वजन बढ़ेगा और झुर्रियां विकसित होंगी। ऐसे में आप जल्द ही बूढ़े दिखने लगेंगे। साथ ही आप किस करवट सोते हैं, दाएं या बाएं इस पर भी ध्यान दें। बहुत से लोग कहते हैं दाईं करवट सोना चाहिए तो कुछ का कहना है बाईं करवट। असल में करवट लेकर सोना ही गलत है। इस मुद्रा में आपका चेहरा तकिए से दबता है और इससे ठुड्डी और गालों पर झुर्रियां विकसित होती हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि सोने का सबसे सही तरीका है अपनी पीठ सीधी रखकर बिल्कुल सीधे होकर सोएं। इससे उचित आराम मिलेगा और असमय बुढ़ापे की निशानी झुर्रियां भी दूर रहेंगी।

बुरा नहीं थोड़ा-सा फैट

सब कहते हैं 40 की उम्र के बाद लो फैट डाइट ही लें। तेल, घी बिल्कुल बंद। मक्खन नहीं, दूध भी टोंड, चर्बी वाली मछली और मीट तो कतई नहीं। लेकिन झुर्रियों को कम करता है ओमेगा-3 फैटी एसिड, जिसका ठिकाना फैट में ही है। फैट से बिल्कुल ही कन्नी काटने की आदत आपकी स्किन की चमक और नयापन छीनकर आपको असमय बूढ़ा बना देगी।

आराम का तरीका

अगर आराम का समय मिलता है तो टीवी देखने में कोई बुराई नहीं है। जरूर देखें, पर ज्यादा नहीं और लगातार एक ही जगह पर देर तक बैठकर नहीं। हर बार जब आप एक ही जगह बैठकर घंटे भर से ज्यादा टीवी देखते हैं तो अपने जीवन से लगभग 20 मिनट गंवा रहे होते हैं। कहने का सबब बुढ़ापे की तरफ तेज कदम बढ़ा रहे होते हैं। इसे रोकिए, टीवी कम देखिए और हर आधे घंटे पर स्क्रीन के सामने उठकर टहल लीजिए, थोड़ी चहलकदमी कर लीजिए।

तनाव ठीक नहीं

तनाव घातक है, इससे शरीर की कोशिकाओं को बहुत नुकसान पहुंचता है। कोशिकाओं को नुकसान पहुंचने का मतलब है बुढ़ापे की प्रक्रिया तेज होना। कोशिश करें कि सुव्यवस्थित रहें, तनाव मुक्त रहने के लिए आज का काम कल पर छोड़ने की आदत से शीघ्र मुक्ति पा लें, समय पर काम पूरे कर लें। यदि कभी-कभार ऐसा हो भी तो समस्या सुलझाव का हल ढूंढें न कि तनावग्रस्त हों।

धूप स्नान करें

बढ़ती उम्र में विटामिन डी की कमी न हो, इसका ध्यान रखें। इसकी पूर्ति के लिए दवा लीजिए या जिसमें यह ज्यादा मिलता है, ऐसे खाद्य पदार्थ लीजिए या रोज धूप सेंकिए। लेकिन इसके लिए बहुत देर तक तेज धूप में रहना ठीक नहीं क्योंकि सूरज की पराबैंगनी किरणें समय से पहले ही त्वचा पर झुर्रियां पैदा करेंगी। तेज धूप में जब भी बाहर निकलें सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें।

Next Story
Top