Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

आपकी ये दो आदतें आपको बना देंगी नपुंसक

डॉक्टर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार देश में जिम जाकर बॉडी बनाने वाले और मोबाइल का इस्तेमाल करने वाले युवाओं की संख्या बढ़ रही है, लेकिन बॉडी बनाने के लिए दवाओं का इस्तेमाल उन्हें नपुंसक बना रहा है। आइये जानते हैं इनके बारे में विस्तार से...

आपकी ये दो आदतें आपको बना देंगी नपुंसकYouth Impotent Causes Gym And Mobile According Doctors Reports

देश के युवा मोबाइल और जिम के कारण नपुंसक हो रहे हैं। जेब में मोबाइल रखने के कारण शुक्राणु प्रभावित हो रहे हैं। जिम में बॉडी बनाने के लिए सप्लीमेंट का इस्तेमाल उन्हें नपुंसक कर रहा है। ऐसे में युवा जेब में मोबाइल और बॉडी बनाने के लिए दवाओं का सहारा लेने से बचें। इंफर्टिलिटी अपडेट एंड हाई रिस्क प्रेग्नेंसी केयर की ओर से राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस का आयोजन हुआ। जिसमें महिलाओं में घटती गर्भधारण क्षमता को लेकर विचार विमर्श किया गया। जिसमें निकल कर आया कि युवा पुरूषों के नपुंसक होने से महिलाओं के गर्भधारण की क्षमता कम हो रही है।

40 फीसदी नपुंसकता के शिकार

शोध के अनुसार बताया जा रहा की 40 वर्ष की आयु के बाद 40 पर्सेंट लोग नपुंसकता के शिकार हो रहे है और इसका प्रमुख कारण है लोगों द्वारा मोबाइल फ़ोन को जेब में रखना , जिम में खूबसूरत बॉडी व फिगर बनाने के लिए इंजेक्शन ,दवाइयां व सप्लीमेंट का सेवन करना और अधिक मात्रा में पेन किलर लेना। डॉ. सुनील जिंदल ने बताया हाल ही में मोबाइल पर हुए एक अध्यन में ये बात साबित हुई है की जेब में मोबाइल रखने के कारण फ़ोन के रेडिएशन से शुक्राणु मरते जा रहे है और लोग नपुंसक हो रहे है


अंडाणु हो जाते हैं नष्ट

दो दिवसीय राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस में बताया गया की महिलाओं के अधिक पेन किलर खाने से उनके अंडाणु नष्ट हो जाते हैं। जिम में पुरुषों व महिलाओं द्वारा सुडोल बॉडी बनाने के लिए इंजेक्शन, दवाइयां, सप्लीमेंट का प्रयोग करने के कारण उनके शुक्राणु-अंडाणु नष्ट हो रहे हैं। जिससे उनमे नपुंसकता व बांझपन बढ़ता जा रहा है। डॉक्टरों की सलाह है की युवा वर्ग खानपान और खाने के तरीकों में सावधानी बरतें। नपुंसकता दो तरह की होती है एक शुक्राणुओं-अंडाणुओं का शून्य होना, नसों में कोलेस्ट्रोल होना है।इसका कारण स्ट्रेस, हार्मोनल, प्रदूषण और खानपान में गड़बड़ी है डॉ. जिंदल ने बताया की 70 फीसदी नपुंसकता व 90 फीसदी बांझपन का इलाज़ संभव है।


इन बातों का रखें ख्याल

विशेषज्ञों ने बताया की प्लास्टिक के बर्तन में खाना रखने ,माइक्रोवेब में खाना गर्म करके खाने से सिस्ट बनने का खतरा रहता है इस कॉन्फ्रेंस के अंतिम दिन बाँझपन,हाई रिस्क प्रेग्नेंसी,महिलाओं की नालियों में संक्रमण, पीसीओडी,टीबी,जी-सीएसएफ, पीआरपी थेरेपी आदि विधियों पर 50 व्यख्यान हुए हैं।

Next Story
Share it
Top