Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बच्चों के लिए यूजफुल योग-मेडिटेशन एप्स, जानें इस्तेमाल का सही तरीका

Health Tips : फिजिकल-मेंटल फिटनेस के लिए मेडिटेशन-योग बहुत हेल्पफुल होता है। बड़े ही नहीं छोटे बच्चों को भी इनसे फायदा होता है। लेकिन मेडिटेशन-योग खुद करना उनके लिए मुश्किल होता है। ऐसे में पैरेंट्स को उन्हें गाइड करना चाहिए। पैरेंट्स, बच्चों को योग-मेडिटेशन सिखाने के लिए कुछ यूजफुल एप्स का सहारा ले सकते हैं।

बच्चों के लिए यूजफुल योग-मेडिटेशन एप्स, जानें इस्तेमाल का सही तरीका

Health Tips : फिजिकल-मेंटल फिटनेस के लिए मेडिटेशन-योग बहुत हेल्पफुल होता है। बड़े ही नहीं छोटे बच्चों को भी इनसे फायदा होता है। लेकिन मेडिटेशन-योग खुद करना उनके लिए मुश्किल होता है। ऐसे में पैरेंट्स को उन्हें गाइड करना चाहिए। पैरेंट्स, बच्चों को योग-मेडिटेशन सिखाने के लिए कुछ यूजफुल एप्स का सहारा ले सकते हैं।

एंडवेचर ऑफ स्ट्रेच एप

एंडवेचर ऑफ स्ट्रेच एप में बच्चों के लिए बेहद आसान तरीके से योग के 12 आसन बताए गए हैं। हर आसन को एनिमल कार्टून कैरेक्टर के जरिए बताया गया है। जिससे बच्चे एंज्वॉय करते हुए इन्हें आसानी से सीख सकते हैं। इस एप के जरिए बच्चों को रिलेक्सेशन, ब्रीदिंग की इंपॉर्टेंस और हर योगासन के फायदे को अच्छी तरह समझाया गया है।

कीप योर काम एप

यह एप हर रोज मेडिटेशन का एक नया तरीका बताता है। जिन बच्चों को आसानी से नींद नहीं आती उनके लिए यह एप काफी हेल्पफुल है। इस एप के स्लीप स्टोरीज सेक्शन में बहुत सारी अलग-अलग सब्जेक्ट की कहानियां हैं। इसके अलावा बच्चों को सिंपल ब्रीदिंग एक्सरसाइज, रिलेक्सेशन टेक्नीक और शांत रहना भी इस एप के जरिए सिखाया जा सकता है।

स्टॉप, ब्रीद एंड थिंक

स्टॉप, ब्रीद एंड थिंक एक एप और वेबसाइट है, जो बच्चों को आसान तरीके से मेडिटेशन सिखाती है। साथ ही उनकी थिंकिंग और फीलिंग्स को पॉजिटिव बनाने की सीख भी देती है। जो बच्चे रेग्युलर मेडिटेशन करते हैं, उन्हें रिवॉर्ड के रूप में यहां स्टीकर्स मिलते हैं। पैरेंट्स इस एप के जरिए अपने बच्चों का टोटल मेडिटेशन टाइम ट्रैक भी कर सकते हैं। इसके अलावा स्टॉप, ब्रीद एंड थिंक एप, वेबसाइट के हर सेशन के बाद बच्चों की फीलिंग को भी रिकॉर्ड किया जा सकता है।

लेखक - शिखर चंद जैन

Next Story
Top