Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

World Heart Day 2019 : माता-पिता से 10 साल पहले युवाओं को आ रहा हार्ट अटैक

World Heart Day 2019 हर साल 29 सितंबर को विश्व हृदय दिवस मनाया जाता है। इस दिन का उद्देश्य लोगों में हृदय रोगों और उनके प्रभावों के बारे में जागरूकता फैलाना है। हृदय रोग से सबसे ज्यादा मौतें होती हैं। यदि हृदय रोगों की जांच समय से करा लें तो 80 प्रतिशत लोग हार्ट अटैक से होनी वाली मौत से बच सकते हैं।

Heart problemHeart problem

आधुनिक दौर में सब कुछ जल्दी हासिल करने और धैर्य की कमी से लोग दोनों छोर मोमबत्ती जला रहे हैं। जीवनशैली में बदलाव के साथ टाइप ए पर्सनैलिटी, व्यायाम की कमी, घर से काम करना, बाहर का खाना, शराब और तंबाकू का बढ़ता इस्तेमाल और पार्टी के चलन ने कोरोनरी आर्टरी ब्लॉकेज के वास्तविक इतिहास को बदल दिया है। जिसके कारण माता-पिता के मुकाबले दस साल पहले युवा दिल के रोगों की चपेट में आ रहे हैं। एक मरीज के पिता का ऑपरेशन 62 साल की उम्र में हुआ। जबकि उनके बेटे का ऑपरेशन 44 साल की उम्र में उसी डॉक्टर ने किया।

पुरुषों की तुलना में महिलाओं की मृत्यु दर ज़्यादा है

इस बात में कोई संदेह नहीं कि बढ़ती जागरूकता के कारण महिलाओं और पुरूषों की दिल के रोगों से होने वाली मृत्यु दर में कमी आई है। फिर भी महिलाओं की मृत्युदर पुरूषों की तुलना में ज़्यादा है। धुम्रपान चाहे एक्टिव हो या पैसिव और प्रदूषण पुरूषों की तुलना में महिलाओं पर 50 गुना ज़्यादा प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं। इसके अलावा पुरूषों की तुलना नियमित दिल की जांच करवाने वाली महिलाओं की संख्या भी कम है।

दिल का दौरा पड़ने के कारण

प्रदूषण का पूरे शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है। दिल को भी इसका नुकसान उठाना पड़ता है। लगातार रहने वाली सुस्ती और उत्साह की कमी से डिप्रेशन बढ़ता है जो आगे जाकर दिल की बीमारियों का कारण बनता है। छोटे होते परिवारों, कमज़ोर होते आपसी संबंधों, वास्तविक दोस्तों की जगह सोशल मीडिया पर बढ़ती दोस्ती, व्यायाम की कमी, मोबाइल और लैपटॉप के बढ़ते इस्तेमाल ने इस समस्या को और भी बढ़ा दिया है।

इसके कुछ दूसरे कारण हैं -

सोशल मीडिया पर ज़्यादा समय बिताने का बढ़ता चलन

ख़ुद को साबित करने और जितना जल्दी हो सके जवाब देने से मिलने वाला आंनद

पल्मनेरी एम्बोलिज़म और लंबे समय तक बैठने व लंबी हवाई यात्राओं के कारण बढ़ता डीप वेन थ्राम्बोसिस।

महिलाओं द्वारा ओरल होर्मोनल थेरेपी का बढ़ता इस्तेमाल।

Next Story
Top