Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना वैक्सीन बनी तो सबसे पहले किसको मिलेगी, किसका होगा इसपर पहला हक

हर कोई बस कोरोना की वैक्सीन का इंतजार कर रहा है। दुनिया भर के कई देश कोरोना के इलाज के लिए वैक्सीन बनाने में लगे हुए है। ऐसे में एक सवाल यह भी है कि आखिर यह वैक्सीन पहले किसे मिलेगी। इस पर पहला हक किसका होगा। सिर्फ वैक्सीन बन जाने से मुश्किल का हल नहीं निकलेगा। लोगों तक पहुंचाने में समस्याएं आ सकती हैं। जहां कंपनियों और सरकार के बीच में कोरोना वैक्सीन को लेकर होड़ मची हुई है। वहीं यह भी बड़ी बहस है कि पहले वैक्सीन किसे मिलेगी।

भारत में वैक्सीन जल्द उपलब्ध कराने के लिए विशेषज्ञों की कमेटी गठित, आज बैठक में होगा फैसला
X
कोरोना वायरस वैक्सीन

कोरोना के चलते लोगों की जीवनशैली काफी बदल गई है। वहीं हर कोई बस इस इंतजार में है कि यह खतरनाक वायरस कब खत्म होगा। हर कोई बस कोरोना की वैक्सीन का इंतजार कर रहा है। दुनिया भर के कई देश कोरोना के इलाज के लिए वैक्सीन बनाने में लगे हुए है। ऐसे में एक सवाल यह भी है कि आखिर यह वैक्सीन पहले किसे मिलेगी। इस पर पहला हक किसका होगा।

गरीब देशों के लिए चिंता और भी बढ़ गई है

वहीं अमेरिका इस बात इशारा दे चुका है कि अपने देश में वैक्सीन बनने पर उसकी पहली प्रयोरिटी उसके देश के नागरिक की ही होगी। वहीं रूस भी इस बात का इशारा दे चुका है। ज्यादातर देश खुद को ही प्राथमिकता देते हुए नजर आ रहे हैं। ऐसे में पिछड़े और गरीब देशों के लिए चिंता और भी बढ़ गई है।

भारत को ऐसे हालातों में अभी निश्चिंत नहीं बैठना चाहिए

ICMR के पूर्व महानिदेशक प्रोफेसर एनके गांगुली का कहना है कि भारत को ऐसे हालातों में अभी निश्चिंत नहीं बैठना चाहिए। वहीं भारत में अभी तक सिर्फ ट्रायल ही चल रहे हैं। अभी काफी चीजों के बारे में देश को पता नहीं है। वहीं अगर इन वैक्सीन से सफलता नहीं मिलती है, तो फिर किसी और वैक्सीन का सहारा लेना पड़ेगा।

खामियाजा गरीब देश को भुगतना पड़ सकता है

विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक डॉक्टर टेड्रस एडहॉनम गेब्रियेसुस ने भी इस बात पर चिंता जाहिर की है। उनका कहना है कि अगर वैक्सीन पर आपसी सहमति न बनने पर कई देश को नुकसान हो सकता है। इसका खामियाजा गरीब देश को भुगतना पड़ सकता है।

Also Read: क्या आपको मक्का खाने के फायदे पता है? लाभ जानकर रह जाएंगे हैरान

हक हेल्थवर्कर्स, बच्चों-बुजुर्गों और प्रेग्नेंट महिलाओं का हो सकता है

इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि सिर्फ वैक्सीन बन जाने से मुश्किल का हल नहीं निकलेगा। लोगों तक पहुंचाने में समस्याएं आ सकती हैं। जहां कंपनियों और सरकार के बीच में कोरोना वैक्सीन को लेकर होड़ मची हुई है। वहीं यह भी बड़ी बहस है कि पहले वैक्सीन किसे मिलेगी। खबरों की मानें तो पहला हक हेल्थवर्कर्स, बच्चों-बुजुर्गों और प्रेग्नेंट महिलाओं का हो सकता है।

Shagufta Khanam

Shagufta Khanam

Jr. Sub Editor


Next Story
Top