Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

क्या आप भी हैं मॉर्निंग फटीग से परेशान

आमतौर पर हम सभी का मूड सुबह के समय सबसे अच्छा, खुश और तरो-ताजा रहता है। लेकिन अगर आप सुबह के समय भी थकावट, तनाव या एंग्जायटी महसूस करें तो ये मॉर्निंग फटीग के लक्षण हो सकते हैं। इस बारे में केयरफुल रहना जरूरी है।

क्या आप भी हैं मॉर्निंग फटीग से परेशान
X
मॉर्निंग फटीग (फाइल फोटो)

आज फिर नीरज का सुबह-सुबह मूड ऑफ हो गया। वह अपनी पत्नी आशा पर बिना वजह बिगड़ गया और इधर-उधर की कई बातों के उलाहने देने लगा। आशा ने शांत स्वर में कहा, 'मैं तुम्हारे लिए चाय बना कर लाती हूं। तुम नहा-धोकर फ्रेश हो जाओ। फिर बात करते हैं।' दरअसल आशा जानती है कि नीरज मॉर्निंग फटीग के असर से ऐसा कर रहा है और नहा-धोकर नाश्ता करने के बाद सामान्य हो जाएगा।

क्या है मॉर्निंग फटीग

मॉर्निंग फटीग ऐसी समस्या है, जिसमें व्यक्ति को सुबह के समय चिड़चिड़ापन, अवसाद, गुस्सा, थकान, व्यवहार में रूखापन आदि लक्षण महसूस होते हैं और वह अपने सामने मौजूद किसी भी व्यक्ति से उलझ जाता है। सुनने में अजीब लग सकता है कि रात भर सोने के बाद सुबह थकान क्यों, सुबह तो मूड फ्रेश रहना चाहिए फिर ऐसा क्यों? इन लक्षणों को चिकित्सक अंब्रेला सिंपटम भी कहते हैं। कोई व्यक्ति मॉर्निंग फटीग से पीड़ित है या नहीं यह जानने के लिए इन लक्षणों पर ध्यान दें-

चिड़चिड़ापन: अकसर सुबह उठते ही मन चिड़चिड़ा हो जाए और बिना किसी खास वजह हर किसी पर गुस्सा आने लगे तो समझ लें यह मॉर्निंग फटीग का लक्षण हैं।

जी मिचलाना या सिर चकराना : चक्कर आने की समस्या कई वजह से हो सकती है। अगर आप का बीपी सामान्य है और पिछले दिन आपने ज्यादा काम नहीं किया है इसके बावजूद सुबह चक्कर आते हैं तो पोषण की कमी की वजह हो सकता है।

थकान: रात भर सोकर जागने के बाद ताजगी महसूस होनी चाहिए लेकिन हर सुबह थकान महसूस हो काम करने का मन ना करे और बिस्तर छोड़ने की इच्छा ना हो, नाश्ता भोजन करने के बाद भी एनर्जी महसूस न हो तो ये मॉर्निंग फटीग का लक्षण हो सकते हैं।

मुंह में सूखापन: गर्मी या उमस भरे मौसम में सुबह उठने के बाद मुंह में सूखापन आम बात है। लेकिन हर मौसम में मुंह और आंखों का सूखापन महसूस हो तो ऐसा अकसर मॉर्निंग फटीग के कारण हो सकता है। इसकी एक वजह खर्राटे या डिहाइड्रेशन भी हो सकता है।

डिप्रेशन-एंग्जायटी: जब देर रात तक नींद नहीं आती और उल्टे सीधे विचार मन में चलते रहते हैं तो इसकी परिणति सुबह के वक्त अवसाद, चिंता, उदासी के रूप में होती है। किसी अज्ञात भय या चिंता की वजह से भी ऐसा हो सकता है। यह मॉर्निंग फटीग की एक वजह या इसका एक प्रकार हो सकता है।

Also Read: लंबे गैप के बाद जब शुरू... लंबे गैप के बाद जब शुरू करें एक्सरसाइज तो इन बातों का रखें खास ख्याल

इन्हें अनदेखा न करें

मॉर्निंग फटीग को नजरअंदाज ना करें। इसके पीछे कई प्रकार की गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। जिनके बारे में चिकित्सकीय सलाह लें। डायबिटीज, थायरॉइड, क्रोनिक एंग्जायटी, एनिमिया और अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को दूर करना जरूरी है।

Next Story
Top