Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ऐसे आएगी अच्छी नींद, जानें नींद न आने के कारण

बेहतर स्वास्थ्य, सौंदर्य और मानसिक सुकून के लिए रोज अच्छी नींद आना जरूरी है। लेकिन आज के दौर में अनेक वजहों से लोग अच्छी-गहरी नींद से महरूम हो रहे हैं। ये वजहें कौन-सी हैं और अच्छी नींद कैसे आ सकती है, आप भी जानिए।

ऐसे आएगी अच्छी नींद, जानें नींद न आने के कारण
X
ऐसे आएगी अच्छी नींद, जानें नींद न आने के कारण (फाइल फोटो)

भला किसे एक गहरी और सुकूनदायक नींद की जरूरत नहीं होती। नींद हमें तरो-ताजगी से भर देती है। एक गहरी नींद चेहरे पर भी निखार ले आती है। पूरी दुनिया के सौंदर्य विशेषज्ञ बार-बार दोहराते हैं कि अच्छी नींद सुंदर दिखने का भी सबसे सुनिश्चित तरीका है। एक स्वस्थ व्यक्ति के लिए हर दिन 6-7 घंटे की नींद जरूरी है, बशर्ते उसमें कम से कम 3 घंटे गहरी नींद के शामिल हों। जबकि छोटे बच्चों के लिए 10-12 घंटे की नींद जरूरी होती है। बुजुर्गों के लिए 4-5 घंटे की नींद भी काफी है। लेकिन इस 4-5 घंटे में कम से कम दो घंटे गहरी नींद के होने चाहिए। अगर हमें गहरी नींद नहीं आती तो हमारा शरीर इस पर कई तरह से प्रतिक्रिया करता है। अकसर नींद से पीड़ित लोग बेचैन दिखते हैं, किसी काम पर उनका मन नहीं लगता, आंखों के नीचे काले घेरे बन जाते हैं, जरा सा आंख लगे कि खर्राटे लेने लगते हैं, पेट में कई किस्म की गड़बड़ी हो जाती है, साथ ही उदासी, थकान जैसी परेशानियां भी घेर लेती हैं।

नींद न आने के कारण

कुछ लोगों को गहरी नींद आती है, जबकि कई लोगों को आमतौर पर गहरी नींद नहीं आती है। इसके कई स्वाभाविक कारण होते हैं। मसलन-चिंता, तनाव, निराशा और रोजगार से जुड़ी परेशानियां। मानसिक और भावनात्मक असुरक्षा भी इसके कारणों में शामिल हैं। कई बार हमारी गलत जीवनशैली भी इसके लिए जिम्मेदार होती है मसलन हम हर दिन अलग-अलग समय पर सोने के लिए बिस्तर पर जाते हैं। दिनभर चाय या कॉफी पीते रहते हैं तथा देर रात तक व्हाट्सएप मैसेज में व्यस्त होते हैं। फोन में व्यस्त रहने से नींद में सबसे ज्यादा खलल पड़ता है।

ऐसे आएगी अच्छी नींद

अब सवाल है अच्छी नींद कैसे आए? जिन लोगों में ऊपर बताई गई बुरी आदतें हों, मसलन वे बार-बार चाय या कॉफी पीने के शौकीन हों, देर रात तक फोन से चिपके रहते हों। वे इन्हें जल्द से जल्द छोड़ दें। अगर नींद न आने का कारण कोई दिमागी परेशानी है, तो जल्द से जल्द इस परेशानी से मुक्त हों। अगर कोई रास्ता खुद न सूझ रहा हो तो अपने किसी विश्वसनीय की मदद लें। यदि सोने का प्रयास करने के बावजूद भी नींद नहीं आ रही है तो बजाय सोने पर मशीनी अंदाज में जोर देने के बेहतर है कि मनपसंद किताब पढ़ने लगें, अपनी पसंद का हल्का संगीत सुनें, कोई मनपसंद कार्यक्रम टीवी में देख लें, इससे नींद आ जाएगी।

Also Read: अनुष्का शर्मा हैं चार महीने प्रेगनेंट, जानें इन दिनों किन बातों का रखना चाहिए खास ध्यान

इन आदतों को भी छोड़ें

दिन में अगर जरूरत न हो तो न सोएं, इससे रात में गहरी नींद आती है। रात में खाना खाने के बाद तुरंत बिस्तर में न चले जाएं, इससे खाना पचता नहीं और नींद भी नहीं आती है। खाकर थोड़ा टहलें। डिनर बहुत भारी न करें। शाम को जितना जल्दी हो कर लें। आदर्श स्थिति तो यह है कि बिस्तर में जाने के 3 घंटे पहले खाना खा लें। यह संभव न हो तो कम से कम एक घंटे का तो पालन करें ही। सोने और जगने का समय न बदलें। रोज एक ही समय सोएं, एक ही समय जगें। सोते समय फिट कपड़े पहनने की कोशिश न करें। इससे भी नींद में खलल पड़ता है। बहुत ठंडे या बहुत गर्म कमरे में सोने से बचें। ज्यादातर लोग धुप्प अंधेरे में सोना पसंद करते हैं, लेकिन अगर आपको नींद न आने की समस्या है तो कमरे में पूरी तरह से अंधेरा न करें। और नियमित एक्सरसाइज जरूर करें।

Next Story