Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पेट में इंफेक्शन के कारण लक्षण और उपचार

Health Tips : अक्सर मौसम के बदलाव के साथ ही लोगों को अनगिनत बीमारियों का सामना करना पड़ता है, जिसमें पेट संबंधी रोग होना सबसे कॉमन है। गर्मियों की शुरुआत होते ही लोग हमेशा पेट दर्द, पेट में इंफेक्शन,बदहजमी, अपच और बार-बार गैस बनने जैसी समस्या से परेशान रहते हैं। वैसे तो आमतौर पर गर्मी या लू लगने पर भी पेट खराब होता है, लेकिन गर्मियों में वायरस और इंफेक्शन फैलने का खतरा भी बरकरार रहता है। ऐसे में अगर कुछ सावधानियां बरती जाएं, तो गर्मियों में होने वाली पेट की बीमारियों से आसानी से निजात पाया जा सकता है। इसलिए आज हम आपको पेट दर्द और पेट खराब होने की मूल वजह यानि पेट में इंफेक्शन के कारण,लक्षण और उपचार (stomach infections Causes, symptoms and treatment) के बारे में बता रहे हैं।

पेट में इंफेक्शन के कारण लक्षण और उपचार

Health Tips : अक्सर मौसम के बदलाव के साथ ही लोगों को अनगिनत बीमारियों का सामना करना पड़ता है, जिसमें पेट संबंधी रोग होना सबसे कॉमन है। गर्मियों की शुरुआत होते ही लोग हमेशा पेट दर्द, पेट में इंफेक्शन,बदहजमी, अपच और बार-बार गैस बनने जैसी समस्या से परेशान रहते हैं। वैसे तो आमतौर पर गर्मी या लू लगने पर भी पेट खराब होता है, लेकिन गर्मियों में वायरस और इंफेक्शन फैलने का खतरा भी बरकरार रहता है। ऐसे में अगर कुछ सावधानियां बरती जाएं, तो गर्मियों में होने वाली पेट की बीमारियों से आसानी से निजात पाया जा सकता है। इसलिए आज हम आपको पेट दर्द और पेट खराब होने की मूल वजह यानि पेट में इंफेक्शन के कारण,लक्षण और उपचार (stomach infections Causes,symptoms and treatment) के बारे में बता रहे हैं।

पेट में इंफेक्शन के कारण (stomach infections causes)

1. दूषित खाना खाना

2. दूषित पानी पीना

3. इंफेक्शन वाले व्यक्ति के संपर्क में रहने पर

4. खुले फलों का सेवन करना

5. खाना खाने से पहले हाथ न धोना



पेट में इंफेक्शन के लक्षण (stomach infections symptoms)

1. पेट में रुक-रुक कर पेट में दर्द होना

2. दस्त को होना

3. बदहजमी या अपच का होना

4. बार-बार उल्टियां आना

5. शरीर में कमजोरी आना





पेट में इंफेक्शन के उपचार (stomach infections treatment)

1.अक्सर पेट खराब होने पर दस्त होते है। ऐसे में शरीर में पानी की कमी यानि डिहाईड्रेशन से बचाने के लिए पीड़ित व्यक्ति को दिन में 2-4 बार ओआरएस (ORS) का सेवन करवाएं।

2. पेट के इंफेक्शन में गर्म पानी और तरल पदार्थों का सेवन अधिक करें।

3. दही और छाछ का काले नमक और भुने जीरा के साथ सेवन करें।

4. नमक, चीनी वाले नींबू पानी का सेवन में 3-4 बार करें।

5. डॉक्टर की सलाह पर पेट दर्द और पेट के इंफेक्शन की दवा लें।

Next Story
Top