Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सावधान : सिगरेट से ज्यादा खतरनाक है नमक, जानें कैसे

खाने में ज्यादा नमक कर सकता हैं आपकी सेहत ख़राब। अगर आप खाने में ज्यादा नमक खाने के आदि हैं। तो ये खबर आपको जाननी बेहद ज़रूरी हैं। वर्ल्ड हाइपरटेंशन लीग की रिपोर्ट के अनुसार 2017 में हुई 3 मिलियन लोगों की मौत का ज़िम्मेदार खाने में ज्यादा नमक को बताया गया है। साथ ही रिपोर्ट में इस बात का भी दावा किया गया कि ज्यादा नमक खाने से आपके शरीर में सोडियम की मात्रा बढ़ जाती है। जिससे गैस्ट्रिक कैंसर और हाई ब्लड प्रेशर होने का खतरा बढ़ जाता है। ऐ्से में आइए जानते हैं नमक से आपकी सेहत को कितना खतरा है और स्वस्थ संगठन इस पक्ष में क्या कदम उठा रहे हैं।

सावधान : सिगरेट से ज्यादा खतरनाक हैं नमक, जानें कैसेSalt is more dangerous than cigarette in hindi

हर साल लाखों लोगों की मौत के लिए वैज्ञानिकों द्वारा असंतुलित आहार को ज़िम्मेदार माना जाता है। जिसमें ज्यादा मात्रा में नमक शामिल होता हैं। खासकर पैक्ड फूड और रेस्तरां में परोसे जाने वाले खाने में सोडियम की मात्रा अधिक होती है। जिसे खाने से आपके दिल पर बुरा असर पड़ता हैं।




हाल ही में वर्ल्ड हाइपरटेंशन लीग (World Hypertension League) ने एक बयान जारी कर जानकारी देते हुए बताया कि साल 2017 में हुई 3 मिलियन लोगों की मौत की वजह नमक है। साथ ही विभिन शहरों के कई स्वस्थ संगठनों ने रिपोर्ट जारी कर ये सूचना दी है की हाई ब्लड प्रेशर, गैस्ट्रिक कैंसर और किडनी संबंधी बीमारी से पीड़ित लोगों की संख्या में दिन प्रतिदिन भारी इजाफा हो रहा है।

जो विश्व स्वस्थ संगठन (World Health Organization) और लोगों के लिए चिंता का विषय बन गया है। नमक का निश्चित मात्रा में उपयोग और हाई क्वालिटी सोडियम उत्पादों (प्रोडक्ट्स) के इस्तेमाल के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कुछ सिफारिशों का सुझाव दिया हैं। जिनसें विश्व स्वस्थ संगठन, वर्ल्ड हाइपरटेंशन लीग और अन्य स्वस्थ संगठनों ने सहमति जताई है।




स्वास्थ्य विशेषज्ञों की सिफारिश

1. जिन फूड प्रोडक्ट्स में सोडियम की उच्च मात्रा होती है। उन उत्पादों पर चेतावनी लेबल लगाये जाने चाहिए, जैसा फ़िनलैंड और इक्वाडोर जैसे देशों में होता हैं।

2. स्वस्थ विशेषज्ञों द्वारा रीडिंग स्टोर में बेचे जाने वाले नमक शेकर्स और नमक उत्पादों पर फ्रंट-लेबल चेतावनी के उपयोग का सुझाव भी दिया गया है।

3. इसके अलावा कस्टमर्स को खुद तय करना होगा कि किस फूड प्रोडक्ट में सोडियम की मात्रा ज्यादा है। जिससे उनकी सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

Next Story
Top