Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Salt Disadvantages अधिक नमक खाने के नुकसान

अधिक नमक खाने के नुकसान के बारे में डाइटीशियन रेखा देशराज बताती हैं कि नमक का अधिक सेवन से हार्ट अटैक का खतरा बढ़ता है, हड्डियाँ कमजोर होती हैं और कई बीमारियों से शरीर ग्रस्त हो जाता है, आइये विस्तार से जानते हैं अधिक नमक खाने के नुकसान के बारे में...

Salt Disadvantages अधिक नमक खाने के नुकसान

Salt Disadvantages (अधिक नमक खाने के नुकसान) जिस तरह माना जाता है कि मीठा खाने से उसे बार-बार खाने की इच्छा होती है। उसी तरह अगर भोजन में ज्यादा नमक मिलाकर खाने की आदत पड़ जाए तो इससे भोजन स्वादिष्ट तो लगता है लेकिन शरीर पर इसके बैड इफेक्ट्स भी पड़ने लगते हैं। मेलबर्न यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने एक शोध में पाया कि नमक ज्यादा खाने से शरीर को इसकी लत लग जाती है। इस लत से दिमाग की कोशिकाएं बिल्कुल वैसी ही उत्तेजित होती हैं, जैसे निकोटिन जैसी नशीले पदार्थों को लेकर होती है। जो लोग भोजन में ऊपर से नमक डालते हैं, उन्हें कम नमक वाला भोजन रास ही नहीं आता। क्षणिक स्वाद की खातिर अधिक मात्रा में लिया गया नमक स्वास्थ्य के लिए घातक होता है।




नमक से बढ़ता है हार्ट अटैक का खतरा

हृदय रोगियों के लिए अधिक मात्रा में नमक खाना जानलेवा भी हो सकता है। क्योंकि इससे हार्ट अटैक की आशंका बढ़ जाती है। नमक के सेवन से शरीर में फ्लूड रोकने की प्रक्रिया तेज हो जाती है। जिसके कारण रक्तवाहिनियों में सूजन आ जाती है।

इसका बोझ हृदय पर पड़ता है क्योंकि रक्त संचार तंत्र के जरिए शरीर में ब्लड पुश करने का काम हृदय का ही है। परिणाम यह होता है कि एक निश्चित समय के बाद रक्तवाहिनियां कमजोर पड़ने लगती हैं और हृदय के जरूरत से अधिक काम करने की वजह से हार्ट अटैक का रिस्क बढ़ जाता है।

नमक हड्डियों के लिए हार्मफुल

नमक का अधिक मात्रा में सेवन करना बोंस की सेहत के लिए ठीक नहीं है क्योंकि यह बोंस से कैल्शियम का क्षरण करता है। यही नहीं जैसे-जैसे व्यक्ति की उम्र बढ़ती जाती है, नमक शरीर के अन्य अंगों में भी क्षरण पैदा करता है।

लो साल्ट डाइट लेने से शरीर में कैल्शियम की मात्रा नियंत्रित रहती है। जिससे बोंस मजबूत बनी रहती हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार भोजन में नमक की मात्रा घटाकर और पोटेशियम से भरपूर फाइबर युक्त भोजन कर पुरुष मोटापे से बच सकते हैं।

नमक की अधिकता से किडनी भी प्रभावित होती हैं और उनकी कार्यक्षमता कम हो जाती है। ब्लड प्रेशर बढ़ने से ब्लड वेसल्स प्रभावित होते हैं। नतीजतन किडनी के खराब होने की आशंका प्रबल हो जाती है।




ज्यादा नमक खाने से बढ़ता है ब्लड प्रेशर

नमक का अधिक सेवन ब्लड प्रेशर को बढ़ाता है, तो उसका असर हृदय, गुर्दे, आंखों और शरीर के अन्य अंगों पर पड़ता है। ब्लड प्रेशर के बढ़ने से आट्रीज भीतर से प्रभावित होती हैं। जब आट्रीज भीतर से प्रभावित होती हैं तो उसका सीधा असर दिमाग पर होता है क्योंकि वहां ठीक से रक्त नहीं पहुंच पाता। कम ऑक्सीजन मिलने की वजह से मस्तिष्क की कार्यक्षमता प्रभावित होती है।

नमक खाते वक्त रखें इन बैटन का ध्यान

सलाद, अमरूद, सिंके हुए भुट्टे को बिना नमक के खाएं। इससे उनके स्वाद में कोई फर्क नहीं पड़ता।

हरी और पत्तेदार सब्जियां जैसे मेथी, पालक, बथुआ, पत्तागोभी में प्राकृतिक तौर पर नमक होता है, अतः इनमें नाम मात्र का नमक डालने से काम चल सकता है।

अचार, चटनी और पापड़ में काफी नमक होता है। इसलिए इनके सेवन से परहेज करें।

दाल-सब्जी या किसी भी व्यंजन में ऊपर से नमक मिलाने की आदत छोड़ें।

फास्ट फूड में नमक की मात्रा अधिक होती है, ऐसे फूड के सेवन से बचें।

जिन बिस्कुट्स में ऊपर से नमक लगा होता है, उनका सेवन नहीं करना चाहिए।

कम नमक खाने की आदत डालें इससे आपकी स्वाद ग्रंथियां अभ्यस्त हो जाएंगी और आप भोजन का अच्छा स्वाद महसूस करने लगेंगे।

Next Story
Top