Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

चावल खाना बन सकता है, आपके शरीर के लिए ज़हर, जानिये कैसे

आमतौर पर लोग चावल खाना खाना ज्यादा पसंद करते हैं। अगर आप भी ज्यादा चावल खाने के शौकीन हैं, तो हो जाइये सावधान। क्योंकि आपका चावल खाना आपकी सेहत के लिए बन सकता है ज़हर। एक रिसर्च के मुताबिक, जो लोग रोजाना ज्यादा मात्रा में चावल खाते हैं। वह अपने शरीर में चावल के रूप में ज़हर भेज रहे हैं। जिससे आपकी सेहत को नुकसान के साथ आपको गंभीर बीमारियां भी हो सकती हैं। आइये जानते हैं कैसे चावल आपकी सेहत के लिए ज़हर साबित हो सकता है।

Rice Eating Disadvantage For Health According Research
X
Rice Eating Disadvantage For Health According Research

जो लोग रोजाना नाश्ते, लंच और डिनर (तीनों समय) में ज्यादा मात्रा में चावल खाते हैं। वो चावल के रूप अपने शरीर में 'आर्सेनिक' (Arsenic) नाम के जहरीले पदार्थ को भेज रहे हैं। चिंता का विषय यह है कि चावल में 'आर्सेनिक' रसायन इतनी अधिक मात्रा में होता हैं। जो आपको कैंसर व हृदय संबंधी बीमारियों से पीड़ित कर सकता हैं।

चावल में ये रसायन मिट्टी के ज़रिये पहुंचता हैं। क्योंकी 'आर्सेनिक' रसायन मिट्टी में पाए जाने वाला पदार्थ होता है, इसलिए 'आर्सेनिक' रसायन का असर मिट्टी में उगने वाली खाने की चीजों पर भी पड़ता है। चावल की फसल को अधिक मात्रा में पानी की ज़रूरत होती है और पानी में ज्यादा डूबे रहने की वजह से मिट्टी में मौजूद 'आर्सेनिक' रसायन को चावल अपने अंदर सोख लेता हैं। जिसके कारण अन्य खाद्य पदार्थों की तुलना में 'आर्सेनिक' रसायन की मात्रा चावल में 10 से 20 पर्सेंट ज्यादा होती है।

चावल हेल्थ के लिए कितना नुकसानदायक ?

चावल खाना आपकी सेहत के लिए कितना नुकसानदायक है। ये इस बात पर निर्भर करता है कि आप खाने में कितनी ज्यादा मात्रा में चावल का सेवन कर रहे हैं। यदि आप हफ्ते में एक से दो बार ही चावल खाते हैं। तब 'आर्सेनिक' ज़हर का ज्यादा असर आपकी सेहत पर नही पड़ेगा।

लेकिन अगर आप तीनों समय (नाश्ते,लंच और डिनर) चावल खाना पसंद करते हैं। तो ये आर्सेनिक रसायन आपको कैंसर और दिल संबंधी बीमारियों से ग्रस्त कर सकता है। साथ ही माता पिता को इस बात का खास ध्यान देना रखना चाहिए कि बच्चों को खाने में चावल नहीं दिया जाये। क्योंकि बच्चों को चावल खाना ज्यादा पसंद होता है। जिससे उनकी सेहत और शारीरिक विकास पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

'आर्सेनिक' रसायन के प्रभाव और मात्रा को कैसे कम कर सकते हैं ?

चावल में 'आर्सेनिक' रसायन के असर और मात्रा को कम करने के लिए ज़रूरी है कि आप चावल पकाते समय उसमे ज्यादा पानी का इस्तेमाल करे। चावल में अधिक मात्रा में पानी का प्रयोग करने से 'आर्सेनिक' रसायन की मात्रा चावल में कम या पूरी तरह खत्म हो जाती है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story