Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पीरियड्स प्रॉब्लम्स से छुटाकारा पाने के लिए अपनाएं ये टिप्स

पीरियड्स के दौरान कुछ महिलाएं कई प्रॉब्लम्स से परेशान रहती हैं। इनसे बचने के लिए साफ-सफाई, एक्सरसाइज और कुछ बातों का ध्यान रखें। ऐसा करने से आपका पीरियड्स टाइम टेंशन-फ्री बना रहेगा।

पीरियड्स प्रॉब्लम्स से छुटाकारा पाने के लिए अपनाएं ये टिप्स

पीरियड्स का सामान्य चक्र 28-35 दिन का होता है। अधिकतर महिलाओं के लिए पीरियड्स के दौरान ज्यादा समस्या नहीं होती है। लेकिन कुछ महिलाएं इस दौरान परेशान रहती हैं। पीरियड्स के दौरान उन्हें पेट में दर्द, कब्ज, मूड स्विंग जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। लेकिन पीरियड्स से जुड़ी इन परेशानियों से बचा जा सकता है, इसके लिए कुछ बातों को अमल में लाना चाहिए।




साफ-सफाई है जरूरी

वैजाइना का अपना क्लीनिंग मैकेनिज्म होता है, जो इस तरह से काम करता है कि अच्छे और बुरे बैक्टीरिया का बैलेंस बना रहे। साबुन से धोने से अच्छे बैक्टीरिया मर सकते हैं, जिससे संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। वैजाइना वॉश का इस्तेमाल करना भी ठीक नहीं होता है, इससे नेचुरल प्रोटेक्टिव फ्लोरा मर जाते हैं। इसके बजाय कुनकुने पानी का इस्तेमाल महिलाओं को करना चाहिए।

हां, वे बाहरी भाग में साबुन लगा सकती हैं लेकिन इंटरनल पार्ट में साबुन बिल्कुल न लगाएं। हमेशा आगे से पीछे की ओर वॉश करें, कभी भी विपरीत दिशा में न धोएं, इससे संक्रमण फैलने का डर रहता है। धोने के बाद पानी पोंछने के लिए मुलायम और सूखे टॉवेल का इस्तेमाल करें। टॉयलेट पेपर से साफ न करें, क्योंकि ये हार्ड होता है। पीरियड्स के दौरान रोज नहाएं, नहाने से न सिर्फ शरीर साफ रहता है बल्कि प्राइवेट पार्ट्स की भी अच्छी तरह सफाई हो जाती है।




इन बातों को लाएं अमल में

- एक ही पैड या टैमपोन को पूरे दिन न रखें, बदलती रहें।

- अगर ब्लीडिंग ज्यादा हो रही हो तो रात में भी एक बार पैड बदल लें।

- ठंडी चीजों जैसे दही, चावल, आइस्क्रीम, कोल्ड ड्रिंक्स के सेवन से रक्त का प्रवाह धीमा हो जाता है, जिससे समस्या आ सकती है। इसलिए इन फूड आइटम्स का सेवन कम करें।

-कैफीन का सेवन भी कम मात्रा में करें, इससे रक्त नलिकाएं संकुचित हो जाती हैं, जिससे ब्लीडिंग रुक जाती है, जिससे पेट दर्द अधिक होता है।

-कई महिलाओं को जांघों या वैजाइना के आस-पास पैड्स के इस्तेमाल से रैशेज हो जाते हैं, इससे बचने के लिए साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें और समय पर पैड्स बदलें। इस एरिया को सूखा और साफ रखें। अगर आपको फिर भी समस्या होती है तो किसी स्त्री रोग विशेषज्ञ को दिखाएं, वह आपको मेडिकेटेड पावडर देंगे। अगर आप साफ-सफाई का ध्यान रखेंगी तो वैजाइना या यूरिनरी ट्रैक्ट का संक्रमण का खतरा कम हो जाएगा।

- इस दौरान डेंटल या कोई ऐसी नॉर्मल प्रॉब्लम का आप ट्रीटमेंट करवाना चाहती हैं, जिसे दो-चार दिनों के लिए अवॉयड किया जा सकता है तो पीरियड्स के बाद ही ट्रीटमेंट करवाएं। दरअसल, पीरियड्स के दौरान शरीर में एस्ट्रोजन का लेवल कम होता है, इसलिए किसी ट्रीटमेंट में दर्द ज्यादा फील होता है।

- पीरियड्स के दौरान वैक्सिंग भी न कराएं।




हल्की एक्सरसाइज करें

ज्यादातर लड़कियां, महिलाएं पीरियड्स में एक्सरसाइज से दूर ही रहती हैं, जबकि सच्चाई यह है कि अगर आप इन दिनों भी वर्कआउट करना जारी रखेंगी तो पीरियड्स के दौरान होने वाली परेशानियां कम होंगी। इस बात का जरूर ध्यान रखें कि पीरियड्स के दौरान हार्ड एक्सरसाइज न करें, हल्की एक्सरसाइज करें-जैसे टहलना, जॉगिंग, स्ट्रेचिंग, डीप ब्रीदिंग।

लेखक- शमीम खान

Next Story
Top