Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना काल में इस तरह के मरीजों में हुई है बढ़ोतरी, ऐसे करें इससे बचाव

कोरोना काल में इस बीमारी का शिकार बहुत लोग हुए हैं। इस बीमारी से जूझ रहे लोगों को घर पर रहना ही पसंद करते हैं। इसी बीच आज हम आपको इस बीमारी से जुड़ी तमाम जानकारी देने जा रहे हैं। इसके साथ ही आपको इसके उपचारों के बारे में बताएंगे।

कोरोना काल में इस तरह के मरीजों में हुई है बढ़ोतरी, ऐसे करें इससे बचाव
X

(फाइल फोटो)

पैनिक डिसऑर्डर एक ऐसी बीमारी है। जिसका शिकार इंसान हर समय डर में रहता है। इस परेशानी से जूझ रहा इंसान इतना ज्यादा डर जाता है कि उसे हर वक्त ऐसा लगता है कि वो किसी बड़ी परेशानी या बड़ी बीमारी में है। ऐसे में रोगी का दिल जोर जोर से धड़कने लगता है और सांस लेने में दिक्कत होने लगती है। कई बार तो पीड़ित इतना डर जाता है कि उसे हर गतिविधि से डर लगता है। वहीं कोरोना काल में इस बीमारी का शिकार बहुत लोग हुए हैं। इस बीमारी से जूझ रहे लोगों को घर पर रहना ही पसंद करते हैं। इसी बीच आज हम आपको इस बीमारी से जुड़ी तमाम जानकारी देने जा रहे हैं। इसके साथ ही आपको इसके उपचारों के बारे में बताएंगे।

क्या है पैनिक डिसऑर्डर?

यह तरह का एंग्जायटी डिसऑर्डर ही है। यह एक ऐसी सिच्यूएशन है जिसमें इंसान हर समय डर के माहौल में जीना शुरू कर देता है। वे हर समय चिंता में रहता है और ऐसे में इंसान को हर समय घबराहट, पसीना और हाथों में झनझनाहट होने लगती है। इसके साथ ही सांस लेने में भी दिक्कत होने लगती है। आपको बता दें कि इसकी अवधि केवल 10 मिनट तक की होती है। इसके लक्षण पैनिक अटैक की तरह ही होती है।

एक रिसर्च की मानें तो शहरों में रहने वाले 30 प्रतिशत लोग जिंदगी में कम से कम एक बार पैनिक अटैक का सामना करते हैं। आपको बता दें कि इस बीमारी से छुटकारा पाना मुश्किल नहीं है। डाइट और लाइफस्टाइल में बदलाव करके आाप इस परेशानी से निजात पा सकते हैं।

Also Read: भूलकर भी इन चीजों को खाने के बाद न पिएं पानी, पड़ सकता है भारी

अपनाएं ये उपचार

बादाम

बादाम का सेवन करके पैनिक अटैक को कम किया जा सकता है। इसमें कैल्शियम, मैग्नीशियम जैसे जरूरी तत्व पाए जाते हैं। जो नर्वस सिस्टम के काम में सुधारने में मदद करते हैं और दिमाग को स्वस्थ रखते हैं।

ग्रीन टी

ग्रीन टी में एंटीऑक्सीडेंट और पॉलीफिनॉल मस्तिष्क के स्ट्रेस कम करते हैं। मोनोमाइन ऑक्सीडेज ती गतिविधि को कम मस्तिष्क की सेल्स ऊतकों के स्वास्थ रखने में मदद करता है।

Next Story