Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

National Nutrition Week: गर्भवती महिलाएं ऐसे बनाएं अपना डाइट चार्ट

National Nutrition Week: हर साल भारत में 1 सितंबर से 7 सितंबर तक नेशनल न्यूट्रिशन वीक मनाया जाता है। नेशनल न्यूट्रिशन वीक मनाने का प्रमुख उद्देश्य लोगों को हेल्दी और फिट रहने के फायदों के बारे में जागरुक करना होता है। वैसे तो हर किसी के लिए शारीरिक और मानसिक रुप से हेल्दी होना जरुरी है लेकिन पौषक तत्वों की सबसे ज्यादा जरुरत गर्भवती महिलाओं को होती है। क्योंकि उनके द्वारा ग्रहण की गई हर चीज का पोषण शिशु के विकास की गति को बनाए रखने में मदद करता है। इसलिए आज हम नेशनल न्यूट्रिशन वीक (National Nutrition Week) के खास अवसर पर गर्भवती महिलाओं के लिए डाइट चार्ट (Pregnancy Diet Chart) बता रहे हैं। जिन्हें अपनाकर आप हर मौसम में अपना और शिशु का ख्याल बेहतर तरीके से रख पायेगीं।

National Nutrition Week: गर्भवती महिलाएं ऐसे बनाएं अपना डाइट चार्ट
X
National Nutirion Week Pregnancy Diet Chart In Hindi

National Nutrition Week: गर्भावास्था में हमेशा महिलाओं की सेहत का खास ख्याल रखा जाता है, क्योंकि उनके साथ, गर्भ में पल रहा शिशु पूरी तरह से मां पर निर्भर होता है। ऐसे में गर्भवती महिलाओं को दो गुना पौषक तत्वों वाली डाईट की सलाह दी जाती है। जिससे शिशु के विकास में कोई बाधा न आए। ऐसे में आइए नेशनल न्यूट्रिशन वीक (National Nutrition Week) पर जानते हैं गर्भवती महिलाओं के लिए कैसा होना चाहिए डाइट चार्ट(Pregnancy Diet Chart)...

National Nutrition Week / गर्भवती महिलाओं के लिए डाइट चार्ट




National Nutrition Week / Drinking Water

1. गर्भावास्था के दौरान महिलाओं को संतुलित मात्रा यानि 8-10 गिलास या इससे अधिक पानी जरुर पीना चाहिए। इससे शरीर में पानी की कमी नहीं होती, पेट से जुड़ी बीमारियों, बार-बार होने वाली घबराहट से निजात मिलती है। क्योंकि पानी में शरीर के लिए जरुरी बहुत सारे मिनरल्स पाए जाते हैं।


National Nutrition Week / Drinking Coconut Water

2. गर्भावास्था में रोजाना एक गिलास नारियल पानी पीना बेहद फायदेमंद होता है। नारियल पानी में विटामिन, पोटैशियम, फाइबर, कैल्शियम, मैग्नीशियम और बहुत सारे मिनरल्स पाए जाते हैं, जो शरीर को बीमारियों से बचाने के साथ मूड को अच्छा बनाए रखने में मदद करता है।




National Nutrition Week / Fresh Fruits

3. गर्भावास्था में डॉक्टर्स हमेशा महिलाओं को ताजे और मौसमी फलों की सेवन करने की सलाह देते हैं। क्योंकि ये पचाने में हल्के होने के साथ शरीर के लिए जरुरी सभी पौषक तत्वों से भरपूर होते हैं। साथ ही मौसमी फलों का सेवन करने से मौसमी रोगों से भी बचा जा सकता है।




National Nutrition Week / Eating Dry Fruits

4. गर्भवती महिलाओं को गर्भावास्था के दौरान नियमित रुप से ड्राईफ्रूट्स का सेवन करना लाभदायक होता है। क्योंकि ड्राईफ्रूट्स में फाइबर, पोटेशियम, आयरन के साथ कई तरह के एंटी ऑक्सीडेंट तत्व पाए जाते हैं। जो तनाव कम करने, शरीर की कमजोरी को दूर करने और शिशु के विकास की गति को बढ़ाने में मदद करते हैं। इसलिए गर्भावास्था और गर्भावास्था के बाद महिलाओं को ड्राईफ्रूट्स के लड्डू खिलाए जाते हैं।





National Nutrition Week / Green Vegetables

5. शारीरिक कमजोरी को दूर करने के लिए आमतौर पर डॉक्टर्स हरी सब्जियां (पालक, मेथी, घिया, टिंडा,सीताफल) आदि खाने की सलाह देते हैं। क्योंकि इनका सेवन करने से शरीर में आयरन की कमी को आसानी से पूरा किया जा सकता है। गर्भावास्था में आमतौर पर महिलाओं को रक्त की परेशानी का सामना करना पड़ता है।





National Nutrition Week / Calcium

6. प्रोटीन की तरह शरीर के लिए कैल्शियम भी बेहद जरुरी होता है, क्योंकि ये इससे हड्डियों को मजबूती मिलती है। ऐसे में गर्भावास्था में कैल्शियम का सेवन करने से कमर में होने वाले दर्द से राहत, शिशु की हड्डियों को बनाने में मदद मिलती है। गर्भवती महिलाओं को कैल्शियम के लिए प्राकृतिक चीजों का सेेवन करना चाहिए और डॉक्टर की सलाह पर ही कैल्शियम सप्लीमेंट्स का सेवन करना चाहिए।




National Nutrition Week / Iron

7. गर्भवती महिलाओं को बार-बार थकान होना, घबराहट होना, शारीरिक कमजोरी महसूस होना, शरीर में आयरन की कमी के लक्षणों को दर्शाते हैं। रक्त की अधिक कमी होने पर एनीमिया जैसी गंभीर बीमारी होने का खतरा भी बढ़ जाता है। ऐसे में शिशु और गर्भवती महिला की सेहत का ख्याल रखने के लिए उन्हें अपनी डाइट में आयरन वाले फूड्स यानि चुकंदर, अनार, टमाटर, पालक आदि को जरुर शामिल करना चाहिए।




National Nutrition Week / Fat And Carbohydrate

8. गर्भावास्था में महिलाओं को अपने साथ अपने शिशु की देखभाल करनी होती है, ऐसे में उचित मात्रा में फैट और कार्बोहाइड्रेट्स का सेवन जरुर करना चाहिए। इससे शरीर को इंस्टेट एनर्जी मिलती है। आप आलू, चावल से कार्बोहाइड्रेट्स और घी, मक्खन आदि से फैट की कमी को पूरा कर सकते हैं।




National Nutrition Week / Fiber

9. अगर आप गर्भावास्था के समय पेट से जुड़ी बीमारियों (गैस, कब्ज, एसिडिटी, पेट फूलना) आदि से दूर रहना चाहती हैं, तो ऐसे में आप नियमित रुप से फाइबरयुक्त आहार (तरबूज, आलू बुखारा, पपीता, स्ट्रॉबेरी, बेर, खरबूज या स्प्राउट्स) का सेवन करें।




National Nutrition Week / Protein

10. गर्भावास्था में महिलाओं को सही मात्रा में प्रोटीन का सेवन रोजाना जरुर करना चाहिए। इससे शरीर की मांसपेशिया मजबूत होती हैं और शिशु के विकास में अहम भूमिका निभाता है। प्रोटीन के लिए दाल और बींस यानि फली का सेवन करना सबसे अच्छा रहेगा।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top