Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

क्या होता है नाभि खिसकना, इसके लक्षण, कारण और उपचार

Health Tips : नाभि खिसकना या नाभि उतरना, जैसे शब्द आपने जरूर सुने होगें। नाभि खिसकने पर अक्सर पीड़ित व्यक्ति को पेट में दर्द या दस्त की समस्या का सामना करना पड़ता है। नाभि खिसकना के उल्लेख आमतौर पर आयुर्वेद और यूनानी चिकित्सा पद्धति में बेहद विस्तार से मिलता है। आयुर्वेद के अनुसार जिस तरह रीढ़ की हड्डी में चोट लगने पर उसमें टेढ़ापन आ जाता है। उसी तरह पेट में नाभि के खिसकने से पाचन तंत्र की कार्यप्रणाली में बाधा उत्पन्न होने लगती है। इसके साथ ही नाभि खिसकने पर महिलाओं को पीरियड्स में अधिक ब्लीडिंग का सामना करना पड़ता है। वैसे तो नाभि खिसकने का कोई उपचार नहीं हैं, लेकिन भारतीय चिकित्सा पद्धति यानि आयुर्वेद में योगासन और घरेलू उपचारों के माध्यम से इससे छुटकारा पाया जा सकता है। इसलिए आज हम आपको नाभि खिसकना क्या है, नाभि खिसकने के कारण, लक्षण और उपचार बता रहे हैं।

क्या होता है नाभि खिसकना, इसके लक्षण, कारण और उपचार

Health Tips : नाभि खिसकना या नाभि उतरना, जैसे शब्द आपने जरूर सुने होगें। नाभि खिसकने पर अक्सर पीड़ित व्यक्ति को पेट में दर्द या दस्त की समस्या का सामना करना पड़ता है। नाभि खिसकना के उल्लेख आमतौर पर आयुर्वेद और यूनानी चिकित्सा पद्धति में बेहद विस्तार से मिलता है। आयुर्वेद के अनुसार जिस तरह रीढ़ की हड्डी में चोट लगने पर उसमें टेढ़ापन आ जाता है। उसी तरह पेट में नाभि के खिसकने से पाचन तंत्र की कार्यप्रणाली में बाधा उत्पन्न होने लगती है।

इसके साथ ही नाभि खिसकने पर महिलाओं को पीरियड्स में अधिक ब्लीडिंग का सामना करना पड़ता है। वैसे तो नाभि खिसकने का कोई उपचार नहीं हैं, लेकिन भारतीय चिकित्सा पद्धति यानि आयुर्वेद में योगासन और घरेलू उपचारों के माध्यम से इससे छुटकारा पाया जा सकता है। इसलिए आज हम आपको नाभि खिसकना क्या है, नाभि खिसकने के कारण, लक्षण और उपचार बता रहे हैं।

नाभि खिसकना क्या होता है

नाभि खिसकना यानि नाभि के स्थान पर नाड़ी का ऊपर या नीचे की ओर खिसकना। नाभि स्थान पर नब्ज की तरह महसूस होने वाली नाड़ी का अपने जगह से ऊपर या नीचे की ओर खिसकना ही नाभि खिसकना कहलाता है।





नाभि खिसकने के कारण :

1. भारी सामान उठाना

2. ऊंची जगह से कूदना

3. तेज दौड़ना

4. अचानक झुकने

5. मानसिक तनाव

नाभि खिसकने के लक्षण :

1. पेट में दर्द रहना

2. दस्त होना

3. शरीर में कमजोरी आना

4. पीरियड्स का अनियमित होना





नाभि खिसकने का उपचार :

1. नाभि खिसकने को ठीक करने के लिए सबसे पहले सख्त जगह पर लेटकर नाभि के खिसकने का परीक्षण करें, फिर हाथ या पैर के प्रेशर प्वाइंट्स को दबाकर या उनकी मसाज करके नाभि को ठीक करें। याद रखें ये सिर्फ किसी जानकार की मदद से ही करवाएं।

2. नाभि को योगासान के माध्यम से भी ठीक किया जा सकता है। इसके लिए नौकासान, भुजंगासान, धनुरासान, मकरासान आदि बेहद फायदेमंद होते हैं।

3.नाभि के स्थान पर किसी बोतल या मजबूत चीज से पेट को घुमाने से भी नाभि अपने स्थान पर आ जाती है। लेकिन ये उपाय हमेशा किसी बड़े की देखरेख में ही करें।

Next Story
Top